देपालपुर~ विधान सभा क्षेत्र 203 देपालपुर~~

पोलिंग बूथ 297~~

कुल मतदाता  2 लाख 27 हजार 23 ~~

विमल फौजी देपालपुर~~

विधान सभा क्षेत्र 203 देपालपुर।
पोलिंग बूथ 297
कुल मतदाता  2 लाख 27 हजार 23
पुरुष मतदाता 1 लाख 17 हजार 43
महिला मतदाता 1 लाख 09 हजार 971
किन्नर मतदाता 09
प्रतियाशी मैदान मे 12
2013 के वोट

भाजपा : मनोज पटेल : 93,264
कांग्रेस : सत्यनारायण पटेल : 63,067

भाजपा की बढ़त 30 हजार 198

देपालपुर विधान सभा में अबतक रहे विधायक ।
1957 सज्जन सिंह विशनार इंडियन नेशनल कांग्रेस,
1962 बापूसिंह समाजवादी पार्टी
1967 भागवत साबू इंडियन नेशनल कांग्रेस।
1972 रामचंद्र अग्रवाल इंडियन नेशनल कांग्रेस
1977 रतन पटोदी जनाता पार्टी
1980 निर्भय सिंह पटेल भारतीय जनता पार्टी
1985 रामेश्वर पटेल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ।
1990 निर्भय सिंह पटेल भारतीय जनता पार्टी।
1993 निर्भय सिंह पटेल भारतीय जनता पार्टी ।

1998 जगदीश पटेल इंडियन नेशनल कांग्रेस।
2003 मनोज पटेल भारतीय जनता पार्टी ।
2008 सत्यनारायण पटेल इंडियन नेशनल कांग्रेस।
2013 मनोज पटेल भारतीय जनता पार्टी।

1996 में निर्भय सिंह पटेल के निधन के बाद हुए उपचुनाव में भी कांग्रेस के जगदीश पटेल विजय हुए थे ।

5 मुद्दे 5 विकास कार्य

देपालपुर विधानसभा को क्या मिला।
क्षेत्र में चुनाव की चारों तरफ रंगत जमी हुई है इस बीच क्षेत्र को बीते वर्षों में क्या मिला और किसकी प्रतीक्षा अभी भी जारी है ।

01  क्षेत्र को नर्मदा गंभीर लिंक परियोजना की सौगात मिली।
02 चार बड़े पुलों का निर्माण भी क्षेत्र में हुआ ।
03अतिरिक्त सत्र न्यायालय की घोषणा गजट नोटिफिकेशन में।
04  क्षेत्र में 8 बड़े  रोड।
05  प्रत्येक गांव में पीने के पानी की टंकी । आदि कई छोटे-मोटे योजनाएं भी क्रियान्वित हुई है।

मगर क्षेत्र में आज भी इन सुविधाओं का है अभाव ।
01 क्षेत्र के युवाओं को रोजगार का अवसर सुलभ नहीं हो पाया।
02   स्वास्थ्य सेवाओं के लिए चिकित्सालय एवं  डॉक्टरों का अभाव।  महिला चिकित्सा सुविधा के लिए महिला डॉक्टर का वर्षों से अभाव।
03  उच्च शिक्षा में व्यवसायिक पाठ्यक्रम क्षेत्र के युवाओं से दूर रहा।कालेज में नही है पर्याप्त विषय।  साइंस 12 वी के बाद छात्राओं का भविष्य अंधकार में।
युवाओं एवं बच्चों के लिए खेल संस्थान का अभाव।
04 यातायात किस समस्या से ग्रसित नगर के लिए बायपास की आवश्यकता
05 अतिरिक्त एवं सत्र न्यायालय की स्थापना की प्रतीक्षा।

देपालपुर में 2008 के परिसीमन के बाद  गांधी नगर और सुपर कॉरिडोर के आसपास का शहरी बेल्ट भी शामिल हो गया है। क्षेत्र में  कलौता 60 हजार राजपूत 22 हजार ,मुस्लिम 16 हजार
और  अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति 30 हजार,खाती 15 हजार, मतदाता  सहीत 80 जातियां के  कुल मतदाता 2 लाख 27 हजार के लगभग  है । इसलिए इन समाज का वर्चस्व है। जीत इन  के समर्थन पर ही तय होती है। भाजपा ने वर्तमान विधायक को चौथी बार टिकट दिया है । तो कांग्रेस ने नये चेहरे पर दाँव खेला है । जिनके पिता पूर्व में 2बार विधायक रह चुके है।

प्रदेश में चर्चित है देपालपुर विधानसभा।

देपालपुर । विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 203 मध्य प्रदेश की चर्चित विधानसभा क्षेत्रों में रही है यहां से कांग्रेस के दिग्गज नेता रामेश्वर पटेल विजय होकर प्रदेश की सरकार में मंत्री रहे तो वहीं भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता निर्भय सिंह पटेल ने भी देपालपुर से बढ़त बनाकर मध्य प्रदेश सरकार में वन मंत्री व ग्रामीण पंचायत विकास मंत्री के रूप में भागीदारी कर क्षेत्र को प्रदेश स्तर पर पहचान दिलाई।

कभी कांग्रेस कभी भाजपा को मिली  विजय।
1957 से 2013  तक कुल 13 बार विधानसभा के   चुनाव हुए हैं जिसमें से 6 बार कांग्रेस 5 बार भारतीय जनता पार्टी एक बार समाजवादी पार्टी एक बार जनता पार्टी विजय हुई है वही 1996 निर्भय सिंह पटेल निधन के बाद हुए उपचुनाव में भी यहां कांग्रेस विजय हुई थी। इस प्रकार क्षेत्र का मूल स्वभाव कांग्रेस का ही रहा है।

किसी भी प्रत्याशी ने दो बार का कार्यकाल पूरा नहीं किया

1957 से 2013 के सभी चुनाव में हर बार क्षेत्र की जनता जनार्दन ने अलग अलग पार्टी के प्रत्याशी को ही  चुना है  इस कड़ी में स्वर्गीय निर्भय सिंह पटेल को 1990 के मूल चुनाव में व आयोध्या काण्ड में पटवा सरकार की बर्खास्तगी के बाद 1993 में हुवे चुनाव में
दो बार लगातार जीत हासिल की । वही 1996 के उप चुनाव में व 1998 के मूल चनाव में कांग्रेस के जगदीश पटेल दो बार विजय हुवे। मगर दोनों ने लगातार जित हासिल की मगर कार्यकाल पूरा नही किया।  इस प्रकार इस विधानसभा क्षेत्र से किसी भी प्रत्याशी ने चाहे वह कांग्रेस का हो या भाजपा का लगातार दो बार का कार्यकाल पूरा नहीं किया।

इस बार के चुनाव में भाजपा ने अपने पुराने चेहरे व स्वर्गीय निर्भय सिंह पटेल के पुत्र वर्तमान विधायक मनोज पटेल पर अपना दावा जमाया है तो वहीं कांग्रेस ने पूर्व विधायक जगदीश पटेल के पुत्र विशाल पटेल के रूप में नए चेहरे को अवसर दिया है। मनोज पटेल विकास एवं नर्मदा गंभीर लिंक परियोजना के माध्यम से मतदाताओं से रूबरू हो रहे हैं तो विशाल पटेल स्वास्थ्य, शिक्षा व चिकित्सा एवं बेरोजगारी को प्रमुख मुद्दा बनाकर चुनाव मैदान संभाले हुए हैं। व उन्होंने कहा कि मेरा निवास देपालपुर के साथ साथ आम जनता के लिए 24 घण्टे फोन चालू तथा उनके सुख दुख में खड़े रहेंगे साथ ही किसानों को उनकी फसल का भाव इंदौर मंडी से 50 रुपये ज्यादा देते हुवे करीब 13 हजार किसान उनके यहाँ फसल बेचने के लिए रजिस्टर्ड है।

Post A Comment:

0 comments: