बड़ी खट्टाली :- चारभुजा धाम खट्टाली में आयोजित होने वाले डोल ग्यारस पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया गया~~

डोल ग्यारस पर्व के इस महाआयोजन का शुभारंभ प्रातः मंगला आरती  06,00 से  हुआ।आरती पश्च्यात प्रभात फेरी पूरे नगर मे निकली जिसमे किर्तन करते नर..नारी शामिल हुए।उसके बाद हुई भगवान की श्रृंगार आरती हुई।  इस विशेष आयोजन में बाहर से आने वाले  श्रद्धालुओं का  आगमन शुरू हो जाता हे। यहाँ विशेष बात यह है कि  यहां मिलने वाला (मठडी,सागर,लड्डू) का प्रसाद  जो कि राजस्थान के मशहूर कारीगरों द्वारा तैयार किया  गया। श्रद्धालु मंदिर में दर्शन उपरांत सशुल्क प्राप्त करते है । करीब 11,30 बजे मंदिर पर ध्वजारोहण का कार्यक्रम जो कि करीब 11 बंदूको की सलामी देकर होता है  जिसे हर कोई देखकर अभिभूत होता है । पर्व को लेकर ग्राम के  सभीसमाज में  उत्साह देखा गया। ध्वजारोहण के बाद होती है राजभोग आरती जिसमे भगवान को छप्पन भोग की प्रसादी भोग स्वरूप चढ़ाई गई। राजभोग आरती में भगवान श्री चारभुजा नाथ जी का रूप जीवन्त स्वरूप में देखा गया इस दर्शन को हर भक्त अपनी हृदय स्मृति में रखता दिखा ।इस एक दिवसीय डोल ग्यारस के मेले में झाबुआ, धार, इंदौर ,अलीराजपुर, खरगोन,छोटा उदयपुर ,वडोदरा गुजरात के विभिन्न श्रद्धालु विशेष रूप से पहुंचते है। उक्त आयोजन में क्षेत्र के आदिवासी भाई भी बड़ी संख्या में शरीक होते हैं।  इस पूरे दिन का विशेष आकर्षण चल समारोह रहा। जिसमें हाथी, घोड़े ,बग्गी आदि के साथ चल समारोह का अपना अलग महत्व होता है । एक ओर रंग बिरंगी गुलाल, फूलो ओर प्रभु के रंग की होली हर कोई अपनी भक्ति को प्रभु के श्रीचरणों  में होता हुआ अपने आप को धन्य करता नजर आया। ग्राम में  बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए माहेश्वरी समाज ,जैन समाज, राठौड़ समाज, ब्राह्मण समाज, सेन समाज एवं प्रजापत समाज,मुस्लिम समाज, आदिवासी समाज,कर्मचारी वर्ग, सहित समस्त समाज जन काफी सक्रिय रहे।  ग्राम में ग्रामवासी बाहर से आए श्रद्धालुओं को आतिथ्य सत्कार करते देखे गए।। उक्त आयोजन में जोबट ,अलीराजपुर, नानपुर, छोटा उदयपुर से पैदल श्रद्धालु बड़ी संख्या में पैदल आये। तथा भगवान चारभुजा नाथ के दर्शन कर अपने को धन्य करते रहे  ।हरि सत्संग समिति द्वारा नाम मात्र के शुल्क पर चाय की  टी स्टाल की व्यवस्था की गई। अनेक संगठन द्वारा पैदल पहुंचने वाले श्रद्धालु हेतु स्वल्पाहार चाय व ठंडे पानी की व्यवस्था की जाती है।डोल ग्यारस पर्व पर रहने वाले जन सैलाब को देखते हुए समिति द्वारा ड्रोन कैमरे की निगरानी में  सुरक्षा रखी गई  ।चल समारोह में मानव रहित विमान खास आकर्षक का केंद्र रहा। इस विमान से चारभुजा मंदिर एवं चल समारोह में पुष्प वर्षा की गई। उक्त कार्यक्रम में  अनेक प्रशानिक व राजनीतिक हस्तियो ने भगवान श्रीचारभुजानाथजी के दर्शन कर क्षेत्र की खुशहाली के लिए ओर अपने स्वयं केलिए आशीर्वाद लिया।इस पूरे आयोजन में प्रशासन स्तर  से बहुत अच्छी व्यवस्था देखने को मिली।हर पाइंट पर पुलिस जवानों की टुकड़िया सुरक्षा को ओर भी चाक चौबन्द करते दिखी।


Post A Comment:

0 comments: