*मनावर ~ क्षेत्र के किसानों ने किया कृषि उपज मंडी के बाहर चक्काजाम*~~
       
*रविवार अवकाश के चलते खरीदी बंद होने के कारण चिलचिलाती धूम में किसाना परेशान होते नजर आये*~~
  
*प्रदेश कि काग्रेस सरकार के नियमों को कोसते नजर आये गरीब किसान*~~ 

                           
निलेश जैन मनावर ~~  


धार रोड स्थित कृषि उपज मंडी में आज 28 अप्रेल रविवार को सुबह 11 बजे किसानों द्वारा लाई गई अपनी उपज की खरीदी मंड़ी में नहीं होने से क्षेत्र के किसान परेशान होते नजर आए। आक्रोशित किसानों द्वारा मंडी गेट के बार करीब आधे घण्टे चक्काजाम कर दिया गया । मार्ग पर चलने वाली यात्री बसों में बैठे महिला बच्चे भी परेशान होते नजर आए । सूचना मिलने पर मनावर पुलिस प्रशासन की ओर से वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे तथा किसानों को समझाकर चक्काजाम खुलवाया । किसानों का कहना है कि रविवार होने से मंडी में खरीदी नहीं की जा रही है। जबकि हमें इसकी कोई भी अग्रीम सूचना नहीं दी गई थी । किसान रणजीत पंवार मलनगांव ने कहा कि हम किराया लगाकर ट्रैक्टर ट्राली वाहनों के माध्यम से अपनी उपज मंडी में लेकर आए हैं । किंतु व्यापारीयों द्वारा माल खरीदी करने से इंकार कर दिया गया । लग्नसरा सीजन होने के कारण पैसे की जरूरत को चिलते किसान चिलचिलाती धूप में अपनी उपज बचने के लिये परेशान होते नजर आए । अनाज व्यापारी संघ अध्यक्ष राकेश जैन, विनीत खटोड़ ने कहा कि हम किसानों की उपज लेने के लिए तैयार है अगर मंडी प्रशासन हमारा सहयोग करती है तो हालाकि मंडी प्रशासन के पास आदेश आये है उसमें कहा गया है कि रविवार के दीन मंडी में माल की खरीदी या निलामी नही कि जाये । किसानों का आरोप है कि मंडी प्रशासन द्वारा खरीदी बंद करने की कोई भी सूचना नही दी गई । आज करीब 20 गांवों के किसान प्रदेश सरकार के नियमों को कोसते नजर आये । मनावर पूलिस एसडीओपी आनंदसिंह वास्केल, नायब तहसीलदार अनुराग जैन , नायक तहसीलदार विजय तलवारे, थाना प्रभारी संजय रावत मोके पर दल बल के साथ पहुचे तथा लोकसभा चुनाव की आचार संहिता का हवाला देकर आक्रोशित किसानों को समझा कर चक्काजाम खुलवाया । साथ ही मंडी सचिव लक्ष्मण सिंह को सूचना कर मंड़ी में बुलाकर किसानों की समस्या हल करने के निर्देश दिये। सचिव लक्ष्मण सिंह ने कहां कि वह किसानों से चर्चा कर रहे है शीघ्र ही समस्या का हल निकाला जा रहा है । चूकि मंडी प्रशासन की ओर से व्यापारियों को सख्त आदेश है कि किसी भी किसान का 20, 30 ,50 कि.लो का अनाज भी बना निलामी के ना लेवे । साथ ही कहा है कि किसानों का कम अनाज भी होतो उसे निलाम कर लेवे ।


Post A Comment:

0 comments: