पलसूद~जनशिक्षा केंद्र स्तर पर हुआ कहानी उत्सव, प्राथमिक मिडिल स्कूल के विद्यार्थी हुवे सम्मिलित,चयनित विद्यार्थी  राज्य स्तर तक पुरष्कृत होंगे ~~

सवांददाता उमर फारूक शैख़~~

पलसूद :-नगर के जनशिक्षा केंद्र कन्या उमावि पलसूद मे हरिशंकर परसाई जयंती के उपलक्ष्य मे कहानी उत्सव का आयोजन किया गया जिसमे प्राथमिक मिडिल स्कूल से कक्षा 5 वी से 8वी तक के स्कूल स्तर पर  तीन तीन चयनित विद्यार्थी जनशिक्षा केंद्र स्तर के कहानी उत्सव मे सम्मिलित हुवे जनशिक्षा केंद्र से तीन विद्यार्थियों वर्षा कालू प्रथम, संतोष दयाराम द्वितीय मावि निहाली से एवं इंग्लेश आपसिंग तृतीय स्थान मावि सिदड़ी से चयनित हुवे है इन्होने सभी विद्यार्थियों की उपस्थति मे घमंडी पेड़, मकड़ी जाला ओर चींटी, लालची कुत्ता जैसे रोचक कहानियाँ सुनाई इन विद्यार्थियों को प्रत्येक स्तर पर पुरष्कृत होंगे व बच्चो का रीडिंग कौशल बेहतर रहा है,शिक्षकों मे केवल अलावे, दिलीप चौहान, भारती मोदी जनशिक्षा केंद्र स्तर से चयनित हुवे है  कहानियाँ बच्चो के जीवन मे पढ़ने की आदत के साथ धारा प्रवाह, उद्देश्य व प्रत्येक कहानी से शिक्षा प्राप्त होती है निर्णायक मे इमरान शेख, हमीदा कुरैशी, केवल अलावे, कमलसिंह बघेल, ज्योति डावर द्वारा निर्णय दिए गए  जनशिक्षक सुरेशचंद्र राठौड़ ने बताया जनशिक्षा केंद्र से चयनित विद्यार्थी व शिक्षक विकास खंड स्तर पर हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य मे कहानी उत्सव मे दिनांक 14/09/2019 को चौदह जनशिक्षा केंद्र से तीन तीन चयनित विद्यार्थी व शिक्षक प्रस्तुति देंगे विकासखंड से तीन चयनित विद्यार्थी व शिक्षक जिला स्तर पर रामधारी सिंह दिनकर जयंती के उपलक्ष्य मे दिनांक 23/09/2019 को सहभागिता कर प्रस्तुति देंगे जिला स्तर से तीन तीन चयनित विद्यार्थी शिक्षक राज्य स्तर पर आयोजित कहानी उत्सव मे सहभागिता करेंगे, इस प्रकार के आयोजन से विद्यार्थियों को सीखने के अवसर के साथ प्रत्येक स्तर पर पुरष्कृत भी किये जायेंगे, प्रमाण पत्र वितरण किये जायेंगे, राज्य शिक्षा केंद्र के सर्कुलर अनुसार आयोजन  होंगे विद्यार्थियों मे प्रतिस्पर्धा एवं अच्छा बोलने व अपनी बात रखने का मंच मिलता है ज्ञात है कि प्रत्येक शनिवार विद्यार्थियों को बालसभा के माध्यम से भी अपनी बात कहने के अवसर दिया जाता है जिससे बच्चो के बहु आयामी व्यक्तित्व विकास हेतु सह शैक्षिक क्षेत्रो के माध्यम से विशेष प्रयास किये जाते है।
पलसूद से


Post A Comment:

0 comments: