दसाई~~एकादशी के अवसर पर दसाई के विभिन्न मंदिरों से आकर्षक झूले सजे~~

जगदीश चौधरी (खिलेडी)6261395702~~

गंगा जलिया पर 7:00 बजे सामूहिक स्नान के बाद झुलों का नगर भ्रमण आरंभ हुआ। रास्ते में जगह-जगह लोगों ने भगवान की खोल भराई । इस अवसर पर पंजीरी की विशेष प्रसाद बांटी गई। सुरक्षा व्यवस्था मैं बड़ी संख्या में पुलिस जवान और अधिकारी लगे रहे ।

दसाई में देव झुलनी एकादशी पर झूले निकलने का इतिहास दशकों पुराना है । पूर्व काल में जब नगर में सड़के नहीं थी और साधनों के अभाव में भगवान को  तरवाने में बिठाकर कंधों पर पालकी रखकर भ्रमण करवाया जाता था । समय बदला तो बैलगाड़ियों में झूले निकलने लगे  आधुनिकता के इस दौर में पालकी का स्थान नयनाभिराम झूलों ने ले लिया।

नगर के 19 मंदिरों से निकलने वाले झूलो को 8 दिनों पूर्व से ही आधुनिक साज-सज्जा और आकर्षक बनाया जा रहा था ।  शाम 6:00 बजे बाद सभी झूले परंपरागत रूप से गंगाजलियां पहुंचे । जहां इच्छा पूर्ण मंदिर परिसर में देव स्नान के बाद आरती की गई । झुलो का तेजाजी चौक मंदिर से नगर प्रवेश हुआ । नया बाजार मैं हजारों की तादात में लोग देवदर्शन को उमड़े । हाथों में गेहूं की कटोरी और उसमें फल और नकदी भेंट चढ़ा कर लोगों ने खोल भराई । झूले  से परंपरागत रूप से पंजीरी आदि की प्रसाद बांटी गई ।

रास्ते मे भूत मोहल्ला स्वागत मंच की अौर से सभी श्रद्धालुओं को फरियाली खिचड़ी  बाटी गई  साथ ही सभी मंदिर के पुजारियों को दिवाल घड़ी देकर  सम्मानित किया गया  व मां  जयंती वृक्षारोपण समिति के सदस्यों का भी सम्मान किया गया
स्वागत मंच लगातार 5 वर्षों से सभी श्रद्धालुओं के लिए फरियाली खिचड़ी  एवं  सभी मंदिर के पुजारियों का सम्मान कर रहा है इस अवसर पर भूत  मोहल्ला स्वागत मंच के सोनु पाटीदार मयंक शर्मा मनीष चौधरी  विशाल शर्मा राहुल  पाटीदार श्याम पाटीदार वंश  पौराणिक अंश पौराणिक आदि कार्यकर्ता इस अवसर पर नगर के अनिल शर्मा मुकेश केवल जी जगदीश चौधरी निलेश परमार भुपेन्द परमार अभिषेक मारू दिनेश पटेल प्रतिक राठौड़ जितेंद्र सोनगरा पवन भूत मनोज धनाजी डॉक्टर अमृत पाटीदार मुकेश लोगरजी  अशोक धनाजी आनंद  पौराणिक आदि लोग उपस्थित थे।


Post A Comment:

0 comments: