बड़वानी~बच्चों के सुपोषण में सामाजिक भागीदारी के साथ अंतर्विभागीय समन्वय जरूरी-न्यायाधीश श्री जोशी~~

बड़वानी / सही पोषण और व्यवस्थित टीकाकरण से ही बाल मृत्यु व कुपोषण पर विजय प्राप्त की जा सकती है। इस कार्य में अंतर्विभागीय समन्वय के साथ सामाजिक भागीदारी भी सुनिश्चित होना जरूरी है।
उक्त बातें जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री रामेश्वर कोठे के मार्गदर्शन में पोषण माह के अंतर्गत आशाग्राम ट्रस्ट द्वारा आयोजित कार्यशाला सह विधिक साक्षरता शिविर में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव हेमन्त जोशी ने कही। उन्होने आशा कार्यकर्ताओं को अपने कार्य के साथ-साथ विधिक ज्ञान के संचार में न्यायदूत के रूप में जुड़ने की बात कही। कार्यशाला में तृतीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री आशुतोष अग्रवाल ने आशा कार्यकर्ताओं को अपने कार्य के सही प्रस्तुतिकरण के साथ ग्राम में अपनी उपस्थिति को सार्थक बनाने के लिए कहा। पोषण माह में दिव्यांगजनों के हितार्थ भी गृह आधारित पोषण पर जिला दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र के पदाधिकारियों द्वारा आशा कार्यकर्ताओं को जानकारी प्रदान की गई वहीं गृह आधारित बच्चों की देखभाल पर भी विशेषज्ञों ने कार्यकर्ताओं को बताया।
कार्यशाला में पोषण की जानकारी देने के लिए पोषण युक्त तिरंगा आहार की थाल सजाकर पोषण आहार से रूबरू करवाया गया।
इस दौरान जिला कम्युनिटी मोबिलाईजर श्री अशोक कनाड़े, जिला दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र के श्रीमती नीता दुबे, दिपेन्द्र पटेल, आशा पटेल, विकास श्रीवास्पत, बीसीएम प्रियंका शाह आदि उपस्थित थे।


Post A Comment:

0 comments: