खिलेडी/कड़ोदकलाँ~~  सदियों से चलती आ रही आपसी हिंदू मुस्लिम भाईचारा की मिशाल~~

जगदीश चौधरी (खिलेडी)6261395702~~

कड़ोदकलाँ प्रतिवर्ष अनुसार इस वर्ष भी नगर कड़ोदकलाँ में ढोल ग्यारस के पावन पर्व मनाया गया। जिसमें हजारों संख्या में भक्तगण शामिल हो व नंद घर आनंद भयो जय कन्हैयालाल की के जयकारे लगाए गए।

ढोल ग्यारस पर नगर के प्रमुख मंदिर धाकड़ समाज मंदिर, पाटीदार समाज मंदिर, कलोता समाज मंदिर, राजपूत समाज मंदिर से आकर्षक झूले निकले शुरूआती गांधी चौक से हुई। जहां पर सभी झूले एकत्रित होकर नगर में शीतला माता मंदिर होते हुए तेजाजी चौक पहुंचे।

भारी बारिश के कारण सभी झूलो को तेजाजी मन्दिर परिसर में विराजमान किए। मंदिर में ही झूले पर श्रद्धालुओं द्वारा पूजा अर्चना कर श्रीफल, केले, ककड़ी व अन्य फल की प्रसादी चढ़ाई गई।

वही हमारे नगर में एक हिंदू मुस्लिम की एकता देखने को भी मिली । हिंदू मुस्लिम भाइयों ने मिलजुलकर मोहरम (ताजिये) व ढोल ग्यारस (झूला ग्यारस) का त्योहार एक ही दिन दोनों धर्म के त्यौहार होने के कारण गांव में दिन भर खुशी का माहौल बना रहा और बड़े हर्षोल्लास के साथ गांव में भगवान श्री कृष्ण के ढोल ग्यारस के झूलेऔर मोहर्रम (ताजिए) निकाले गए। साथ ही मुस्लिम कमेटी में अखाड़े मैं भी एक से एक करतब देखने को मिले। नगर में सुबह से ही श्रद्धालुओं की आस्था देखने को मिली

आस्था के ढोल के साथ श्री कृष्ण ने किया नगर भ्रमण नगर में करीब शाम 3 बजे से ही लोगों का ताता बढ़ता रहा। तेजाजी चौक पर पहुंचे झूले जहां पर सभी झूलों की महाआरती की गई और प्रसादी भी वितरण की गई। हिंदू समाज के लोग वह मुस्लिम समाज के लोग एक दूसरे के गले मिलकर और मुस्लिम समाज द्वारा सभी डोल का स्वागत कर आपसी भाईचारे की मिसाल पेश की गई कमेटी के सदर कादर शाह ने कहा कि नगर कड़ोद कला में सदियों से चलती आ रही आपसी हिंदू मुस्लिम भाईचारा खुदा से दुआ करता हूं कि यह मिसाल सदियों तक हिंदू मुस्लिम प्रेम की लहर इस नगर में बनी रहे और आने वाली युवा पीढ़ी भी यह प्रेम बनाए रखें। मुस्लिम कमेटी द्वारा भारत माता की जय के नारे भी लगाए हुए। ऐसा जोरदार नजारा शायद ही कहीं देखने को मिलता है हमारे नगर मैं हिंदू मुस्लिम की एकता के चर्चे बहुत दूर-दूर तक फैले हुए हैं अगर यह भाईचारा पूरे देश में हो जाए तो हमें किसी भी बात के लिए मोहताज नहीं।


Post A Comment:

0 comments: