झाबुआ~चर्चा में प्रभारी मंत्री का रात के अधेरे मे पेटलावद विधानसभा मे गुपचुप दौरा,किस रणनीति का हिस्सा ...? 

कही प्रत्याशी का चयन का तो नही था दौरे का उद्देश्य .......?

झाबुआ। संजय जैन~~

विधानसभा उपचुनाव की  दहलीज पर है चुनाव आयोग घोषणा कब चुनाव की घोषणा कर दे, कह नही सकते । तो दुसरी और दोनो ही पार्टियो से इस उपचुनाव मे कौन आमने-सामने होगा....? इस बात के कयास लगाये जा रहे है । दोनो ही पार्टियो मे टिकीट के लिए लम्बी कतार है, दोनो ही पार्टियो किसे इस रण को जीतने के लिए चुनेगी, यह उप चुनाव की घोषणा होने तथा अचार संहिता लागू के बाद पता चलेगा। 

-गुपचुप दौरा आखिर कांग्रेस की किस रणनीति का हिस्सा है....? 

इसी बीच झाबुआ जिले के प्रभारी मंत्री सुरेन्द्रसिह बघेल का झाबुआ जिले की पेटलावद विधानसभा में  महज कुछ दिनो पहले एक गुपचुप दौरा हुआ जो इन दिनो चर्चा में है । रात के अंधेरे मे हुआ यह दौरा कांग्रेसी हलकेा में हलचल मचा सकता है । क्योकि इस दौरे की जानकारी जहंा तक सूत्र बताते है और उनकी बातो पर यदि हम भरोसा करे तो कांग्रेस के  वरिष्ठ नेताओ को भी मंत्रीजी के इस गुपचुप दौरे की जानकारी नही थी। बताया तो यह भी जाता है इस दौरे के दौरान प्रभारी मंत्री ने तीन घण्टे का समय झाबुआ जिले मे बिताया वह भी रात के अंधेरे में ..... सबसे बडी बात तो यह कि इस दौरे की अधिकृत जानकारी जब प्रशासन से टटोली तो प्रशासन भी कुछ साफ  नही कर पाया। मतलब झाबुआ उपचुनाव के पहले प्रभारी मंत्री का पेटलावद विधानसभा मे हुआ गुपचुप दौरा आखिर कांग्रेस की किस रणनीति का हिस्सा है....? अभी तो समझ के बाहर ही है।

-प्रभारी मंत्री ने आखिर गुपचुप दौरे के लिए पारा ही क्यों चुना ?

झाबुआ विधानसभा उपचुनाव की राह पर है, ऐसे मे विगत दिनो जिले के प्रभारी मंत्री सुरेन्द्रसिह बघेल का गुपचुप तरिके से रात मे पारा दोैरा हुआ । बताया जाता है पारा मे मंत्री ने लगभग तीन घण्टे बिताये और पार्टी का आनंद लिया । लेकिन इस दौरान पार्टी मे शामिल हुए लोगो को साफ  निर्देश थे कि इस दौरे के बारे मे किसी को भी नही बताया जाय । इसी कारण पारा क्षैत्र के कांग्रेसी नेताओ को भी मंत्रीजी के इस दोैरे के बारे मे सूचना नही दी गई। लेकिन मंत्रीजी इस गुपचुप दौेरे के बारे में जैसे-जैसे खबर छन कर बाहर आ रही है, तो कांग्रेसी भी आश्चर्य में है- आखिर हमको क्यों नही बताया गया कि मंत्री जी हमारे क्षैत्र मे आ रहे......? 

-कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के करीबी भी पहुचे

इस दोरे मे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के करीबी भी पहुचे, लेकिन सुत्र बताते है कि वरिष्ठ नेता को मंत्रीजी के इस दौरे की जानकारी शायद आज तक नही है । अब वरिष्ठ नेता के करीबियो ने उन्हे रात के इस गोपनीय दौरे के बारे मे बताया या नही यह अलग बात है, लेकिन हमारे जो तस्वीरे है उनमेवरिष्ठ  नेता के करीबी मंत्री का जोरदार स्वागत करते जरूर दिखाई दे रहे है । ऐसे मे साफ  है  यदि करीबियो ने ही मंत्री के इस दौरे को वरिष्ठ नेता से छुपाया तो आखिर क्या कारण था और किसकी नसीहत थी...? कि इस दोैरे केा इतना गोपनीय रखा जाय कि किसी को खबर ही नही लगे। इस पर जरूर गौर करना चाहिये क्योकि राजनिति मे सब कुछ संभव है।

-भाजपा संगठन के बजाय सांसद के भरोसे 

कहते है भाजपा में संगठन का काफी महत्व है लेकिन झाबुआ जिले मे भाजपा संगठन के बजाय सांसद के भरोसे होती जा रही ह,ै जो की भाजपा के स्वास्थ्य के लिए ठीक नही होगा । वर्तमान मे सांसद लोकसभा सत्र मे व्यस्त हैे ओर संगठन चुनाव की रणनीती बनाने के बजाय सांसद महोदय का इंतजार कर रहा है । बताया जाता है कि सदस्यता अभियान का ग्राउन्ड जीरो पर रिजल्ट जीरो है । ऐसे मे उपचुनाव की दहलीज पर खडी भाजपा मे प्रदेश मे सत्तासीन कांग्रेस से कैेस मुकाबला करेगी.....? खैर भाजपा संगठन का सपना कश्मीर से धारा 370 को हटा कर अखंड भारत का निर्माण करना था वह पूरा हो गया। जल्द  इससे भाजपा को नई उर्जा मिलेगी । 

Post A Comment:

0 comments: