*बुरहानपुर~मेहरम कोटे की सभी 390 दरख्वास्त मंज़ूर करने हेतु भेजा पत्र*~

बुरहानपुर (मेहलक़ा अंसारी) 


केंद्रीय हज कमेटी मुम्बई द्वारा मेहरम कोटे की 500 सीट के लिये पूरे हिंदुस्तान से आवेदन पत्र आन लाइन आमंत्रित किए गए थे। उक्त 500 सीट के विरूद्ध पूरे भारत से 890 दरख्वास्त पहुंची थी। हज वैलफेयर सोसायटी का मानना है कि केंद्रीय हज कमेटी मुम्बई को 500 सीटों के विरूद्ध 890 आवेदन को मंज़ूरी दे देना चाहिए थी लेकिन केंद्रीय हज कमेटी ने ऐसा ना कर मेहरम आवेदकों के साथ न्याय नहीं किया है। हज वैलफेयर सोसायटी ने इस संबंध में तमाम हालात को दर्शाते हुए एक खत सीडीओ हज कमेटी मुम्बई को भेजकर पूर्व वर्षों की परंपरा अनुसार शेष बचे 390 आवेदनों पर पुनःर्विचार कर स्वीकृति देने की प्रार्थना की है। हज वैलफेयर सोसायटी ने बताया है कि जब 2019 के लिये हज के फार्म भरे जा रहे थे तब रिज़र्व केटेगरी (1) में अपनी वालिदा के साथ उनके बेटे ने इस उम्मीद से फार्म भरा था कि मेहरम कोटा जब भी निकलेगा अपनी अहलिया की दरख्वास्त देकर उन्हें भी साथ ले जाएंगे क्योंकि रिज़र्व केटेगरी में उस वक्त सिर्फ 70+ के साथ सिर्फ एक ही ऍप्लिकेन्ट को जाने की शर्त थी, इसी तरह ज़्यादा उम्र के और भी लोगों के साथ उनके शरई मेहरम जुड़े, जैसे बहन के साथ भाई हो गया, या वालिद के साथ लड़के ने फार्म भर दिया, हज के मैदान में काम करने वाले खिदमतगारों ने सभी को ये दिलासा दिया था कि अभी तो आप अपने बुज़ुर्ग के साथ फार्म भर दीजिये बाद में जब मेहरम कोटा निकलेगा तब अपनी अहलिया का फार्म डाल देना। इन्शा अल्लाह, हो जाएगा, क्योंकि साल 2018 में सभी दरख्वास्त को कुबूल कर लिए जाने का आपका फैसला हम सभी के सामने था, लेकिन इस साल 890 में से सिर्फ 500 ही दरख्वास्त कुबूल करने से कई लोगों में मायूसी छाई हुई है। अतः पुनःर्विचार आवश्यक है।


Post A Comment:

0 comments: