*अलीराजपुर~समस्त आदिवासी समाज एवम् आदिवासी समाज महिला मंडल ने रथयात्रा मे शामिल ना होने का किया ऐलान*~~

*जगन्नाथ रथ यात्रा मे सभी समाज को निमन्त्रण पत्र मे स्थान दिया मगर जिले के सबसे बडे आदिवासी समाज को किया नजरंदाज*~~

*इस तरहा आयोजक मे सभी समाज मे सिर्फ  आदिवासी समाज का ही नाम नही लिखना आदिवासी समाज का अपमान है*~~

✍जुबेर निज़ामी की  रिपोर्ट ✍
अलीराजपुर 📲9993116518~~



अलीराजपुर रथयात्रा में आदिवासी समाज महिला मण्डल व समाजजन सम्मिलित नही होंगे -7जुलाई 2019 को अलीराजपुर नगर में निकलने वाली भगवान जगननाथ रथ यात्रा में सभी समाज को निमन्त्रण पत्र में स्थान दिया गया किन्तु जिले के सबसे बड़े समाज आदिवासी समाज को कोई स्थान नही दिया गया जबकि जिले में आदिवासी समाज का एक बड़ा तबका प्रतिनिधित्व करता हे।
सांसद, विधायक ,जिला पंचायत अध्यक्ष ,नगरपालिका अध्यक्ष एवम बड़े बड़े शासकीय पदों पर पदासीन अधिकारी कर्मचारी होने के बावजूद आदिवासी समाज की उपेक्षा असहनीय हे क्या ये उनका अपमान नही हे ? 89%आदिवासी समाज का अपमान नही हे क्या ? आप धर्मांतरण की बाते करते हो जबकि आप 89% आदिवासी समाज  को आप नही समझ रहे हो तो कैसे सभी को साथ लेकर चलने की बात करते हो आपकी संकीर्ण मानसिकता ही समाज को बाँट रही हे ।आदिवासी समाज सभी समाज व् धर्मो का आदर करता हे लेकिन आदिवासी समाज के अपमान व उपेक्षा ऐसे ही रही तो इस तरह के कार्यक्रमो में सम्मिलित नही हो पायेगा -आदिवासी समाज।


Post A Comment:

0 comments: