बैतूल~ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में 2 महीनों से जच्चा बच्चा टीकाकरण बंद~~

सचिन शुक्ला बैतूल~~

शाहपुर --सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मातृशिशु मृत्यू दर कम करने और माता बच्चें को गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए चलाए जा रहे टीकाकरण बीते 2 महीने लड़खड़ा गया है। ब्लॉक मुख्यालय के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में टीकाकरण नहीं हो पा रहा है। सप्ताह के हर मंगलवार और शुक्रवार यहां करीब 2 माह में स्वास्थ्य विभाग का स्टाफ अस्पताल में  टिके नही लगा  पा रहा है।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में टीकाकरण कार्यक्रम के लिए ऐएनएम पर्याप्त स्टाफ नहीं है।नवजात बच्चें को जन्म के बाद से ही टीके लगने प्रारंभ हो जाते है। जिसमें डेढ़ माह,ढ़ाई माह और साढ़े तीन माह में बच्चे का टीका लगाया जाता है। हर महिने अस्पताल में एएनएम की अनुपस्थिति के कारण समय पर टीकाकरण नही हो पा रहा है। जागरूक नागरिक तो  ईधर उधर ग्रामीण क्षेत्र की आंगनवाड़ियों में टिके लगाने की  पड़ताल कर  आंगनवाड़ी जाकर नियमित टीकाकरण करा लेते है लेकिन टीकाकरण की आंगनवाड़ी की जानकारी के अभाव होने पर टीकाकरण समय निकलने के बाद ही हो पाता है। शासन द्वारा मातृशिशु मृत्यु कम और बच्चों और गर्भवती मां को गंभीर बीमारी से बचाने के लिए चलाए जा रहा कार्यक्रम  ब्लॉक मुख्यालय क्षेत्र में ही बेहतर तरीके से नहीं चल पा रहा है।तो ग्रामो की क्या स्थित होगी इससे अनुमान लगाया जा सकता है । अपने आप को जनता के सेवक कहने वाले नेताओं ने  मौन व्रत कर रखा है । सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक एएनएम की ड्यूटी टिका करण के लिये लगाई जानी चाहिये।
इसओर स्वास्थ्य विभाग का जरा भी ध्यान नहीं है।

इनका क्या कहना है

*में नया आया हूं मुझे जानकारी नही है यहाँ किस तरह कार्य होता है पता करता हूं ।
    प्रभारी बीएमओ  डॉ  शिवकुमार रघुवंशी

*मैं दिखवाता हूँ टीकाकरण की व्यवस्था बनाने के लिऐ

अरुणकुमार शर्मा
सीएचएमओ बैतूल

Post A Comment:

0 comments: