*बुरहानपुर~पूर्व निगमाध्यक्ष श्रीमती गौरी दिनेश शर्मा ने महापौर पर लगाया गंभीर नहीं होने का आरोप*~~                  

*सर्व दलीय बैठक बुलाने की मांग*~~

बुरहानपुर (मेहलक़ा अंसारी)



पूर्व निगमाध्यक्ष श्रीमती गौरी दिनेश शर्मा ने बताया कि वर्तमान समय नगर वासी एवं जनमानस पानी के लिए तरस रहे हैं और जनता के जनसेवक कहे जाने वाले महापौर इस समस्या  को लेकर गंभीर नहीं दिख रहे हैं । श्रीमती गौरी दिनेश शर्मा ने कहा कि जल संकट सहित अन्य ज्वलंत मुद्दों पर महापौर जी  सर्वदलीय बैठक बुलाना उचित नहीं समझ रहे हैं।  श्रीमती गौरी दिनेश शर्मा का मानना है, कि सूर्य पुत्री माँ ताप्ती नदी का पानी भरपूर मात्रा में था लेकिन उससे भी सताधरी पार्टी के नेताओं द्वारा अवैध खनन कर माँ ताप्ती को छन्नी कर दिया ‌। जहां पानी के नाम पर वर्तमान महापौर को चुनाव में जनता ने शहर के सेवक के रूप में चुना और उन्होंने वादा किया था कि मै माँ ताप्ती का पानी घर घर पहुंचाने में सफल रहूंगा, लेकिन महापौर की केवल योजना कागज पर ही सीमित रहती है । जहां बुरहानपुर जिले के सभी वार्ड भयंकर  जल संकट की चपेट में हैं  और महापौर कुछ वार्डो में किराए के टैंकर या बोरिंग के सामने खड़े होकर फोटो खिंचा  कर इतिश्री कर जनता को गुमराह कर रहे हैं , साथ ही शासन द्वारा पानी और डस्टबिन बॉक्स के लिए करोड़ों रुपए आए है लेकिन सत्ता पर काबिज़ नेतागण कोई ठोस योजना नहीं बना पाए  जिसके कारण जो डस्टबीन लगे हैं , वह भी ग़ायब हो गए हैं । जिस तरह पानी की टंकिया शहर में कही नहीं नज़र आती । जहां ग्रीष्म क़ालीन को देखते हुवे पूर्व में पाइप लाइन का कार्य किया जाना था लेकिन समय रहते कोई कार्य नहीं किए और जनता को पानी के लिए तरसना पड़ रहा है ।  समाचार पत्रों  में महापौर दावा कर रहे कि घर घर तक पानी पहुंचेगा लेकिन ये वादा भी उनका सिफर ही रहेगा । जहां  उतावली नदी पर ट्रांसफार्मर लगा कर उद्योगपतियों को महापौर द्वारा लाभ दिया जा रहा वहीं आमजनता को पानी के लिए बड़ी मशक्कत करनी पड़ रही । पूर्व निगमाध्यक्ष श्रीमती गौरी दिनेश शर्मा ने महापौर से अनुरोध की है, कि राजनीति से परे होकर मात्र  फोटो खिंचवाकर झूटी पब्लिसिटी  ना ले ज़ीरो ग्राउंड पर जाकर  ज़मीनी  हक़ीक़त पर जनता के सच्चे सेवक के रूप में उन्हें पानी उपलब्ध कराएं । महापौर जी कहते है वर्षा कम हुई इसीलिए लोगो को जल संकट से जूझ रहे है । मैंने महापौर की बात को ध्यान रखते हुए सरकारी आंकड़े  निकाले हैं :  सन् 2005 2006 803 मिली मीटरवर्षा दर्ज कि गई थी । 2006_2007 824, 2008_ 2009 718.1 और 2010_ 2011 में 1064.12011_ 2012 में 893.6 सन 2012_ 2013 1143.5 2014 _2015 1510.9 जबकि 2016 2017 में1267.7 2017 2018 839.1 मिली मीटर । जितने बोरिंग ३०/३५ वर्षों में नहीं हुवे उतने सेंकड़ों  बोरिंग इनके कार्यकाल में हुवे । बोरिंग करेंगे फिर विद्युत मंडल से लाइन फिर मिटर जब तक बारिश आ जाएँगी यह सब कार्य पूर्व में करते तो जनता को पानी के लिए त्राहि त्राहि नही होना पड़ता और यह बारिश का रोना रो रहे है । केवल इन का मैनेजमेंट  सही नहीं है । इन सब का खमियाज़ा जनता को भोगना पड़ रहा है । उन्होंने महापौर जी से निवेदन की है कि ज़मीनी हक़ीक़त पर जनता के सेवक के रूप में उन्हें पानी उपलब्ध कराए ।


Post A Comment:

0 comments: