बड़वानी~स्वच्छता सेवा है तो पॉलिथीन से मुक्ति मानव धर्म - न्यायाधीश जोशी~~

बड़वानी /स्वच्छता ही सेवा है और इसे अपने घर तक सीमित न रखकर परिवेश को भी स्वच्छ रखना सेवा की व्यापकता है। तथा प्रयोग में आकंठ तक परिवेश में समाहित पॉलिथीन से मुक्ति ही मानव धर्म है। उक्त बातें आशा ग्राम ट्रस्ट में स्वास्थ्य विभाग के तहत आयोजित प्रशिक्षण में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एडीजे श्री हेमंत जोशी ने कही। बच्चों की ग्रह आधारित देखभाल के लिए दिए जा रहे प्रशिक्षण में जल स्वच्छता एवं व्यक्तिगत साफ-सफाई भी एक परिशिष्ट है जिसमें स्वच्छता की शुरुआत घर से ही करने की सीख दी गई। पर्यावरण प्रदूषण के लिए जिम्मेदार पॉलिथीन को जीव जगत के लिए खतरनाक बताया।
    आशा कार्यकर्ताओं ने भी अपने अनुभव साझा करते हुए न्यायाधीश जोशी को बताया कि दुकानों से अब तो खाद्य सामग्री तेल दूध भी चाय भी सिंगल यूज पॉलिथीन में बेचे जा रहे हैं।
     आशाओं के द्वारा अपने घर से पॉलिथीन को बाहर करने की शपथ लेकर बाजार के लिए घर से झूला ले जाकर जाने की बात कही। इस दौरान पोषण हर बच्चे का अधिकार अबकी बार कुपोषण पर प्रहार विषय पर आशा और सहयोगियों के द्वारा लोक गीत की प्रस्तुति दी गई।
    वहीं जिला दिव्यांग पुनर्वास केंद्र आशा ग्राम ट्रस्ट के द्वारा दिव्यांग का जागरूकता पोस्टर बांटे गए इस अवसर पर जिला कम्युनिटी मोबिलाइजर श्री अशोक कनाडा डीडीआरसी की प्रशासकीय अधिकारी श्रीमती नीता दुबे मास्टर ट्रेनर्स एवं पैरा लीगल वालंटियर आदि उपस्थित थे।


Post A Comment:

0 comments: