*झाबुआ~बीना टी.आई. का मेघनगर थाना किस प्रकार की सुरक्षा मुहैया करवाता हैं.....*~~

*मेघनगर में क्या दे पाएगा नवरात्रि में महिलाओं को सुरक्षा*~~

*मेघनगर ट्रैफिक व्यवस्था भी शून्य*~~

*✍झाबुआ से दशरथ सिंह कट्ठा~~*

झाबुआ - एक कहावत आपने सुनी जरूर सुनी होगी कि... *बिन पानी सब सून* ऐसी हालत मेघनगर थाने में बीते 45 दिनों से कोई भी टी.आई. की नियुक्ति नहीं है। इस वजह से मेघनगर पुलिस की लॉयन ऑर्डर व सुरक्षा व्यवस्था की स्थिति दिन-ब-दिन बिगड़ती नजर आ रही है। पूर्व में एक लूट की घटना में मेघनगर थाना पुलिस द्वारा अपने कार्यों में लापरवाही बरतने पर जिला पुलिस कप्तान विनीत जैन ने 13 पुलिसकर्मियों को इधर से उधर कर दिया था जिस वजह से मेघनगर थाना पुलिस का पूरा स्टाफ चेंज हो गया था। मेघनगर पूर्व थाना प्रभारी श्रीमती आरती चराठे को लाइन में जाने के बाद मेघनगर थाने की कमान सब इंस्पेक्टर आर.एस. झाला ने संभाली तो कुछ ही दिनों बाद रिक्त पद पर आए झाबुआ कोतवाली से सब इंस्पेक्टर हीरालाल मालिवाड को मेघनगर थाना प्रभारी का चार्ज दिया गया।इसकी टोपी उसके सर का खेल काफी दिनों से मेघनगर थाने में देखा जा सकता है कभी आर एस झाला को प्रभारी बना दिया जाता है तो कभी हीरालाल मालीवाड़ को जिससे मेघनगर थाने पर वर्क स्टाइल बदलता हुआ नजर आ रहा है ।अब अपने कार्यों के प्रति सजग ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ  जिला पुलिस कप्तान विनीत जैन कितनी जल्दी यहां पर किसी सिंघम  टी आई की नियुक्ति करते हैं यह तो साहब को तय करना है लेकिन पूर्व में जो भी थाना प्रभारी मेघनगर में आए चाहे वह बलराज , पदम सिंह बघेल, चौधरी या बरर्डे सबने अपने-अपने वर्क स्टाइल से काम करके काफी हद तक लूट हत्या डकैती एवं क्राइम को कम किया है। जिसे आज भी मेघनगर की जनता याद कर सराह रही है । अब जहां एक और झाबुआ विधानसभा उपचुनाव होने की वजह से सिर पर आदर्श आचार संहिता है तो वहीं दूसरी ओर नवरात्रि मैं रात भर दर्शकों का मॉ अम्बे दर्शन के लिए आना जाना ऐसे में बीना टी आई का मेघनगर थाना किस प्रकार की सुरक्षा मुहैया कराता है यह देखने का विषय रहेगा।

*मेघनगर ट्रैफिक व्यवस्था बदहाल*

झाबुआ जिले का मेघनगर शहर ट्रैफिक व्यवस्था को लेकर हमेशा बदनाम रहा है। क्योंकि यहां पर वाहनों की आवाजाही काफी भारी मात्रा में होती है।जिसको लेकर जिला पुलिस कप्तान ने नगर के समाजसेवी और मीडिया की शिकायत पर चार ट्रैफिक जवान एवं एक ट्रैफिक सूबेदार की व्यवस्था की थी। लेकिन आजाद चौक ,साईं चौराहा, बस स्टैंड, दशहरा मैदान ,झाबुआ चौराहा, सदर बाजार इन व्यस्ततम जगह पर ट्रैफिक पुलिस का दिखना ..मानो भगवान के साक्षात दर्शन हो जाना लगता है तमाम नगर के धार्मिक आयोजन एवं ट्रैफिक शिकायतों के बाद लगता है नगर की ट्रैफिक व्यवस्था शून्य हो चुकी है। दशहरा मैदान नवरात्रि पंडाल लगने की वजह से मेघनगर एंट्री के लिए वन वे रोड महावीर भवन के समीप से निकलता है ऐसे में किस तरह की ट्रैफिक व्यवस्था आने वाले में दिनों में देखने को मिलती है यह देखने का विषय रहेगा वैसे नगर की मीडिया की शिकायत पर जिला पुलिस कप्तान ने मेघनगर ट्रैफिक पुलिस को फटकार लगाई है।अब एसपी साहब की ट्रैफिक पुलिस को फटकार व आदेशों को खेल समझने वाली मेघनगर ट्रैफिक अनुशासन के साथ कितने समय तक जनसेवा देशभक्ति करती है यहां आने वाले दिनों में अपनी कलम से सबको रूबरू कराएंगे।


Post A Comment:

0 comments: