बड़वानी~प्रदेश की सरकार अपने वचनों के लिए प्रतिबद्ध है-प्रभारी मंत्री डाॅ. साधौ~~



बड़वानी /प्रदेश सरकार ने अपने अल्प समय के कार्यकाल में ही वचन पत्र के अधिकांश वादों को पूर्ण कर दिया है। शेष वादों को भी पूर्ण करने की कार्यवाही तेजी से जारी है। इन वादों को भी सभी के सहयोग से पूर्ण करवाया जायेगा। जिससे प्रदेश की समस्त जनता को अपने विकास के लिए ओर बेहतर अवसर मिल सके।
प्रदेश की चिकित्सा शिक्षा मंत्री एवं जिले की प्रभारी मंत्री डाॅ. विजयालक्ष्मी साधौ ने उक्त बाते सोमवार को बड़वानी में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान कही। कलेक्टरेट सभागृह में आयोजित इस पत्रकार वार्ता में कलेक्टर बड़वानी श्री अमित तोमर, पुलिस अधीक्षक श्री डीआर तेनीवार, सेंधवा विधायक श्री ग्यारसीलाल रावत, पानसेमल विधायक सुश्री चन्द्रभागा किराड़े, कांग्रेस जिलाध्यक्ष श्री वीरेन्द्रसिंह दरबार सहित जिला स्तरीय समस्त प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया बंधु उपस्थित थे। इस दौरान डाॅ. साधौ ने प्रदेश सरकार के 6 माह के अल्प कार्यकाल में हुए बदलाव को रेखांकित करते हुए बताया किः-
ऽ मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने शपथ ग्रहण करने के दो घंटे के अंदर ही किसानों की कर्ज माफी के निर्णय पर हस्ताक्षर कर दिये थे।
ऽ जय किसान फसल ऋण माफी योजना में अभी तक कुल 48.89 लाख ऋण खाताधारी जिनमें से 32.64 लाख चालू ऋण खाता, 15.94 लाख एनपीए/कालातीत ऋण खाते है। मई 2019 तक 9.72 लाख पीए खाते व 10.25 लाख एनपीए खाते कुल 19.97 लाख खातों के ऋण माफ किये गये है।
ऽ जय किसान समृद्धि योजना में प्रदेश सरकार किसानों का गेहूं 2 हजार रुपये प्रति क्विंटल यानि केन्द्र सरकार द्वारा घोषित मूल्य 1840 रुपये प्रति क्विंटल से 160 रुपये अधिक में खरीद रही है। इससे प्रदेश के 18 लाख किसानों को लाभ मिलेगा।
ऽ इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत अब 100 यूनिट की खपत करने पर 100 रुपये बिजली बिल देना। इस योजना में 62 लाख हितग्राही लाभान्वित हो रहे है।
ऽ इंदिरा किसान ज्योति योजना के तहत अप्रैल 2019 के वचनपत्र के मुताबिक प्रदेश में 10 हार्स पावर तक के कृषि पंपों का बिल आधा किया गया है। इस योजना में 18 लाख हितग्राही लाभान्वित हो रहे है।
ऽ इस वर्ष जनवरी से मई माह के बीच कुल 2921 करोड़ यूनिट बिजली का प्रदाय हुआ है, जो कि पिछले साल की तुलना में लगभग 378 करोड़ यूनिट अधिक है।
ऽ मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह योजना की अनुदान राशि 28 हजार से बढ़ाकर 51 हजार रुपये की गई है।
ऽ दिव्यांग महिला और सामान्य पुरूष के बीच विवाह को बढ़ावा देने हेतु प्रोत्साहन राशि बढ़ाकर 2 लाख रुपये की गई है।
ऽ पिछडे़ वर्ग के आरक्षण को बढ़ाकर 27 प्रतिशत करने का निर्णय लिया गया है, साथ ही सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से दुर्बल नागरिकों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान भी लागू किया गया है।
ऽ युवा स्वाभिमान योजना के माध्यम से युवाओं को 100 दिन के रोजगार की गारंटी, हर महीने 4 हजार रुपये स्टाइपेंड और कौशल विकास का प्रशिक्षण मिलना प्रारंभ है। इससे 6.50 लाख युवा लाभान्वित हो रहे है।
ऽ मुख्यमंत्री पिछड़ा वर्ग स्वरोजगार योजना में 1978 हितग्राहियों को लाभान्वित कर 2755.66 लाख रुपये की राशि व्यय की गई।
ऽ अल्पसंख्यक वर्ग के शिक्षित बेरोजगार युवक-युवतियांे को रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण योजना में 500.00 लाख रुपये व्यय कर कुल 1446 प्रशिक्षणार्थियों को निःशुल्क प्रशिक्षित किया गया।
ऽ प्रदेश में गौ-वंश संरक्षण तथा संवर्धन के लिए चार माह में 1 हजार गौ-शालाएं स्थापित करने का निर्णय लिया गया, जिससे ग्रामीणों तथा मजदूरों को रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे।
ऽ कमलनाथ सरकार ने उद्योग नीति में संशोधन कर मध्यप्रदेश में लगने वाले उद्योगों में स्थानीय युवाओ को 70 प्रतिशत रोजगार देना अनिवार्य कर दिया है।
ऽ उच्च माध्यमिक शिक्षक एवं माध्यमिक शिक्षक वर्ग के लगभग 22 हजार पदों के लिए पात्रता परीक्षा का आयोजन फरवरी 2019 में किया गया, जिसमें लगभग 7 लाख अभ्यर्थियों द्वारा भाग लिया गया।
ऽ राज्य छात्रवृत्ति विगत छः माह में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा कुल 30.98 लाख विद्यार्थियों को 191.34 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति स्वीकृत की गई।
ऽ प्रदेश की 22812 ग्राम पंचायतों में से 22583 का विकास प्लान तैयार किया जा चुका है। अब इसी के अनुरूप आगे की रूपरेखा पर कार्य जारी है।
ऽ तेंदूपत्ता बोरियों की संग्रहण दर 2 हजार रुपये से बढ़ाकर 2 हजार 5 सौ रुपये प्र्रति बोरा की गई।
ऽ वित्त विकास निगम द्वारा आदिवसी हितग्राहियों को प्रदाय लगभग 45 करोड़ की लोन राशि माफ की गई।
ऽ 33 एकलव्य एवं 4 गुरूकुलम हेतु स्मार्ट क्लस एवं कम्प्यूटर लैब के निर्माण हेतु प्रति केन्द्र 22 लाख रुपये की लागत से कुल 792 लाख रुपये स्वीकृत किये गये।
ऽ 11 जिला चिकित्सालय जिनमें बड़वानी जिला भी शामिल है, आब्स्टेªटिक आईसीयू की स्थापना की गई।
ऽ पुरानी हो चुकी 108 एम्बुलेंस वाहनों के स्थान पर कुल 310 नवीन एम्बुलेंस वाहनों से रिप्लेस किया गया है।
ऽ नदी पुनर्जीवन कार्यक्रम अंतर्गत प्रदेश के 36 जिलों में 40 नदियों का चयन कर 21 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सघन रूप से जल संरक्षण एवं संवर्धन के कार्य प्रारंभ किये गये है।
ऽ फरवरी 2019 में नागपुर में आयोजित इण्डिया इंटरनेशनल ट्रेवल एक्जीबिशन में मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड को सर्वश्रेष्ठ राज्य से सम्मानित किया गया।
ऽ जीवनदायी नर्मदा नदी के ओंकारेश्वर तट पर भोपाल स्थित बड़े तालाब की वजलवायु गुणवत्ता मापन हेतु रीयल टाईम कन्टीन्युअस वाटर गुणवत्ता परिणाम डिस्प्ले बोर्ड के माध्यम से जन साधारण हेतु प्रदर्शित किये जा रहे है।
ऽ मंदिरों में सेवारत 21 हजार पुजारियों का मानदेय तीन गुना बढ़ाया।
ऽ मध्यप्रदेश शासन की संगठित/असंगठित श्रमिक संवर्ग की योजना नया सवेरा कार्यक्रम का लाभ सभी मछुआरों को उपलब्ध कराये जाने का निर्णया लिया गया है। इस योजना अंतर्गत वर्तमान में 100314 मछुआरों का पंजीयन किया गया है।
ऽ लगभग 6 हजार महिलाएं राजमिस्त्री का प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है।


Post A Comment:

0 comments: