देवास~सतवास के बालक माध्यमिक विद्यालय का मामल, ~~

अतिथि शिक्षिका के साथ हेडमास्टर द्वारा जवरजस्ती बालात्कार, आरोपी को 23 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 13,000 रूपये का अर्थदण्ड,~~

अनिल उपाध्याय देवास~~

खातेगांव /सतवास
शुक्रवार को जिला एवं न्यायाधीश माननीय मनोज तिवारी ने सतवास के बालक माध्यमिक विद्यालय की अतिथि शिक्षका के साथ विद्यालय के हेड मास्टर बाबू  खां बनारसी को  23.वर्ष का सश्रम कारावास एव 13 हजार का अर्थदंड से दंडित किया हे!

घटना के संबंध मे लाखनसिंह मामा ,मोहनसिंह के साथ थाना सतवास मे इस आशय से रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि बालक माध्यमिक विद्यालय सतवास मे अभियोत्री अतिथि शिक्षक के पद पर कार्य कर रही थी। हेड मास्टर बाबूखॉ वनारसी निवासी सतवास उसे करीब 3 माह से लगातार धमकी दे रहा था!
कि वह उसके साथ शारीरीक संबंध बनाये और यदि उसने ऐसा नही किया तो उसे वह नोकरी से निकाल देगा इस कारण से डर के कारण अभियोत्री ने यह बात अपने परिवार वाले को नही बताई  18 जनवरी 2017 को स्कूल की छुटटी होने के बाद आरोपी बाबूखॉ जो कि हेडमास्टर था !उसने उसे रोका और कक्षा आठवी के क्लासरूम मे बाबू बनारसी कमरे मे आया जब अभियोत्री रिजल्ट शीट पर नम्बर चढा रही थी !बाबूखॉ कमरे मे आया और आते ही दरवाजा लगाकर नजदीक मे आकर अभियोत्री को पकड लिया, और डरा धमकाकर उसके साथ जबरजस्ती बालात्कार किया और इस प्रकार की धौंस दी कि घटना के बारे मे किसी को जानकारी दी तो जान से खत्म कर दूंगा ,और नोकरी से निकाल दूंगा । अभियोत्री ने अपने घर जाकर घटना के बारे मे अपने पिता लाखनसिंह व मां कलाबाई को घटना के बारे मे बताया और फिर मे थाने जाकर रिपार्ट की।

पुलिस सतवास द्वारा प्रकरण मे अनूसंधान पूर्ण कर खातेगॉव न्यायालय में प्रस्तुत किया गया तमाम साक्ष्य निर्धारण के पश्चात अपरसत्र न्यायधीश ने अपने निर्णय मे उक्त अपराध मे आरोपी को दोषी पाते हुए धारा 342 भा.द.वि. के अन्तर्गत एक वर्ष का सश्रम कारावास एवं 1000/ का अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया, 376 2 (बी) भा.द. बी. के अन्तर्गत दस वर्ष का सश्रम कारावास एव 5000/ का अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया।
धारा 376 2 (ज्ञ) के अपराध मे दस वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5000/ के अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया।
धारा 506 भाग-2 के अन्तर्गत 2 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 2000/ के अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया।
इस प्रकार आरोपी को कुल 23 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 13000/ के अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया।
सभी सजाए एक के बाद एक भुगताई जावेगी।
अपर सत्र न्यायाधीश ने अपने निर्णय मे स्पष्ट किया की अभियोत्री अतिथि शिक्षक बालक माध्यमिक विद्यालय सतवास मे उक्त दिनांक को कार्यरत थी और आरोपी बाबूखॉ बनारसी हेडमास्टर था उसके द्वारा अपने अधिनस्थ अतिथि शिक्षिका को शिक्षा कैन्द्र मे रोक कर जबरन बलात्कार किया । उसका यह अपराध गंभीर प्रकृती का होकर अपने अधिनस्थ लोकसेवक के साथ यह घिनाना कृत्य है।
समाज मे इस प्रकार के बड़ रहे अपराध को और अधिनस्थ व्यक्ति की स्वतंत्रता का खण्डन होकर उसके साथ किया गया अपराध सर्वथा दंडनीय है।!न्यायालय द्वारा आरोपी का जैल वारंट बनाकर जैल भेजा गया । राज्य शासन की और से पैरवी अपरलोक अभियोजक गिरधर गोपाल तिवारी ने की!


Post A Comment:

0 comments: