*बुरहानपुर~कमलनाथ सरकार ने बुरहानपुर में आसिफ़ा कांड में फ़ंसे 52 युवकों सहित वर्तमान विधायक एवं विधायक के भतीजे पर लगे केस वापस लिए वापस ~~

बुरहानपुर(मेहलक़ा अंसारी)*

एडवोकेट हनीफ़ शेख़ एवं अन्य सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार आसिफ़ा  मामले में बुरहानपुर में 20 अप्रैल 2018 को निकाली गई रैली के बाद हुई हिंसा में वर्तमान निर्दलीय विधायक ठाकुर सुरेंद्र सिंह शेरा भैय्या, उनके भतीजे और यूथ आईकॉन  हर्षित सिंह ठाकुर सहित एक संप्रदाय के लगभग 52 युवकों पर विभिन्न धाराओं में प्रकरण थाना  कोतवाली द्वारा दर्ज किए गए थे ,साथ ही कुछ युवकों पर रासुका के तहत कार्यवाही की गई थी । मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार के मुखिया  श्री कमलनाथ ने वर्तमान निर्दलीय विधायक ठाकुर सुरेंद्र सिंह शेरा भैया उनके भतीजे हर्षित सिंह ठाकुर सहित 52 निर्दोष युवकों पर आरोपित केस उठाने का फैसला की है और संचालक अभियोजन संचालनालय, मध्यप्रदेश शासन भोपाल द्वारा शासन के निर्णय से कलेक्टर बुरहानपुर को अवगत कराया गया है ।बता दें कि इस मामले को लेकर विधायक के भतीजे और युथ कांग्रेस नेता हर्षित सिंह ठाकुर ने 29-30 अगस्त 2019को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय कमलनाथ से प्रतिनिधिमंडल के साथ भेंट कर मुख्यमंत्री से प्रकरण वापस लेने की मांग की थी । मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय कमलनाथ ने प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों को आश्वस्त किया था कि यह कार्यवाही प्रक्रियाधीन है तथापि इस मामले में आप मध्यप्रदेश के गृहमंत्री माननीय बाला बच्चन से भेंटकर उन के निरंतर संपर्क में रहें । मध्यप्रदेश शासन के आज के इस निर्णय से निर्दोष युवकों को राहत मिलेगी । हर्षित सिंह ठाकुर ने इस नुमाइंदे को बताया कि तत्कालीन भाजपा सरकार ने राजनैतिक द्वेष की भावना से प्रकरण पंजीबद्ध किए थे । हर्षित सिंह ठाकुर ने मध्यप्रदेश सरकार के इस फैसले का स्वागत करते हुए उन्होंने माननीय मुख्यमंत्री कमलनाथ जी का आभार माना है ।सोशल मीडिया पर डाली गई पोस्ट एवं चर्चाओं के अनुसार अब इस मामले की क्रेडिट लेने के लिए नेता गण घर से निकल गए हैं और हार फ़ूल चालू हो जाएगा। ऐसे लोगों से अब सावधान रहने की ज़रूरत है।


Post A Comment:

0 comments: