बड़वानी~~ चुनाव व्यवस्था के तहत सम्पूर्ण जिले में धारा 144 लागू~~


बड़वानी /कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अमित तोमर ने दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत सम्पूर्ण बड़वानी जिले में 23 मई 2019 तक शस्त्र लेकर विचरण करने पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगाया है।
कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी से प्राप्त जानकारी अनुसार लोकसभा निर्वाचन की घोषणा जारी होने के साथ ही निर्वाचन संबंधी कार्यवाही जिले में प्रारंभ हो चुकी है। निर्वाचन के दौरान जिले में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए 10 मार्च से शस्त्र लेकर विचरण करने पर प्रतिबंध लगाया गया है। इस व्यवस्था के तहत अब कोई भी व्यक्ति (चाहे लायसेंसधारी हो) किसी भी प्रकार का शस्त्र, लाठी, तलवार, छुरा, चाकू, बल्लम, भाला, तीर कमान, धारदार हथियार, ज्वलनशील पदार्थ लेकर बड़वानी जिले की सीमा में प्रवेश नही करेगा और ना ही विचरण करेगा।
कोई व्यक्ति बड़वानी जिले के बाहर से अथवा किसी भी जिले से किसी भी प्रकार का हथियार चाहे उसे लाने की अनुमति भी उस जिले के प्राधिकारी द्वारा दी गई हो, को लेकर बड़वानी जिले की सीमा में प्रवेश नही करेगा। इस धारा के लागू हो जाने से अब कोई भी व्यक्ति अथवा राजनैतिक दल या संगठन बिना सक्षम अधिकारी के पूर्वानुमति के सभा, जुलूस, रैली, जमावड़ा इत्यादि का आयोजन नही करेगा। कोई भी व्यक्ति लाउड स्पीकर का उपयोग रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे के बीच बिना सक्षम प्राधिकारी की अनुमति के नही कर सकेगा।
कोई भी राजनैतिक दल, अभ्यर्थी अथवा उनके कार्यकर्ता सम्पति का विरूपण नही करेगा और ना ही सार्वजनिक भवन पर कोई झण्डा, बैनर, स्टीकर, नारे लिखकर गन्दा करेगा । कोई भी राजनैतिक दल, अभ्यर्थी अथवा उनके कार्यकर्ता मतदान केन्द्र के 100 मीटर की परिधि के अंदर मोबाईल फोन, कार्डलेंस फोन, वायरलेस आदि लेकर नही जायेगा ।
कोई भी राजनैतिक दल, अभ्यर्थी अथवा उनके कार्यकर्ता या दुकानदार बिना अनुमति लाउड स्पीकर ध्वनि विस्तार यंत्र का उपयोग नही करेगा । अनुमति पश्चात् भी परीक्षा केन्द्र के समीप ध्वनि विस्तार यंत्र का उपयोग पुरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा । वही सार्वजनिक मार्ग को अवरोधित कर सभा  करना भी प्रतिबंधित रहेगा ।
कोई भी राजनैतिक दल, अभ्यर्थी अथवा उनके कार्यकर्ता 5 या अधिक व्यक्त्यिों का समूह सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी वैद्य अनुमति के बिना नही करेगा ।
उक्त आदेश कानून व्यवस्था के लिए नियुक्त लोक सेवको एवं अधिकृत किये गए सुरक्षा कर्मचारियो को अपने कर्तव्य स्थल पर उपस्थित होने पर लागू नही होगा। साथ ही अंधे व अपाहित व्यक्ति जिन्हे सहारे के लिए लाठी रखना आवश्यक है। सिक्ख धर्म के अनुयायियो एवं विवाह समारोह के समय दूल्हा द्वारा धारण की गई कटार एवं कृषि उपकरण, दीपावली पर्व के दौरान विक्रय किये जाने वाले पटाखो के उपयोग पर यह नियम लागू नही होगा। उक्त आदेश का उल्लंघन भारतीय दण्ड विधान की धारा 188 के अंतर्गत दण्डनीय होगा।


Post A Comment:

0 comments: