बड़वानी~सुलह एवं समझौते के आधार पर नेशनल लोक अदालत में हो रहे है प्रकरणों के निराकरण -जिला एवं सत्र न्यायाधीश~~



बड़वानी /न्यायालय में चलने वाले प्रकरणो का सुलह एवं समझौते के आधार पर निराकरण करने का एक सशक्त माध्यम है लोक अदालत। लोक अदालत में प्रकरणो का निराकरण होने से दोनो पक्षो के मध्य आपसी सद्भाव व भाईचारा बना रहता हैै तथा वे कानून की लंबी प्रक्रिया से छूट कर त्वरित न्याय पाकर अपना जीवन सौहाद्रपूर्ण तरीके से जी सकते है।
शनिवार को नेशनल लोक अदालत का शुभारंभ करते हुए उक्त विचार जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री रामेश्वर कोठे द्वारा व्यक्त किये गये। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री टीआर तेनीवार, विशेष न्यायाधीश श्री दिनेशचन्द्र थपलियाल, प्रथम अपर जिला न्यायाधीश श्री समीर कुलश्रेष्ठ, द्वितीय अपर जिला न्यायाधीश श्री आशुतोष अग्रवाल, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री हेमंत जोशी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती सुनीता रावत, एसडीएम बड़वानी श्री अभयसिंह ओहरिया, बार एसोसियेशन के अध्यक्ष श्री पुरूषोत्तम मुकाती सहित बड़ी संख्या में अभिभाषक, पक्षकार उपस्थित थे।
11 दम्पतियों ने मतभेद भुलाकर पुनः थामा एक - दूसरे का हाथ
        लोक अदालत, छोटे-छोटे मतभेदो से होने वाले मन-मुटाव से बिखरे परिवारो को पुनः मिलाने का सशक्त माध्यम सिद्ध हो रहा है। शनिवार को जिला न्यायालय परिसर में लगी लोक अदालत में न्यायाधीशो की मध्यस्थता से 11 दम्पतियो ने पुनः एक - दूसरे का हाथ थामकर खुशहाल जीवन जीने का वादा किया है।
       शनिवार को लगी इस लोक अदालत में जिला सत्र न्यायाधीश श्री रामेश्वर कोठे, पुलिस अधीक्षक श्री टीआर तेनीवार की उपस्थिति में परिवार परामर्श केन्द्र के माध्यम से धामनोद की रहवासी श्रीमती चन्द्रकला राजपूत ने अपने पति श्री राजेन्द्रसिंह, बड़वानी रहवासी श्रीमती माया ने अपने पति श्री विवेक राजपूत, बलवाड़ी रहवासी श्रीमती कोकिला राय ने अपने पति डाॅ. अगंत राय, सजवानी रहवासी श्रीमती रश्मि ने अपने पति श्री प्रकाश, भामी रहवासी श्रीमती ताराबाई ने अपने पति श्री कालुसिंह, सजवानी रहवासी श्रीमती मनीषा ने अपने पति मुकेश, गोलाटी रहवासी श्रीमती भाग्यलक्ष्मी ने अपने पति श्री लखन सावनेर, बड़वानी रहवासी श्रीमती तबस्सुम ने अपने पति इरफान, ग्राम सिन्धी निवासी श्रीमती बसंतीबाई ने अपने पति श्री भाया चैना, सजवानी निवासी श्रीमती साधना ने अपने पति रितेश, इन्दौर निवासी श्रीमती साधना ने अपने पति दीपक का पुनः हाथ थामकर प्रण किया कि वे अब कभी आपसी मन-मुटाव को संबंध विच्छेद का कारण नही बनने देंगे ।
      बिछड़े हुए इन 11 परिवारों के जीवन में पुनः खुशियाॅ लाने में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव न्यायाधीश श्री हेमन्त जोशी, परिवार परामर्श केन्द्र की उपनिरीक्षक सुश्री रेखा यादव, आरक्षक श्रीमती आशा डुडवे एवं पैरालीगल वालेंटियर श्री सरकार बघेल एवं श्री साल्वे का सराहनीय योगदान रहा ।
निचली अदालत से सजा पाये पक्षकारो ने आपसी समझौता से किया विवाद का अंत
       नेशनल लोक अदालत में निचली अदालत से सजा प्राप्त अभियुक्तो एवं फरियादी ने भी आपसी समझौता कर प्रकरण का अंत किया गया है। इसके तहत जिला सत्र न्यायाधीश श्री रामेश्वर कोठे की उपस्थिति में, राजपुर अदालत से 3 माह के कारावास एवं 500 रूपये के दण्ड से दण्डित मारपीट के अभियुक्त खुमसिंह, नया, अंतरसिंह, मांगूर ने फरियादी भीकला के साथ समझौता कर अपने वाद का निराकरण किया है।


Post A Comment:

0 comments: