ताज़ा ख़बर

LIVE TV

VICHAR NEWS

*अलीराजपुर~खनीज इंस्पेक्टर को अगवाह करने वाले 3 आरोपी चडे पुलिस के हथ्थे*~~

*3 मे से एक आरोपी नाबालिक सभी आरोपी अलीराजपुर जिले के चान्दपुर के निवासी*~~

*अपहरण कर्ताओ ने खनिज विभाग द्वारा भैदभाव करने को लेकर अपहरण जैसे अपराध को अंजाम दिया*~~

✍🏻जुबेर निज़ामी की रिपोर्ट ✍🏻
अलीराजपुर 📲9993116518~~

अलीराजपुर खनिज इंस्पेक्टर के अगवा मामले मे पुलिस ने दबिस देकर दिपा की चौकी से  4 आरोपीयो को पकडा जो कि अलीराजपुर जिले के चान्दपुर निवासी है जब की एक आरोपी इन्दौर निवासी है और एक नाबालिग है।
पकडे गये आरोपी (1) दिपक पिता भारतसिग चौहान उम्र 22 वर्ष निवासी शनि नगर मुशाखेडी इन्दौर, (2) नरेश उर्फ राजु पिता प्रवीण टेगौर उम्र 24 निवासी साजनपुर खाडा फलिया चान्दपुर, (3) दिनेश उर्फ दिनशिया पिता भैरु वास्केल उम्र 19 वर्ष निवासी आगलगोटा वास्केल फलिया चान्दपुर , (4)  नाबालीग उम्र 17 वर्ष निवासी चान्दपुर, जिनको पुलिस न्यायालय मे पेश कर डिमान्ड की मांग कर पूछताछ करेगी।

प्रथम जाँच पूछताछ मे आरोपियों द्वारा ये बताया गया की खनीज इंस्पेक्टर को अगवा करना या हानि पहुचाना मकसद नही था बस खनिज इंस्पेक्टर को ये बताना था की इन गाड़ियों पर कार्यवाही क्यो नही करते हो खनिज इंस्पेक्टर द्वारा भेद भाव किया जा रहा था पैसे लेकर ऑवरलोडिग ट्रक और डम्फर को छोड दिया जाता है और रॉयल्टी होने के बाद भी हमसे पैसो की डिमांड की जाती है और न देने पर हमे परेशान करने के लिये हम पर कार्यवाही करते थे चान्दपुर तरफ से प्रति दिन सैकडो ट्रक गुजरात से ऑवरलोडिग एवं बगेर रॉयल्टी अंडर बिलिग के पास करते है जो नियम के विरुद्ध है और इसमे खनिज इंस्पेक्टर किराडे पुरी रात अवैध वसूली करते है और पुरी रात रोड पर घूमते रहते है।

हम विचार न्यूज प्रतिनिधि  खनिज इंस्पेक्टर के  अपहरण की घटना का विरोध करते है मगर कहि ना कही ये सिस्टम की नाकामी की वजह से इन लोगो ने अपहरण जेसी घटना को अंजाम दिया है। यदि सिस्टम और जिला  प्रशासन इस घटना को गंभीरता से लेते हुऐ इसकी सही तरीके से जाँच करवाए तो कही न कही ये खनीज विभाग की नाकामी और भ्रष्टाचार को उजागर कर सकती है। क्योकी जहा भी कोई क्राईम  होता है तो पीड़ित कही न कही सिस्टम की नाकामी का सिकार होकर इस तरह का गंभीर अपराध कर लेता है।
आपको बता दे 4 आरोपीयो मे एक नाबालिग है तो 3 आरोपियों की उम्र 22 से 24 वर्ष की है इतनी छोटी उम्र मे  इतना बडा अपराध करना कही न कही खनिज विभाग को भी संका के घेरे मे खडा करता है अपहरण कर्ताओ का यही कहना है की खनीज इंस्पेक्टर को बताना था की आप ऑवरलोडिग पर कार्यवाही क्यो नही करते।

आपको बता दे जिले मे खनिज विभाग द्वारा इक्का दुक्का कार्यवाही होती है वो भी अपना कोटा पुरा करने के लिये हम पहले भी लिख चुके है की खनिज विभाग द्वारा जिले मे भारी भ्रष्टाचार किया जा रहा है जिसका सुबूत थाना कोतवाली मे लगे सीसी टीवी केमरे से मिल सकता है कितने ट्रक डम्फर ऑवरलोडिग बगैर रॉयल्टी के बे खोप गुजर रहे है मगर खनिज विभाग अवैध वसूली करने मे मस्त है। जब की रॉयल्टी अंडरलोड   पारसीन्ग  के हिसाब से आती मे मगर ऑवरलोडिग चल रही है और अधिकारी आख मुन्दकर बैठे है। जिले मे अधिक से अधिक एक माह मे कितने वाहनो पर कार्यवाही हुई वो भी मिडिया को नही बताते है ।


VICHAR NEWS


झाबुआ~यातायात पुलिस कर्मियों का कारनामा-वाहन के चालान जुर्माने की राशि मे सरकारी रसीद की मूल एव कार्यालय प्रति में अंतर~~ 





अधिकारियों की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे मे~~





झाबुआ। संजय जैन~~

मप्र मैं यातायात के प्रति वाहन चालकों को जागरुक बनाने के लिए चलाया जा रहा यातायात सप्ताह अभियान पुलिस कर्मियों के लिए दूध देती गाय बन गया हैं। जिला मुख्यालय पर तैनात पुलिस कर्मी चालकों को अभियान की जानकारी देने के बजाय चालान काटने की ओर अधिक ध्यान दे रहे हैं, उनकी यह कार्यप्रणाली संदेह के घेरे मे बनी हुई हैं। 





कार्बन कॉपी की रसीद मे रहता हैं अंतर ......





चालान के माध्यम से वसूली कर चालकों को थमाई जा रही मूल रसीद और विभाग के पास जमा रसीद बुक की कार्बन कॉपी की रसीदों की राशि मैं काफी अंतर दिखाई देता हैं। उनकी और से काटे जाने वाले चालान की रसीद जो चालकों को थमाई जाती है उसमें और कार्बन कॉपी की रसीद मे कितना अंतर रहता हैं। इसे एक नजर में ही भांपा जा सकता है। चालकों से वसूली करने के बाद राशि मैं हेराफेरी करना विभाग के कर्मियों का शगल बना हुआ हैं। ऐसी ही तीन रसीदे हमारे प्रतिनिधि को देखने को मोबाइल के माध्यम से मिली है। मसलन जाफ र नामक चालक को चालान काटकर थमाई गई रसीद मे एक हजार रूपए की राशि दर्ज है जबकि उसी रसीद की कार्यालय में रखी जाने वाली कार्बन कॉपी जिसे केशबुक एवं लेखों में एंद्राज करना होता है ,मे पॉच सो रुपए ही दर्ज किया साफ  साफ  दिखाई दे रहा हैं। इसी प्रकार रईस और दशरथ नामक चालकों का काटा गया एक- एक हजार रुपए के चालान की कार्बन कॉपी मे भी 500-500 रुपए दर्ज किया हुआ स्पष्ट नजर आ रहा हैं। हांलाकि की यह रसीदे माह अप्रैल 2019 की हैं, जो लोकसभा चुनाव के आसपास की चालानी रसीदें है। उस समय चालान काटने वाले यातायात प्रभारी वही थे जो आज भी कार्यरत हैं। इसकी अगर गंभीरता से जांच की जाए तो निश्चत तौर पर चौकाने वाले तथ्य प्रकाश में आ सकते है ।





नियोजित तरीके से शासन को राजस्व की हानि ....





चालान के जुर्माने की एक हजार व कार्बन कापी की पांच सौं रुपए की रसीदों के मिलने से राशि की बंदरबाट होने और विभाग की और से दो रसीद कट्टों का इस्तेमाल कर या फिर कार्बन को हटाकर रसीदे बनाने की संभावना को इंकार नही किया जा सकता हैै। इस प्रकार नियोजित तरीके से शासन को राजस्व की हानि पहुंचाने का संदेह बना हुआ है।





कार्बन कॉपी और मूल कॉपी.....किसी एक कर्मचारी का खेल नहीं 





यातायात विभाग की चालानी रसीदो मे एक ही प्रकार की कार्बन कॉपी और मूल कॉपी में यातायात कर्मियों की वजह से कारगुजारी देखने को मिल रही है। यह रसीद मूल रूप से तो 2019 की है,जिसमें यातायात कर्मियों ने अपनी गांधी छाप नोटों के चक्कर में मूल कॉपी में रुपये 1,000 अंकित कर रखे हैं वही उसी की कार्बन कॉपी में रुपये 500 अंकित कर मुंह में राम बगल में छुरी रख कर काम कर विभाग को व राजस्व को चूना लगाने से भी नहीं चूक रहे हैं। आखिर इसमें इतनी बड़ी धांधली हो रही है वह जिम्मेदार अधिकारियों को क्यों नहीं दिखाई दे रही है...?  वही इन रसीदो से साफ  जाहिर हो रहा है कि इस काम के पीछे कई कर्मचारी शामिल है क्योंकि यह किसी एक कर्मचारी का कारनामा का खेल नहीं दिखाई दे रहा है।





मूल और कार्बन कॉपी रसीदो का सच......





वाहनों की चालानी कार्रवाई में जो रसीदें हमारे मोबाइल पर पहुंची है वह इस प्रकार है कि रसीद कट्टा क्रमांक 4823 की एक ही तारीख में दो रसीद हमें प्राप्त हुई है जिसमें रसीद नंबर 35 व 36 पर मुल रसीद पर एक एक हजार की चलानी रसीदें काटी गई थी और वही इनकी कार्बन कॉपी पर 500  रुपए की दो रसीदो यातायात कर्मियों के कारनामे दिखाई दे रहे हैं। यह दोनों रसीदे 16.4.2019 की है। वहीं एक रसीद इसके पहले की है जो रसीद कट्टा क्रमांक 4824 और रसीद नंबर 63 पर दिखाई दे रहा है,जो जनवरी 2019 की रसीद है। जिस में भी ओरीजिनल रसीद पर रु.1,000 अंकित किए गए हैं वही कार्बन कॉपी पर रु.500 अंकित कर इस प्रकार का गोरख धंधा करने से यातायात कर्मी बाज नहीं आ रहे हैं। यदि जनवरी 2019 से लेकर अप्रैल 2019 तक तीन रसीदें दिखाई पड़ती है और चार माह इनके बीच में आ रहे हैं यदि यातायात कर्मियों ने अपने कारनामों को सतत अंजाम दिया होगा तो कितनी बड़ी राशि एकत्र की होगी ...? बड़े पैमाने पर इन्होंने राजस्व को भी घाटे में पहुंचाया।





कौन-कौन है इन चालानी रसीदो के काले कारनामों में शामिल....?





यदि ईन रसीदो चालानी कार्रवाई कर रहे कर्मचारियों के बारे में बात करें तो यह बात भी सत्य है कि अकेले कर्मचारियों की इतनी हिम्मत नहीं है, कहीं ना कहीं इसमें अन्य कर्मचारी भी लिप्त हो सकते हैं। इसमें छोटा कर्मचारी रिस्क नहीं ले सकता है। अन्य कर्मचारियों के आशीर्वाद के बगैर इस प्रकार का कृत्य करना छोटे कर्मचारी के लिए मौत के कुए से कम नहीं आंका जा सकता। इसमें और भी कर्मचारी शामिल हो सकते हैं ...? यह जांच का विषय है।





माना की रसीदें पुरानी है लेकिन अधिकारी यहीं पर पदस्थ है......





माना कि यह रसीदें 1 साल पुरानी है लेकिन यह भी सोचनीय प्रश्न है कि इन चालानी रसीदो पर जिनके साइन है वह मुख्यालय पर ही अपने पद पर बने हुए हैं। इन चालानी रसीदो को देखकर लगता है कि इसकी भनक जिले के कप्तान तक पहुंची या नहीं पहुंची यह तो हम नहीं जानते ...? क्या जिन जिम्मेदारों ने इस चालानी कार्रवाई में मूल व कार्बन कॉपी मैं राशि को गलत दर्शा रखा है उन पर क्या एक्शन होगा यह आने वाला समय बताएगा.....?





एमपीटीसी 6 की हर रसीद की होती है केशबुक में दर्ज....





हर शासकीय कार्यालय में शासकीय धन की प्राप्तियो ं के लिये वित्तिय नियमों के तहत एमपीटीसी-6 रसीद बुक कोषालय के माध्यम से या शासकीय प्रादेशिक मुद्रणालयों से मांगपत्र के अनुसार प्रदाय की जाती है । इन रसीद बुकों को विधिवत स्टाक रजिस्टर मेंदर्ज करके प्रत्येक रसीद बुक का हिसाब रखा जाता है । सरकारी कार्यालयों द्वारा इन रसीद बुकों को अपने अधीनस्थो जिनके द्वारा केश एकत्रित किया जाता है , को प्रदान की जाती है और हर रसीद के माध्यम से प्राप्त धनराशि को विभाग की केशबुक में पृविष्ठ किया जाना अनिवार्य होता है। यदि रसीद बुक के मान से रकम जमा नही होती है तो सबंधित के विरूद्ध वित्तय अनियमितता की कार्रवाही भी हो सकती है । यदि मुल रसीद एवं उसकी कार्बन कापी में राशि का अन्तर हो तो इसे गभीर अनियमितता माना जाता है। विभाग के महालेखाकार टीमों द्वारा आडिट के समय भी प्रत्येक रसीद से प्राप्त रकम की पुष्टि भी आडिट दल करता ही है। ऐसे में इन संदिग्ध रसीदों को लेकर सवाल उठता है कि क्या इस प्रकार से किया गया कृत्य अस्थाई गबन आदि की श्रेणी में नही आता है ...? इस पर भी विभाग को संज्ञान लेकर कार्यवाही करना चाहिये ।





जिम्मेदार बोले-.....





आपने हमें जानकारी में बताएं हैं हम इसे वेरीफाई करवा लेते है ।





......विनित जैन- पुलिस अधीक्षक झाबुआ




VICHAR NEWS


झाबुआ~राज्य शिक्षा केन्द्र के निर्देशों को अनदेखा कर जिला शिक्षा केन्द्र ने प्रधानपाठको के स्थान पर अपने चहेतों को भेजा निष्ठा कार्यक्रम के प्रशिक्षण में ~~





जिले में शिक्षा की गुणवत्ता पर खडे हो रहे सवाल ~~

क्या झाबुआ जिले में प्रधान पाठक के सभी पद रिक्त है.~~





झाबुआ। संजय जैन~~

 राज्य शिक्षा केन्द्र के निर्देशों को धत्ता बता कर मन मर्जी से प्रदत्त निर्देशों से उलट जिला शिक्षा केन्द्र,सर्व शिक्षा अभियान झाबुआ द्वारा मनमाने तौर पर निष्ठा कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रधान पाठक अथवा मास्टर फेसिसीलेटर(डीआरजी) को राजधानी भोपाल में चल रहे पाच दिवसीय प्रशिक्षण 21 जनवरी से 25 जनवरी तक के लिये जिले से प्रदत्त निर्देशो के अनुसार भेजा जाना चाहिये था किन्तु जिला परियोजना समन्वयक एलएन प्रजापत द्वारा अपने चहेतों और उन्हे येन केन प्रकारेण्रा उपकृत करने वालों को कलेक्टर झाबुआ को अंधेरे में रख कर तथा उनका अनुमोदन प्राप्त करके प्रशिक्षण के लिये भेज दिया गया है। 




भेजा जाना चाहिये था प्रधानपाठक,डीआरजी को.... 





जिले से भेजे गये 10 चयनीत प्रशिक्षणार्थियों में ऐसे व्यक्तियों का चयन हुआ है तो राज्य शिक्षा केन्द्र के निर्देशो के अनुसार प्रशिक्षण प्राप्त करने की पात्रता ही नही रखते है। जबकि इसमें प्रधानपाठक,डीआरजी को भेजा जाना चाहिये था। इसमें भी प्राथमिकता प्रधान पाठक की रहती है। परन्तु जिला शिक्षा केन्द्र द्वारा भेजे गये 10 कर्मचारियों में मानसिंह हटिला एपीसी इएण्डआर,चन्दन भाबर प्राथमिक शिक्षक,इदरिश खान बीएसी, मोहम्मद शाह सहायक शिक्षक,भारतसिंह चौहान,सहायक शिक्षक,पंकज बैरागी,माध्यमिक शिक्षक,बिहारीलाल सोनी सेवा निवृत शिक्षक, अतिक हुसैैन कुर्रेशी माध्यमिक शिक्षक को प्रधान पाठक बताकर ,गजेन्द्रसिंह चंद्रावत माध्यमिक शिक्षक, चन्द्रशेखर श्रीवास्तव प्राथमिक शिक्षक को इस कार्यक्रम के प्रशिक्षण के लिये भेज दिया गया है।




क्या झाबुआ जिले में प्रधान पाठक के सभी पद रिक्त है...? 





ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी है  कि क्या झाबुआ जिले में प्रधान पाठक के सभी पद रिक्त है...? या प्रधानपाठकों का जिले मे अभाव है ....? या फिर एक भी प्रधान पाठक प्रशिक्षण में जाने के योग्य ही नही है.....? ऐसे कइ्र्रं सवाल चर्चा का विषय बने हुए है । यदि प्रधान पाठक नही जासकते थे तो उनकी बजाय डीआरजी को चयनीत करके राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा जारी चयन सूची के अनुसार भेजा जासकता था किन्तु जिला शिक्षा केन्द्र द्वारा उक्त चयनीत सूची को भी पूरी तरह नजर अंदाज कर दिया गया है ।इस तरह जिला शिक्षा केन्द्र के परियोजना समन्वयक द्वारा या तो राज्य शिक्षा केन्द्र के निर्देशो को पढा ही नही गया होगा या फिर इसे जानबुझ कर नजरा अंदाज करके तथा कलेक्टर को गुमराह करके अनुमोदन करवा कर अपने  कृपा पात्रों को चयनीत करने में कोई कसर बाकी रखी गई हो ऐसा नही लगता है। जाहिर है जिले के डीपीसी की इस तरह की भूमिका एवं कार्यपद्धति से जिले में शिक्षा में गुणवत्ता का स्तर बढेगा यह कोरी कल्पना के अलावा कुछ नही होगा ।




जिम्मेदारो से नही हुआ संपर्क-....





इस बात को लेकर संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र आईरिन सिंधिया जे.पी.से मोबाईल नम्बर 9425172700 पर संपर्क स्थापित करने प्रयास किया। संचालक के पीए द्वारा बताया कि मेडम के मिटिंग में व्यक्त होने के कारण उनसे चर्चा नही हो पायेगी। लम्बे इंतजार तक उनसे संपर्क नही हो पाया। वही झाबुआ कलेक्टर प्रबल सिपाहा से संपर्क स्थापित करना चाहा किन्तु उन्होने मोबाईल रीसिव नही किया । 




-जो बोल सकें तथा प्रशिक्षण दे सकें.....





जिला शिक्षा केन्द्र के परियोजना समन्वयक एलएन प्रजापति से संपर्क करने पर उनका कहना था कि प्रशिक्षण में ऐसे लोगो को भेजा गया है जिनकी सेवायें उपयोगी होकर जो बोल सकें तथा प्रशिक्षण दे सकें। अधिकतर प्रधान पाठक 60 वर्ष से अधिक आयु के होने को है। तथा जिनकी सेवायें आगामी 4-6 सालों तक सेवाये ली जा सकती है इसलिये ऐसे लोगों को चयनीत करके प्रशिक्षण में भेजा गया है ।





......एलएन प्रजापति-डीपीसी 








VICHAR NEWS

।।  *सुप्रभातम्*  ।।
               ।।  *संस्था  जय  हो*  ।।
        ।।  *दैनिक  राशि  -  फल*  ।।
        आज दिनांक 23 जनवरी 2020 गुरुवार संवत् 2076 मास माघ कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि मध्य रात्रि पश्चात 02:24 बजे तक रहेगी उपरांत अमावस्या तिथि लगेगी । आज सूर्योदय प्रातः काल 07:18 बजे एवं सूर्यास्त सायं 06:02 बजे होगा । पूर्वा षाढा नक्षत्र मध्य रात्रि 01:23 बजे तक रहेंगा पश्चात उत्तरा षाढा नक्षत्र आरंभ होगा । आज का चंद्रमा धन राशि में दिन रात भ्रमण करते रहेंगे । आज का राहू काल दोपहर 02:01 से 03:23 बजे तक रहेंगा । दिशाशूल दक्षिण दिशा में रहेंगा यदि आवश्यक हो तो जीरा का सेवन कर यात्रा आरंभ करें । जय हो

                  *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
         श्री मंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245,एम.जी.रोड (आनंद चौपाटी )धार ,एम.पी.
                  मो. नं.  9425491351

                   *आज का राशि फल* 

          मेष :~ क्रोध की अधिकता रहने से काम बिगड सकता हैं । अतः गुस्से पर नियंत्रण रखना पड़ेगा। आफिस में अधिकारियों और घर में कुटुंबीजनों तथा विरोधियों के साथ वादविवाद में पड़े बिना मौन रहकर दिन व्यतीत करें । किसी धार्मिक कार्य में या धार्मिक कार्य में या धार्मिक स्थान में जाने का अवसर आएगा।

          वृषभ :~ अत्यधिक कार्यभार और खानपान में लापरवाही से आपका स्वास्थ्य खराब होगा। समय से भोजन और नींद न लेने के कारण मानसिक रूप से बेचैनी अनुभव होगा। प्रवास टाले । निर्धारित समय कार्य पूरा नहीं होगा । योग ध्यान और आध्यात्मिक पठन राहत देगी। 

          मिथुन :~ मौज- मस्ती और मनोरंजन में आपकी विशेष रुचि होगी। कुटुंबीजन मित्र मंडल या प्रिय व्यक्ति के साथ बाहर घूमने- फिरने जाएंगे । सार्वजनिक जीवन में मान प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी। आपके हाथ से दान- धर्म के कार्य होंगे।

          कर्क :~ आज का दिन खुशी और सफलता का है। परिवार में सुख-शांति बनी रहेगी। नौकरीपेशा वालों को आफिस में अनुकूल वातावरण रहेगा। नौकर वर्ग औऱ ननिहाल पक्ष से लाभ होगा। स्वास्थ्य बना रहेगा। आर्थिक लाभ होगा। आवश्यक खर्च होंगे। प्रतिस्पर्धियों को परास्त कर सकेंगे।

          सिंह :~ आज आप शारीरिक मानसिक स्वस्थता से काम करेंगे। सृजनात्मक प्रवृत्तियों में विशेष दिलचस्पी रहेगी। साहित्य और कला के क्षेत्र में कुछ नए सृजन करके प्रेरणा मिलेगी। प्रेमीजनों एवं प्रिय व्यक्तियों के साथ मुलाकात होगी । संतानों के शुभ समाचार मिलेंगे। धार्मिक या परोपकार कार्य आपके मन को आनंदित करेंगे।

          कन्या :~ आज आप प्रतिकूलताओं का सामना करने के लिए तैयार रहें । शारीरिक स्वास्थ्य के सम्बंध में शिकायत रहेगी। मन पर चिंता का बोझ रहने से मानसिक बेचैनी रहेंगी । पारिवारिक सदस्यों के साथ खटपट होगी । माता के स्वास्थ्य के सम्बंध में चिंता रहेगी । पढ़ाई के लिए अनुकूल समय नहीं है। स्थाई संपत्ति, वाहन से सम्बंधित समस्याएँ निर्मित होंगी। धन खर्च होगा।

          तुला :~ वर्तमान समय भाग्यवृद्धि का होने से साहस और कार्य हाथ में ले । योग्य जगह पर पूँजी निवेश लाभ दायक रहेगा। परिवार में भाई- बंधुओं के साथ आत्मीयता और मेल- मिलाप रहेगा। छोटे धार्मिक यात्रा का आयोजन कर सकेंगे। विदेश से अच्छे समाचार मिलेंगे।

          वृश्चिक :~ आपको नकारात्मक मानसिक वृत्ति टाले । न बोलने में नौगुण की नीति अपनाकर चलेंगे तो पारिवारिक सदस्यों के साथ संघर्ष से बच सकेंगे। स्वास्थ्य सम्बंधी शिकायत रहेगी। अनावश्यक खर्च पर अंकुश लगाए । विद्यार्थियों को पढ़ाई में अवरोध आएगा।

          धनु :~ आज आपके निर्धारित कार्य में सफलता और आर्थिक लाभ है । सपरिवार माँगलिक प्रसंग में उपस्थित होंगे। प्रवास की, विशेष रूप से किसी तीर्थयात्रा की संभावना है। स्वजनों के साथ मिलन आपको हर्षित करेगा। दांपत्यजीवन में निकटता और मधुरता का अनुभव करेंगे। समाज में यश और कीर्ति में वृद्धि होगी।

          मकर :~ आज आप धार्मिक और आध्यात्मिक प्रवृत्तियों में अत्यधिक व्यस्त रहेंगे। पूजा- पाठ या धार्मिक कार्य के पीछे धन खर्च होगा। सगे- सम्बंधियों तथा परिवारजनों के साथ संभलकर बोलें क्योंकि आपकी वाणी से किसी को चोट पहुँच सकती है। अधिक परिश्रम से कम सफलता मिलने से हताशा पैदा होगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। 

          कुंभ :~ नौकरी धंधे में लाभ के साथ अतिरिक्त आय होगी । मित्र वर्ग, विशेष रूप से स्त्री मित्रों से आपको लाभ होगा। सामाजिक क्षेत्र में आप ख्याति और प्रतिष्ठा प्राप्त कर सकेंगे। पत्नी और पुत्र की तरफ से आप सुख और संतोष अनुभव करेंगे। प्रवास, पर्यटन और वैवाहिक संयोग है। तन-मन से आनंदित रहेंगे।

          मीन :~ आज का दिन शुभ फलदायक है। काम की सफलता और उच्च पदाधिकारियों का प्रोत्साहन आपके उत्साह को दोगुना करेंगे। व्यापारियों को भी व्यापार और आय में वृद्धि होगी। बकाया राशि का भुगतान होगा। पिता एवं बुजुर्ग वर्ग से लोग होगा। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। परिवार में सुख- शांति रहेगी। उन्नति के संयोग बनेंगे। सरकार की तरफ से लाभ होगा। ( डाँ. अशोक शास्त्री )

।।  शुभम्  भवतु  ।।  जय  सियाराम  ।।
।।  जय  श्री  कृष्ण  ।।  जय  गुरुदेव  ।।