*सेगाव~ सिर पर साफा बांध दुल्हा दुल्हन बन निकाला बाना*~~

सेगाव से संतोष गोयल की रिपोर्ट✍


सेगाव_दूल्हा दुल्हन का दमकता श्रंगार,साथ बाराती,ढोल ताशो पर नाचते थिरकते बच्चे और खुशी उमंग की बहार...!सोमवार को यह नज़ारा नगर के मुख्य मार्ग पर देखने को मिला...जहां अवसर किसी शादी समारोह का नहीं बल्कि गणगौर पर्व मारवाड़ी समाज की महिलाओं द्वारा खेली गई फुलपाती का है, यहां महिलाए ही दूल्हा दुल्हन और बाराती बनी और मंगल गीत गाए। फुलपाती की उत्साह उमंग और आस्था की परम्परा वादी खुशबू से पूरा माहौल महक उठा।

बेंड बाजे के साथ निकला बाना दूल्हा दुल्हन बनकर मूख्य मार्गो से गुजरते हुए माताजी मन्दिर पहुंचा जहां झलरिया गीत के साथ माताजी को पानी पिलाकर माताजी का विसर्जन किया गया।महिलाओं ने दूल्हा दुल्हन बनकर पाती खेली साथ ही गणगौर गीतों पर महिलाओं के साथ बालिकाएं जमकर थिरकीं।दूल्हा बनी कविता गोयल और दुल्हन बनी मुक्ता अग्रवाल ने बताया कि अग्रवाल समाज द्वारा पिछले सोलह दिन की गणगौर पूजने के बाद आज माता का विसर्जन किया गया।इस अवसर पर सरोज अग्रवाल,मधु अग्रवाल,संतोष अग्रवाल,रजनी गोयल,अनीता अग्रवाल,प्रियंका गोयल,पिंकी मिश्रा,दीपा तिवारी,दीपा अग्रवाल आदि महिलाए मौजूद थीं।


Post A Comment:

0 comments: