*अलीराजपुर~ अलीराजपुर नगरपालिका परिषद मे कर्मचारीयो अधिकारीयो की अनदेखी।*~~

*नगरपालिका के कर बिल बुक सहित कहि दस्तावेज कचरे मे पाऐगये। जिसमे मजदूर पंजीयन फार्म भी है*~~

*इन्ही विवादो के चलते नगर पालिका अधिकारी  आशा ठाकुर के खिलाफ शिमा सोनी ने गाली गलोच करने के संमबंध मे  दिया थाने मे आवेदन पुलिस जुटी जाँच  मै*~~

✍जुबेर निज़ामी की रिपोर्ट✍
अलीराजपुर 📲9993116518~~


अलीराजपुर नगर पालिका परिषद के अधिकारी कर्मचारीयो की अन देखी के चलते मुख्यमंत्री असंगठित मजदुर कल्याण योजना के अंतर्गत जो पंजियन फार्म भरे गये थे वो सैकड़ो की तादाद मे कचरे के ढैर मै पाऐगये  बच्चो के खेल के दोरान सडक किनारे नाली के पास कचरे के ढेर मे पाऐगये जिसके चलते लोगो मे चर्चा का विषय बना हुआ है। क्योकि इन पंजीयन फार्म मै किसी की बैक पासबुक की फोटोकोपी तो आधार कार्ड ,  सहित नगरपालिका की कर बिल की बुके सहित कही आवस्यक दस्तावेज कचरे के ढेर मे। मिले जिसकी सूचना इस प्रति निधि द्वारा नगरपालिका  मुख्य  अधिकारी  को दि गयी। जिसके बाद नगरपालिका  मुख्य  अधिकारी  ने अपने स्टाप को मौके पर भेजा।

*नगरपालिका  अधिकारी  पर लगाए गालीगलोच करने का आरोप*
वही पंजियन  फार्म  लेने गयी नगरपालिका अधिकारी  आशा ठाकुर ने श्रीमति शीमा राजेन्द्र  सोनी को बीच रोड पर गाली गलोच देना सुरु खरदी देखते ही देखते मामले  ने तुल पकड लिया वही आस पास के रहवासियों ने भी बताया की किस तरह विवाद बडा आस पास रहवासियों ने बताया कि किस तरह आशा ठाकुर  द्वारा  गाली गलोच की गयी ये रहे मोजुद राजा अशोक गौयल, जितेन्द्र  भद्सिह राहीज, रोहित निलेश परमार, रेखा पति राजेन्द्र डावर, जवाहर मार्ग निवासी ये सभी मौके पर मोजुद थे बातो ही बातो मे विवाद इतना बडा की आखिर कार मामला पुलिस  मे जा पहुंचा अलीराजपुर थाना प्रभारी  दिनेश सोलंकी ने बताया की हम मामले की जांच कर रहे है। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है फिलहाल श्रीमती  शीमा राजेन्द्र सोनी  द्वारा  आवेदन दिया गया है।


सही मायने  मे पुरी गलती नगरपालिका की मानी जा रही है क्यो की इस तरह नगरपालिका  से फार्म  या डोक्युमेन्स इस प्रकार  कचरे मे मिलना कही न कही गैर जिम्मेदाराना है। क्योकि कही फार्म एसे है जिनका पंजीयन भी नही हुआ और फैकदिये। तो कही को तो यह कह दिया कि  योजना बंद हो गयी। एक फार्म के करीब 100 से 150 रुपये खर्च हो गये है उनके दिल पर क्या बीत रही होगी की पैसा खर्च होने  के बाद उनके फार्म इस तरहां कचरे मे फैक दिये जाऐगे। 


और तो और लोगो के डोक्युमेन्स  का भी गलत उपयोग हो सकता है  क्योंकि सारे काम आधार और फोटो से ही होते है और दोनो पंजियन  फार्म  मे अटैच है। सवाल यह उठता है की इतनी ला परवाही आखिर कैसे हो सकती है। और किससे हुई है क्या दोषियों को इसकी सजा दी जाएगी या फिर यही मामले को ठंडा करदिया जाऐगा।

*क्या बोले जिम्मेदार*
मे देखता हु ये किसकी गलती है जो भी दोसी होगा उसके खिलाफ कार्यवाही  कि जिऐगी। आखिर इतनी बडी गलती किससे और कैसे हुई। इसकी जांच मे खुद करुगा।
*संतोष चौहान, मुख्य  नगर पालिका अधिकारी अलीराजपुर*


*आशा ठाकुर*
मेरे द्वारा किसी प्रकार के कोई अपशब्द नहीं कहे गए हैं मैं डिपार्टमेंट की ओर से वहां गई गई थी पुलिसकर्मी और मेरा स्टाफ के सामने मुझे मारने की धमकी और अपशब्द  कहे हैं जिसकी शिकायत डिपार्टमेंट  के द्वारा कोतवाली थाने में करी जाएगी
*आशा ठाकुर प्रभारी सिएमओ*


Post A Comment:

0 comments: