*सेगाव~किसानों को छ हजार की खेरात नहीं...स्वामीनाथन की रिपोर्ट चाहिए*~*धीरज मिश्रा*~~

*किसानों को पूर्ण कर्जमुक्त किया जावे*~~

*मुख्यालय पर बुधवार को राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के बैनर तले होगा धरना प्रदर्शन*~~

✍सेगाव से संतोष गोयल की रिपोर्ट~~


सेगाव_वर्ष 2014 में जनता ने मोदी जी के वादों पर विश्वास कर उन्हें 2014 में वोट दिया था,लेकिन लगभग पांच साल पूरे होने के बाद भी वो सब वादे पूरे न होने पर देश की जनता ठगा हुआ सा महसूस कर रही है।
   यह बात मंगलवार को राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के जिला उपाध्यक्ष धीरज मिश्रा द्वारा तहसील के समस्त किसानों के साथ विभिन्न मांगो को लेकर तहसील कार्यालय पहुंचकर एक ज्ञापन प्रधानमन्त्री के नाम रीडर पी एस डुडवे को प्रस्तुत किया।
  ज्ञापन का वाचन कर मिश्रा ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के आदेशानुसार आज हमने विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा है और कल बुधवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष के आदेश पर तहसील मुख्यालय से गांव पर राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के बैनर तले मुख्य मार्ग पर धरना आंदोलन दिया जाएगा।
   इस अवसर पर सुनील मंडलोई राकेश पटेल हीरालाल राठौड़ देवकरण खाटरीया अशोक यादव बद्री लाल आदि किसान मौजूद थे।
*यह थी मुख्य मांगे*
1_केंद्र में लोकपाल व राज्यो में लोकायुक्त की नियुक्ति की जावे।
2_किसानों को स्वामीनाथन आयोग के अनुसार उनकी फसल की लागत के आधार पर डेढ़ गुना लाभकारी मूल्य सी2 प्लस 50 प्रतिशत के हिसाब से भुगतान किया जावे।
3_किसानों को पूर्ण कर्जमुक्त किया जावे।
4_फल सब्जी व दूध का समर्थन मूल्य किया जावे।
5_देश के किसानों की न्यूनतम आय सुनिश्चित की जावे।
6_किसानों की उम्र 60 वर्ष की होती हे तो उसे 18000हजार रूपए मासिक पेंशन दी जावे।


Post A Comment:

0 comments: