भोपाल~ स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट द्वारा जे.पी. हॉस्पिटल का औचक निरीक्षण ~~

भोपाल (ताहिर कमाल सिद्दीकी)।



 लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने लापरवाही बरतने पर जे.पी. हॉस्पिटल के एक डाक्टर सहित चार मेडीकल स्टॉफ के विरुद्ध कार्यवाही के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल की व्यवस्थाओं को सुधारने में जरूरत पड़ी, तो बड़ी कार्यवाही भी की जायेगी। श्री सिलावट ने कहा कि प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों और स्वास्थ्य केन्द्रों में व्यवस्थाओं में सुधार दिखना चाहिये। व्यवस्थाओं में लापरवाही बरतने वाले चाहे वो कोई भी हों, किसी भी पद पर हों, उनके विरुद्ध सख्त कार्यवाही होगी। श्री सिलावट आज जे.पी. हॉस्पिटल की स्वास्थ्य सुविधाओं और व्यवस्थाओं का जायजा लेने औचक निरीक्षण पर पहुँचे थे। 

मंत्री श्री सिलावट ने हॉस्पिटल परिसर में मौजूद ईलाज कराने आये लोगों से सीधी बातचीत की। भीम नगर से हॉस्पिटल पहुँची श्रीमती रेखा सोनी ने बताया  कि उन्हें कई बार डाक्टर के कक्ष में जाने पर डाक्टर नहीं मिली। इस पर मंत्री श्री सिलावट ने सिविल सर्जन को संबंधित डाक्टर श्रीमती कामनी श्रीवास्तव को शोकाज नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। श्री सिलावट से श्री प्रवीण जैन ने शिकायत की कि उन्हें पर्चे में डॉक्टर द्वारा 4 प्रकार की दवाइयाँ लिखी गई हैं लेकिन दवा वितरण केन्द्र से केवल एक प्रकार की दवाई दी गई और बताया गया कि तीन दवाएँ नहीं हैं। इस पर मंत्री श्री सिलावट ने दवा वितरण केन्द्र का निरीक्षण किया। निरीक्षण में पाया गया कि प्रवीण जैन को डॉक्टर द्वारा लिखी गई 4 प्रकार की दवाईयों में से दो प्रकार की दवाइयाँ नहीं दी गई थीं, जबकि एक प्रकार की दवाई लिखी गई दवाई के नाम की न होकर दूसरे नाम की थी। श्री सिलावट ने कहा कि दवा वितरण कक्ष में फार्मासिस्ट हैं। उन्हें दूसरे नाम की दवाई, जिसका कंन्टेन्ट एक ही है, उसे क्यों नहीं दिया गया। इस प्रकार की लापरवाही अन्य मरीजों के साथ भी की जा रही है। इस पर बी.के. कुशवाह को चेतावनी जारी करने के लिये कहा गया। दवा वितरण केन्द्र में कुल 74 प्रकार की दवाओं की अनुपलब्धता होने और इन दवाओं की समय पर डिमाण्ड नहीं करने पर स्टोर प्रभारी श्री मेहन्द्र तांडेकर को तुरंत हटाने और नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। उन्होंने स्टोर में सभी प्रकार की दवाईयाँ उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। वार्ड में भर्ती मरीजों से लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने उनको मिलने वाली स्वास्थ्य सेवाओं की जानकारी प्राप्त की। महिला वार्ड में पुरानी गंदी बेडशीट मिलने पर नाराजगी जाहिर करते हुए श्री सिलावट ने इंचार्ज सिस्टर बी. बाला को वार्ड से हटाने और कारण बताओ सूचना पत्र जारी करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि वार्ड में रोजाना बेडशीट बदली जाये और मरीजों को दिये जाने वाले कम्बल ड्रायक्लीन करके ही दिये जायें।
मंत्री श्री सिलावट ने  हॉस्पिटल में मरीजों के पंजीयन काउन्टर का भी निरीक्षण किया।  इस दौरान कई मरीजों ने उन्हें बताया कि दो घंटे तक लाइन में लगना पड़ता है। इस पर श्री सिलावट ने कहा कि पंजीयन काउंटर की संख्या बढ़ाई जाये। मरीजों को ज्यादा समय लाइन में खड़े नहीं रहना पड़े, यह सुनिश्चित किया जाये। मंत्री श्री सिलावट ने हॉस्पिटल में पेयजल व्यवस्था का भी जायजा लिया

। उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल के सभी वाटर टेंक की नियमित सफाई कराई जाये और वाटर कूलर चालू रहें। उन्होंने हॉस्पिटल में स्ट्रेचर और व्हील-चेयर भी देखे। उन्होंने कहा कि स्ट्रेचर पर मरीज को हॉस्पिटल का कर्मचारी ले जाये। जिन कर्मचारियों की ड्यूटी है, उन्हें निर्देशित करें कि अपनी ड्यूटी से गैरमौजूद रहने और मरीज के परिजन स्ट्रेचर खीचते दिखें, तो उन कर्मचारियों पर कार्यवाही होगी।
मंत्री श्री सिलावट ने निरीक्षण के बाद सीएमएचओ डॉ. एन.यू. खान, प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. अनिल शुक्ला और डॉक्टर के साथ बैठक की। मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि जे.पी. हॉस्पिटल को मॉडल जिला हॉस्पिटल बनाना चाहते हैं। व्यवस्थाओं को बेहतर बनाना है। सभी डॉक्टर्स और स्टाफ समय पर मौजूद रहें, मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएँ दे। इसमें लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। मंत्री श्री सिलावट ने सभी चिकित्सालयों को भी निर्देश दिये हैं कि चिकित्सक और स्टाफ ड्रेस में रहें। उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल में व्यवस्थाओं में सुधार नजर आना चाहिये। निरीक्षण के दौरान पार्षद श्री अमित शर्मा भी मंत्री श्री सिलावट के साथ थे।

Post A Comment:

0 comments: