मुरैना~~अंत्याव्यवसायी सहकारी समिति के पाँच कर्मचारियों के विरुद्ध धोखाधड़ी का मामला दर्ज~~           

मुरैना ~~(चम्बल संभाग ब्यूरो चीफ संजय दीक्षित)



मुरैना~~सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के पुरानी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में अंत्याव्यवसायी सहकारी समिति के पाँच कर्मचारियों को गिरफ्तार कर चैकबुक में से दस चैक चुराकर पांच चैकों के माध्यम से 37 लाख 50 हजार रूपये निकालने की धोखाधड़ी कर रहे सरकारी कर्मचारी व दलाल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इसके उजागर होते ही जिला प्रशासन मेें हडक़म्प मच गया है। इस मामले का पर्दाफास विभाग के जिला मुखिया पर आई बैंक की सूचना के माध्यम से हुआ। लेकिन इससे पहले ही 21 लाख 50 हजार रूपये निकालकर आरोपियों ने बटवारा कर लिया। कोतवाली पुलिस द्वारा की गई कड़ी पूछताछ में 1 चैक बरामद कर लिया है। आरोपियों को आज न्यायालय में प्रस्तुत कर पूछताछ के लिये समय मांगा जावेगा।मुरैना जिला अंत्याव्यवसायी सहकारी समिति वर्षों से घोटालों के लिये सुर्खियों में रहता आया है। इस विभाग द्वारा गरीब, दलित परिवारों के उत्थानों हेतु विभिन्न योजनाऐं संचालित कीं जातीं हैं। विभाग में कई वर्षों से कार्यरत संविदाकर्मी कम्प्यूटर ऑपरेटर अरूण सिसौदिया ने कार्यालय की चैकबुक क्रमांक 446100 से 200 तक में से 10 चैकबुक 446191 से 446200 तक चोरी कर लिये। इसमें से फरवरी 2019 से 5 मार्च 2019 तक तीन चैकों के माध्यम से 21 लाख 50 हजार रूपये निकाल लिये गये। यह तीनों चैक बाबा ट्रेडर्स के नाम से काटे गये। अभी हाल ही में दो चैक फिर लगाये हैं इसकी सूचना बैंक द्वारा विभाग के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मुकेश पालीवाल को दी गई। तब जिला प्रशासन में हडक़म्प मच गया। इन चैकों पर मुरैना कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास तथा विभाग के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मुकेश पॉलीवाल के हस्ताक्षर थे। इन दोनों चैकों को बैंक में रूकवाया गया। विभागीय जांच में यह स्पष्ट हो गया कि कम्प्यूटर ऑपरेटर, लेखापाल, चपरासी तथा योजनाओं में हितग्राहियों की मदद करने वाला एजेंट शामिल हैं। विभाग की सूचना पर पुलिस ने पंाचों आरोपियों के विरुद्ध धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।  जिला अंत्याव्यवसायी सहकारी समिति के कर्मचारियों विरुद्ध मामला दर्ज होते ही जांच के दौरान पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस द्वारा कड़ी पूछताछ में इन आरोपियों से हस्ताक्षर किया हुआ एक चैक क्रमांक 446200 बरामद हुआ है। पांच चैकों के विषय मेें आरोपियों ने स्पष्ट कर दिया कि वह चैक जला दिये गये हैं। इन कर्मचारियों द्वारा तीन चैक जहां बाबा ट्रेडर्स के नाम से काटे गये वहीं दो चैक बजरंग इण्टरप्राइजेज के नाम से काटे गये। पुलिस द्वारा सभी दस्तावेजों को बरामद कर जांच की जा रही है कि पैसा लेने वाली फर्म के संचालक कौन हैं। सरकारी राशि को बरामद करने का प्रयास किया जा रहा है। आरोपियों का चिकित्सकीय परीक्षण कराने के बाद न्यायालय में पेश किया गया है।


Post A Comment:

1 comments:

  1. Plz add my WhatsApp no. Your daily news system....

    ReplyDelete