बड़वानी~महात्मा गाँधीजी की 150वीं स्वर्ण जयंती वर्ष पर छात्राओं को दिलाई शपथ~~

बड़वानी /शासकीय कन्या महाविद्यालय, बड़वानी में महात्मा गाँधीजी की 150वीं स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर पर प्रभारी पा्रचार्य डाॅ. वंदना भारती, संयोजक डाॅ. स्नेहलता मुझाल्दा एवं सह संयोजक डाॅ. मनोज वानखेड़ ने महाविद्यालयीन स्टाॅफ एवं छत्राओं को संकल्प एवं शपथ दिलवाई एवं शपथ पत्र भरवाएँ।
महाविद्यालय प्रांगण में स्टाॅफ एवं छात्राओं ने स्वच्छ भारत अभियान के तहत महाविद्यालय प्रांगण की साफ-सफाई कर श्रम दान किया। प्रातः 11ः00 महात्मा गाँधी जी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह का सीधा प्रसारण दूरदर्शन और अन्य चेनलों पर छात्राओं और स्टाॅफ को दिखाया गया। सह संयोजक डाॅ. मनोज वानखेड़े ने सामुहिक साहित्य का विमोचन करवाया जिसमें महात्मा गाँधी के सत्य का सिद्धान्त के अनुसार महात्मा गाँधी की मान्यता थी कि “जो सत्य की कसौटी पर खरा न उतरे उसे छोड़ देना चाहिए, क्योंकि सत्य अंतरात्मा की वाणी है, इसीलिए जो सत्य है वही स्थाई है“। आपके विचारानुसार “व्यक्ति को मन, वचन, कर्म से सत्य के सिद्धांत का पालन करना चाहिए और हमारी समस्त क्रियाएँ सत्य के चारो और केन्द्रित रहनी चाहिए।” डाॅ. मनोज वानखेड़े ने बताया कि महात्मा गाँधी के सत्य, अहिंसा एवं सत्याग्रह के मार्ग पर चलकर देश को स्वतंत्र करवाया। आचार्य रवन्द्रनाथ टैगोर ने आपको “महात्मा”  से संबोधित किया वहीं श्री सुभाषचन्द्र बोस ने आपको राष्ट्रपिता से संबोधित किया।
प्रभारी प्राचार्य डाॅ. वंदना भारती ने महात्मा गाँधी के सिद्धांतो और आदर्शो पर व्याख्यान दिया। डाॅ. स्नेहलता मुझाल्दा ने महात्मा गाँधी के योगदान को संक्षिप्त में बताया। डाॅ. महेश कुमार निंगवाल ने महात्मा गाँधी के “स्वच्छ” भारत की बात की। प्रो. प्रियंका शर्मा ने महात्मा गाँधी के प्रिय भजन “रघुपति राघव राजाराम” को गाया। छात्रा कु. संगीता लाहौर ने भी बापू का भजन गाया।
इस अवसर पर महाविद्यालय के डाॅ. वंदना भारती, डाॅ. स्नेहलता मुझाल्दा, डाॅ. मनोज वानखेडे, डाॅ. डाॅ. महेश कुमार निंगवाल, जगदीश मुजाल्दे, डाॅ. विक्रम सिंह चैहान, डाॅ. दिनेश सोलंकी, डाॅ. रोहित पाटीदार, डाॅ. सायना खान, डाॅ. सुनीता भायल, प्रो. देवेन्द्र सिंह, प्रो. प्रियंका शर्मा, श्री शशांक कानुनगो, श्री संदीप दसौंधी, श्री देवी सिंग सेंगर इत्यादि स्टाॅफ एवं छात्राएँ उपस्थित रहीं। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. सायना खान ने किया। आभार डाॅ. सुनीता भायल ने माना।


Post A Comment:

0 comments: