टीकमगढ़~मयंक खरे के अपहरण का खुलासा*~~

*इसाक इकबाल और पन्नू चतुर्वेदी सहित 11 लोग पुलिस गिरफ्त में*~~
        
टीकमगढ़ पुलिस द्वारा विगत 14 दिनों में  लगातार मेहनत लग्न और सूझबूझ से कार्यवाही करते हुए नरसिंह कॉलोनी टीकमगढ़ के मयंक खरे के अपहरण के मामले को सुलझा लिया है एवं प्रमुख आरोपी ईशाक खान इकबाल खान एवं पन्ना लाल चतुर्वेदी को उनके सहयोग करने एवं साक्ष्य को  छुपाने साक्ष्य नष्ट करने एवं संडयंत्र में शामिल होने वाले प्रमुख आरोपी आबिद खान फातिमा बेगम रहमान खान मजीद खान शहीद खान रहीम खान कल्लू खान वाहिद खान को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है।
      पुलिस महानिरीक्षक श्री सतीश सक्सेना पुलिस उपमहानिरीक्षक श्री अनिल महेश्वरी पुलिस अधीक्षक टीकमगढ़ श्री अनुराग सुजानिया अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री एम एल चौरसिया के मार्गदर्शन एवं एसडीओपी श्री सुरेश सेजवाल डीएसपी योगेंद्र सिंह एफएसएल अधिकारी श्री यादव के दिशा निर्देशन में थाना प्रभारी कोतवाली टीकमगढ़ निरीक्षक अनिल सिंह मौर्य थाना प्रभारी जतारा श्री आनंद सिंह परिहार थाना प्रभारी बमोरी कला उप निरीक्षक वीरेंद्र सिंह पवार थाना प्रभारी लिधौरा उप निरीक्षक हिमांशु भिंडिया उपनिरीक्षक हरीश सोलंकी उपनिरीक्षक नीतू सिंह उप निरीक्षक अनुजा मिश्रा उपनिरीक्षक रघुराज सिंह एवं कई पुलिस कर्मचारियों द्वारा लगातार 14 दिन तक सूझबूझ एवं मेहनत से कार्य करते हुए पूरे घटनाक्रम को खुलासा करने में सफलता प्राप्त की है।
         थाना कोतवाली टीकमगढ़ क्षेत्र में दिनांक 25/9 /19 के करीब शाम 5:00 बजे मयंक पिता सुभाष चंद्र खरे घर से बिना बताए गया था जो उसके भाई प्रियंक खरे द्वारा रात्रि 1:00 बजे मयंक के घूमने की रिपोर्ट कोतवाली टीकमगढ़ में की गई एवं गुम इंसान 61 /19 तत्काल कायम कर गहराई से जांच करते हुए उसकी तलाश करने हेतु हर संभव प्रयास किए गए मोबाइल फोन के बंद हो जाने से एवं परिवारजनों को मयंक द्वारा गुमराह करने से पुलिस को काफी परेशानी हुई बाद मयंक खरे के अपहरण में ईशाक की भूमिका को देखते हुए दिनांक 1/10/19 को धारा 365 ता.हि का प्रकरण पंजीबद्ध किया गया विवेचना के दौरान कई और लोगों के षड्यंत्र में शामिल होने साक्षय छुपाने एवं नष्ट करने तथा हत्या के लिए अपहरण के तथ्य प्राप्त होने पर प्रकरण में धारा 364 ,120b ,201 ,34 ता.हि भी बढ़ाई गई एवं दिनांक 4/10/ 19 को षड्यंत्र में शामिल रहीम पिता जाहर खान निवासी इटायली मजीद पिता जहीर खान निवासी इटायली तथा रहमान पिता नवि निवासी धोरा थाना अजनार को 4/10 /19 को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था ,आरोपी इसाक पिता रहमान खान उम्र 36 साल निवासी चकरा  तिराहा टीकमगढ़ इकबाल पिता नूर खान निवासी -ग्राम -बराना ,बमोरी कला को पूरे घटनाक्रम में प्रमुख आरोपी मानते हुए पुलिस द्वारा आज दिनांक 9/10 /19 को तड़के मध्य प्रदेश उत्तर प्रदेश की सीमा से गिरफ्तार किया गया आरोपी इसाक द्वारा घटना में प्रयुक्त बंदूक एवं कारतूस पुलिस द्वारा जप्त किए गए हैं तथा घटना में प्रयुक्त कार को एवं मयंक खरे की चप्पल एवं आरोपी इसाक की खून से लगी पेंट, कार का सीट कवर को पुलिस द्वारा पूर्व में जप्त कर मयंक खरे के मां पिता तथा आरोपी के पिता से डीएनए मिलान हेतु रक्त नमूना लेकर एफएसएल भेजे हैं जिनकी जांच रिपोर्ट प्राप्त होना शेष है प्रकरण में आरोपी इसाक खान आरोपी इकबाल निवासी बराना की गिरफ्तारी हेतु पुलिस महानिरीक्षक सागर द्वारा 25000- 25000 रुपए का इनाम घोषित किया गया था आरोपी इसाक द्वारा मयंक को 25/9 /19 को शाम को शराब पीने हेतु अपनी कार में बैठाकर विलगाएं कला क्षेत्र में ले गया शराब शराब में नशे की गोली डालने के बाद इसाक ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से कार में ड्राइवर सीट के बाजू में बैठे मयंक खरे को गोली मारी जो उसके कंधे में लगी फिर दूसरी गोली भी दागी जिसमें मयंक झुक गया जिससे गोली कार के पिछले दरवाजे को तोड़ते हुए बाहर निकल गई घायल मयंक को लेकर इसाक अपने गांव बराना गया तथा अपने चचेरे भाई इकबाल की मदद से मयंक का गला घोटा उसके बाद इटायली गांव के पास बॉडी ले जाते समय कार खराब हो गई तो इकबाल ने अपने रिश्तेदार शहीद, रहीस, मजीद को बुलाया जिन्होंने कार धोने में मदद की वहां आरोपी गणों ने मयंक की चप्पल इसाक का खून लगा पैंट गाड़ी के खून लगे सीट कवर बाबई के तालाब में फेंक दिए थे इसाक ने मृतक मयंक खरे का मोबाइल  सफेद रंग सैमसंग कंपनी का जिसका आई एम ई आई  351714/ 07/183154 /0, 331715 /07/183164/7 मॉडल  एसएम - जी 530 एच/ डीडी का जिसमें सफेद एवं काले रंग का प्लास्टिक कवर लगा हुआ  तथा एयरटेल कंपनी की 4G सिम लगी है अपने पास रख लिया था ,इसाक और इकबाल मृतक की लाश को लेकर कार से नौगांव तरफ गए और धशान नदी के पुल पर से मयंक खरे की लाश एक चादर में बांधकर नदी में फेंक दी नदी में अत्यधिक बाढ़ होने के कारण लाश नदी में बह गई तथा इसाक और इकबाल उस कार से अपनी बहन फातिमा के घर ग्राम धौरा थाना अजनार जिला महोबा रात्रि करीब 2:30 बजे पहुंचे अपनी बहन फातिमा और जीजा रहमान को घटना की जानकारी दी जिन्होंने इसाक और इकबाल के कपड़े उतरवाकर अपने लड़के के कपड़े पहनने हेतु आरोपियों को दिए बाद में इसाक इकबाल फातमा को लेकर सुबह अपने रिश्तेदार के 40वे में भाग लेने हेतु ग्राम बराना आ गए इसाक के पास इस समय भी अपनी लाइसेंसी बंदूक थी जो पुलिस द्वारा दबिश देने पर इसाक और इकबाल बराना से भागकर इटायली कला में पन्ना लाल चतुर्वेदी के घर रात्रि में रुके जहां पन्ना लाल चतुर्वेदी ने इन दोनों आरोपियों को घटनाक्रम को छुपाने एवं मदद करने के उद्देश्य से इसाक की बंदूक ,लाइसेंस तथा पासबुक अपने घर में छुपा कर रख ली और करीब ₹3000 देकर फिर उनको अपनी मोटरसाइकिल से गांव के बाहर तक छोड़कर भगाने में मदद की पुलिस द्वारा पन्ना लाल चतुर्वेदी फातमा पति रहमान खान निवासी धौर्रा उसके बेटे आवेद निवासी मानेसर गुड़गांव तथा शहीद पिता जहीर खान, बमोरी कला को भी साक्षय  नष्ट करने षडयंत्र में शामिल होने और अपराध छुपाने में मदद करने में गिरफ्तार किया पुलिस द्वारा अपराध क्रमांक 678 /19 धारा 365 ताहि इजाफा 364 ,201, 120 बी ,34 ता.हि मैं अभी नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।
,01. इसाक पिता रहमान खान उम्र 36 साल निवासी चकरा तिराहा ,02. इकबाल पिता नूर खान उम्र 30 साल निवासी बराना जिला टीकमगढ़ , 03 .पन्ना लाल चतुर्वेदी निवासी- इटायली कला ,04. मजीद पिता जहीर खान निवासी इटायली थाना बमोरी कला ,05 .रहीम पिता जहीर खान निवासी इटायली थाना बमोरी कला, 06 .शहीद पिता जहीर खान निवासी इटायली थाना बमोरी कला, 07. फातिमा पति रहमान खान निवासी धौर्रा थाना अजनार जिला महोबा, 08. रहमान पिता नवी बक्स निवासी धोरा थाना अजनार जिला महोबा, 09 .आवेद पिता रहमान खान निवासी -मानेसर गुड़गांव (हरियाणा ),10. कल्लू पिता रहमान खान निवासी चकरा तिराहा टीकमगढ़ ,11. वाहिद पिता रहमान खान निवासी धौर्रा थाना अजनार जिला महोबा उत्तर प्रदेश को पूरे प्रकरण में प्राप्त साक्ष्य के आधार पर गिरफ्तार किया गया ,आरोपी इसाक से मृतक मयंक खरे का  सैमसंग कंपनी का मोबाइल जिसमें मयंक खरे की मोबाइल सिम एयरटेल कंपनी की लगी हुई है जप्त कर कब्जा पुलिस लिया गया .|आरोपियों से पूछताछ पर मयंक खरे की हत्या की परिस्थितियां सामने आई एवं उन परिस्थितियों के आधार पर मयंक खरे की लाश को ढूंढने हेतु विशेष अभियान चलाया गया थाना बमोरी कला , थाना जतारा थाना पलेरा, थाना दिगौडा एवं थाना कोतवाली क्षेत्र में को  अथवा मृतक कि तलाश हेतु नदियों ,तालाबों ,जंगलों ,पहाड़ों पर तलाशी अभियान चलाया गया जिसमें करीब 100 लोगों को 10 दिनों तक इस कार्य में लगाया गया परंतु मयंक खरे की जीवित होने की संभावना कम होती गई परंतु पुलिस द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है मयंक खरे की लाश को आरोपियों द्वारा घटना के बाद 25 - 26 / 09/19 की रात्रि में ही करीब 2:00 बजे धसान नदी में फेंक देना बताया है बताएं स्थानों पर पुलिस लगातार तलाशी अभियान जारी है रखे हैं घटना दिनांक के बाद से दो-तीन दिन तक लगातार बहुत तेज बारिश होने से नदी में बहाव होने से मयंक के बारे में कोई और जानकारी नहीं मिली है ।
पुलिस अधिकारियों के अलावा इस प्रकरण के खुलासे में उप निरीक्षक मयंक नगायच ,आरक्षक रहमान खान ,आरक्षक अरविंद निरंजन ,आरक्षक अनुपम तिवारी की प्रमुख भूमिका है


Post A Comment:

0 comments: