मुरैना~~थाने में बंद युवक ने फांसी लगाकर की आत्म हत्या,~~

ग्रामीणों ने थाने पर किया पत्थराव,थाने में पदस्थ 8 पुलिस कर्मियों को किया निलंबित~~

मुरैना~~(चम्बल संभाग ब्यूरो चीफ संजय दीक्षित)

मुरैना~~ दिमनी थाना क्षेत्र के चिंतेपुरा गांव निवासी एक ऑटो चालक को हथियारों की तस्करी के मामले में गिरफ्तार कर हवालात में बंद किया था। आरोपी ने पुलिस की ज्यादती से तंग आकर गले में पड़े कपडे से फांसी लगाकर आत्म हत्या कर ली। परिजनों ने इसे हत्या का मामला बताया है। घटना को लेकर आक्रोशित परिजनों के सहयोगियों ने पुलिस थाने का घेराव कर जमकर पथराव किया। जिसमें एक तहसीलदार और एक पुलिस कर्मी घायल हो गया और मुरैना अम्बाह मार्ग पर जाम लगा दिया। मौके पर एसपी रियाज इकबाल और एडीशनल एसपी अनुराग सुजानिया ने मोर्चे को संभाला और जनाक्रोष शांत करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े गए और कुछ हवाई फायर भी किए गए। पुलिस अधीक्षक ने घटना के समय उपस्थित पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया और घटना की जांच का आश्वासन भी दिया है। पुलिस की निगरानी में मृतक का पोस्टर्माटम कराया गया। 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रघुराज सिंह तोमर पुत्र अंगद ङ्क्षसह तोमर उम्र 40 निवासी चिंते का पुरा दिमनी थाना क्षेत्र में ही ऑटो रिक्शा चलाता था। बीते रोज अचानक पुलिस ने सर्चिंग के दौरान रघुराज को संदेह जनक स्थिति में गिरफ्तार किया। तलाशी लिए जाने पर उसके घर से हथियारों का अवैध हथियारों का जखीरा पकड़ा गया। पुलिस ने आम्र्स एक्ट में आरोपी रघुराज को हवालात में बंद कर दिया। बीती रात रघुराज ने मौका पाकर अपने आप को लज्जित महसूस कर और गले में पडे एक शॉल से बाथरूम में जाकर फांसी लगाकर आत्म हत्या कर ली। यह खबर परिजनों को लगी तो वो थाने पहुंचे थोडी देर में यह मामला समूचे क्षेत्र में आग की तरह फैल गया और भारी मात्रा में जनता एकत्रित हो गए और ग्रामीणों ने एक तरफ अम्बाह मुरैना मार्ग पर चक्कजाम कर दिया, जिससे मुरैना अम्बाह मार्ग का आवागमन अवरूद्ध हो गया। जनता का आक्रोष यहीं नहीं थमा, उग्र भीड ने थाने पर पथराव शुरू कर दिया। पुलिस कर्मी भी बचाव पक्ष में आंसू गैस से गोले छोडने लगे जब किसी मामले में आक्रोष नहीं थम रहा था तो पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में हवाई फायर किए गए। पथराव के दौरान नायब तहसीलदार आरएन शर्मा एवं दो पुलिस कर्मी घायल हो गए। पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल के मुताबिक घटना की खबर मिलते ही एसएफएल की टीम और एसडीएम मौके पर पहुंच गए थे उन्होंने भी अपनी जांच पडताल की है और घटना के समय उपस्थित एसआई अनिल भारद्वाज सहित आठ पुलिस कर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। इसके अलावा घटना की विस्तिृत जांच कराई जायेगी। दोषियों के खिलाफ कार्यवाही भी की जायेगी। घटना की खबर मिलते ही पूर्व विधायक गजराज सिंह और विधायक दिमनी गिर्राज डण्डौतिया के भाई भी मौके पर पहुंच गए लेकिन इस दौरान भाई राधेश्याम तोमर का कहना था कि रघुराज को निर्दोष फंसाया गया है ऑटो चलाकर अपना पेट पालता था, उससे दो लाख रूपये भी छोडने के संबंध में मांगे गए थे और उन्होंने यह भी बताया कि पुलिस के कुछ लोग रात 10 बजे आकर भाई की बच्ची से कोरे कागज पर दस्तखत करा ले गए। घटना को लेकर जिले भर में आक्रोष व्याप्त है। पुलिस की कार्यवाही पर राजनैतिक और सामाजिक लोगों ने प्रश्न चिन्ह लगाया है। लेकिन पुलिस इस मामले को सामान्य घटना मानकर कार्यवाही कर रही है। 
।मृतक का भाई राधेश्याम तोमर ने बताया कि
रघुराज ने आज तक कोई अपराध नहीं किया है, ऑटो चलाकर वह अपना पेट पालता था। पुलिस के कर्मचारियों ने उसको जबरन टारगेट बनाकर पकड़ा और उस पर अनाधिकृत रूप से हथियार रख दिए और थाने में बंद कर दिया। इसके बाद पुलिस ने दो लाख रूपये लेकर छोडऩे को कहा। हमारे पास व्यवस्था नहीं थी, तब तक पता चला कि हथियारों के अपराध में मामला दर्ज हो गया है मैं वकील से मिलने जा रहा था तब मुझे पता चला कि उसकी हत्या कर थाने में रख दिया। उसके दो छोटे बच्चे हैं यह पुलिस का गंदा और घिनौना कृत्य है। पुलिसवालों के विरूद्ध 302 का मामला दर्ज किया जाये और मासूम बच्चों को पालने के लिए मुआवजा दिया जाये।एसपी रियाज इकबाल ने बताया कि
मुझे घटना का पता चलते ही मैं थाने पर पहुंचा और हालातों का जायजा लेने के बाद पता चला कि आरोपी रघुराज के पास से हथियार पकडे गए थे, उसको बंद किया गया था लेकिन उसने बाथरूम में जाकर अपने कपडे से आत्म हत्या की है। मैंने पुलिस कर्मियों की लापरवाही को मानते हुए थाना प्रभारी अनिल भारद्वाज सहित 8 पुलिस कर्मियों को निलंबित किया है और घटना की मजिस्टे्रट जांच के आदेश दे दिये हैं और एसएफएल की टीम से सर्वेक्षण कराया गया है और मौके पर एसडीएम और नायब तहसीलदार को बुलाकर उनसे भी कार्यवाही कराई गई है और दोषी पाये जाने पर किसी को भी नहीं बक्शा जायेगा।


Post A Comment:

0 comments: