बड़वानी~कॅरियर सेल की गतिविधियों से मिलती है प्रेरणा
दस साल पहले छूटी पढ़ाई को फिर करूंगी प्रारंभ~~



बड़वानी /समाचार पत्र में जब भी कॅरियर सेल की किसी गतिविधि के बारे में प्रकाषित होता है, तो मैं उसे ध्यान से पढ़ती हूं। बहुत प्रेरणा मिलती है। मैंने दस साल पहले पढ़ाई छोड़ दी थी। कुछ जिम्मेदारियां और कुछ परिस्थितियों की प्रतिकूलता रहीं। मगर एक बार फिर से अध्ययन जारी रखने का मन हुआ है। मुझे मार्गदर्षन दीजिये कहां से और कैसे शुरुआत करूं। यह प्रतिक्रिया बड़वानी नगर की एक साहसी और संघर्षषील बिटिया अनिता राठौड़ की थी, जो उन्होंने प्राचार्य डाॅ. आर. एन. शुक्ल के मार्गदर्षन में संचालित हो रहे शहीद भीमा नायक शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बड़वानी के स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्षन प्रकोष्ठ में आकर व्यक्त की। उनका कहना है कि उनमें षिक्षकीय गुण पर्याप्त हैं और वे षिक्षक के रूप में ही अपना कॅरियर बनाना चाहती हैं। कॅरियर सेल की टीम से पुस्तकालय विषेषज्ञ प्रीति गुलवानिया और कॅरियर काउंसलर डाॅ. मधुसूदन चैबे ने उनसे चर्चा की तथा उन्हें परामर्ष दिया। उन्हें सुझाव दिया गया कि कक्षा बारहवीं अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण करें और फिर डीएड करके प्राथमिक विद्यालय में षिक्षक बनें। इसके उपरांत महाविद्यालय की पढ़ाई स्वाध्यायी छात्रा के रूप में जारी रखें ताकि आर्थिक सहारा भी मिलता रहे और षिक्षा भी बढ़ती रहे। इसके बाद हाईस्कूल और हायर सेकंण्डरी स्कूल में षिक्षक बनने का प्रयास करें। प्रीति गुलवानिया का कहना है कि दीदी जिस तरह से परिश्रम करके अपने परिवार की सहायता कर रही है, वह अपने आपमें प्रेरक है। उन्हें जरूरी जीवन में सफलता मिलेगी। कॅरियर सेल के बारे में उनकी सकारात्मक बातें सुनकर हमें और अधिक कार्य करने की प्रेरणा मिली। काॅलेज चलो अभियान के अंतर्गत कॅरियर सेल में प्रतिदिन मार्गदर्षन दिया जा रहा है। यदि आपकी भी कोई जिज्ञासा हो तो संपर्क करें।


Post A Comment:

0 comments: