*मेघनगर ~नम आंखों के साथ दशा माता की  मूर्ति विसर्जित*~~

*दश दिनों तक विराजित थी दशा माँ की मूर्ति....घर घर*~~

मेघनगर से दशरथ सिंह कट्ठा~~



मेघनगर - भारत के साथ आदिवासी अंचल झाबुआ जिले के मेघनगर रंभापुर के आसपास ग्रामीण क्षेत्रों में खुशहाली की कामना के साथ दशा माता को दी गई विदाई । दस दिवसीय दशा माता व्रत-आराधना पर्व की पूर्णाहुति पर रविवार सुबह से खुशहाली की कामना के साथ शुरू हुआ माता को विदाई देने का क्रम रविवार शाम तक चलता रहा। श्रद्धालु ढोल-नगाड़ों के साथ माता की प्रतिमा को विदाई देने अनास,पाट,पम्पावती नदी के विभिन्न घाटों पर पहुंचे। श्रद्धालु महिलाओं ने घर-परिवार और समाज की दशा-दिशा सुधारने की मन्नत के साथ दशा माता व्रत-आराधना के पर्व की शुरुआत दस दिन पहले बाजे-गाजे के साथ की थी। घर, सोसायटी एवं अन्य स्थलों पर स्थापित दशा माता की प्रतिमा के समक्ष व्रती महिलाओं ने नियमित पूजा-अर्चना, भोग, कथा श्रवण के कार्यक्रम के अलावा गरबा नृत्य के आयोजन किए। श्रद्धालुओं ने घाट पर माता की पूजा-आराधना की और सर्वत्र खुशहाली की कामना के साथ प्रतिमाओं को विसर्जित किया। 


Post A Comment:

0 comments: