मुरैना~~रेत माफियाओं के हमले में वन आरक्षक घायल~~

मुरैना~~(चम्बल संभाग ब्यूरो चीफ संजय दीक्षित)


मुरैना~~चम्बल नदी में प्रतिबंधित उत्खनन के बाद भी अवैध रूप से रेत का उत्खनन कर परिवहन कर रहे वाहनों को वन अमले ने आज सुबह पकडऩे की कोशिश की, इसी दौरान रेत से भरे वाहनों को चालकों व उनके सहयोगियों ने वन अमले पर पथराव कर दिया। इस घटना में एक वन कर्मी घायल हो गया। थाना स्टेशन रोड़ पुलिस द्वारा वनकर्मियों की शिकायत पर अज्ञात हमलावरों के विरुद्ध मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। मध्यप्रदेश राजस्थान उत्तरप्रदेश की सीमा बनकर बह रही एशिया महाद्वीप की प्रदूषण मुक्त नदी चम्बल के 435 किलामीटर क्षेत्र को घडिय़ाल अभ्यारण्य घोषित किये जाने के बाद नदी के घाटों से रेत का उत्खनन सरकार व उच्चतम न्यायालय द्वारा प्रतिबंधित किया गया है। बीते 4 दशकों से निरंतर अवैध उत्खनन कर परिवहन किया जा रहा है। जिसे रोकने के लिये वन, राजस्व, खनिज, पुलिस व प्रशासन का टास्कफोर्स भी बनाया गया है। इस टास्कफोर्स पर कई बार हमले हो चुके हैं। आज सुबह शिकारपुर रेलवे फाटक पर अवैध परिवहन कर रहे रेत के भरे सैकड़ों वाहनों को पकडऩे के लिये वन अमला गया, जहां वाहन चालकों व उनके सहयोगियों ने पथराव किया। लोगों का दबी जुबान से कहना है कि घटना स्थल पर गोलीबारी भी हुई, लेकिन इसकी कोई पुष्टी नहीं कर रहा है। इस हमले में एक वनकर्मी पवन शर्मा घायल हो गया है। हमलावरों ने भय व आतंक का वातावरण बना दिया। इसी बीच ट्रैक्टर ट्राली लेकर चालक भाग गये। जिसका उपचार जिला चिकित्सालय में किया जा रहा है। वन अमले ने रेत से भरी एक ट्रेक्टर ट्राली भी जब्त की है। जिसके राजसात होने की कार्यवाही की जा रही है। वन अमले ने हमलावरों के विरुद्ध थाना स्टेशन रोड़ में आपराधिक मामला दर्ज कराया है।


Post A Comment:

0 comments: