मुरैना~~काँग्रेस की पहली बैठक में चले लात घूँसे~~

मुरैना~~(चम्बल संभाग ब्यूरो चीफ संजय दीक्षित)

मुरैना~~जिला कांग्रेस कमेटी मुरैना द्वारा आयोजित कार्यकर्ताओं की बैठक में दो गुटिय कार्यकर्ताओं के मध्य हुये विवाद का परिणाम लात-घूंसों के रूप में रविवार की दोपहर सामने आया। दोनों कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने समर्थकों को बैठक स्थल के बाहर बुलवा लिया। बैठक की समाप्ति पश्चात दोनों गुटों में जमकर लात-घूंसे चले। हालांकि पुलिस ने मारपीट कर रहे दोनों गुटों को अलग-अलग कर दो दिशाओं में भेज दिया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं में मारपीट की जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक सहित वरिष्ठ अधिकारी मारपीट स्थल पर पहुंच गये थे।जानकारी के अनुसार मुरैना लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी घोषित होने के बाद रामनिवास रावत आज पहली बार रविवार को बैठक करने मुरैना आये। जिला कां्रग्रेस कमेटी द्वारा कार्यकर्ताओं की एक बृहद बैठक आयोजित की गई, इसमें दिग्विजय सिंह समर्थक प्रबलप्रताप सिंह मावई रिन्कू ने कहा कि कांग्रेस के कार्यकर्ता पार्टी के प्रति निष्ठा न रखते हुये व्यक्तिहित में निष्ठावान हैं। इसी निष्ठा को निभाने के लिये  कांग्रेस कार्यकर्ता चुनावों में गुना-शिवपुरी क्षेत्र में पलायन कर जाते हैं। परिणाम मुरैना में कांग्रेस पराजित हो जाती है। जिसका विरोध जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष मनोजपाल यादव ने किया, तब दोनों में विवाद हो गया। बैठक के दौरान ही दोनों ने अपने समर्थक बाहर बुलावा लिये और जैसे ही बैठक समाप्त हुई तो दोनों गुटों में लात-घूंसे चलने लगे। कुछ कार्यकर्ताओं के कपड़े भी फट गये तो कुछ के चेहरों पर खरोंच भी आ गई। पुलिस ने दोनों गुटों को बीच-बचाव करवाया। जिला कांग्रेस अध्यक्ष राकेश मावई ने भी विवाद कर रहे कार्यकर्ताओं को हडक़ाया। इसमें सिंधिया गुट पर हमला करने वाले जो कार्यकर्ता थे उनमें जिला कांग्रेस अध्यक्ष के कई रिश्तेदार भी शामिल थे। जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक असित यादव सहित वरिष्ठ अधिकारी मारपीट स्थल पर पहुंच गये। मारपीट के बाद लोकसभा प्रत्याशी रामनिवास रावत, जिला कांग्रेस अध्यक्ष राकेश मावई सहित कांग्रेस कार्यालय पर चले गये। विदित हो कि जिला कांग्रेस अध्यक्ष राकेश मावई के चाचा पूर्व विधायक स्व. सोबरन सिंह मावई के पुत्र प्रबलप्रताप मावई हैं जो बीते विधानसभा चुनाव के बाद सिंधिया खेमा छोडक़र दिग्विजय खेमे में शामिल हो गये हैं। जबकि मनोजपाल यादव सिंधिया खेमे में प्रमुख सिपहसालार हैं। हालांकि प्रबलप्रताप मावई तथा मनोजपाल यादव इस झगड़े को परिवार का झगड़ा बता रहे हैं। इस संबंध में पुलिस ने कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया है।


Post A Comment:

0 comments: