।।  *सुप्रभातम्*  ।।
               ।।  *संस्था  जय  हो*  ।।
        ।।  *दैनिक  राशि  -  फल*  ।।
        आज दिनांक 23 नवम्बर 2019 शनिवार संवत् 2076 मास  मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि प्रातः 06:53 बजे तक रहेगी उपरांत द्वादशी तिथि मध्य रात्रि पश्चात एवं सूर्योदय पूर्व प्रातः 03:47 बजे तक रहेगी उपरांत त्रयोदशी तिथि लगेगी । आज सूर्योदय प्रातः काल 06:52 बजे एवं सूर्यास्त सायं 05:33 बजे होगा । हस्त नक्षत्र दोपहर 02:46 बजे तक रहेंगा पश्चात चित्रा नक्षत्र आरंभ होगा । आज का चंद्रमा मध्य रात्रि पश्चात 01:47 बजे तक कन्या राशि में भ्रमण करते हुए तुला राशि में प्रवेश करेंगे । आज का राहू काल प्रातः काल 09:28 से 10:48 बजे तक रहेंगा । दिशाशूल पूर्व दिशा में रहेंगा यदि आवश्यक हो तो उडद का सेवन कर यात्रा आरंभ करें । जय हो

                  -:  *विशेष*  :-

*आज है त्रिस्पृशा महाद्वादशी, सौ एकादशी करने का फल मिलता है*
******************************
*एकादशी, द्वादशी और त्रयोदशी तिथि संयुक्त होने से बना है शुभ योग*
=======================         आज यानी 23 नवम्बर की एकादशी तिथि का क्षय होने से बड़ा विचित्र संयोग हो गया है। बेहद शुभ त्रिस्पृशा महाद्वादशी व्रत आज 23 नवम्बर को वैष्णव लोग रखेंगे।
          हेमंत ऋतु में आने वाले मार्गषीर्श मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि का इस साल क्षय हो गया है। 22 नवंबर को दशमी युक्त उत्पन्ना एकादशी रही। वैसे शास्त्रों में दशमी युक्त एकादशी से दूर रहने को कहा गया है। 22 नवंबर को इसका व्रत स्मार्त सम्प्रदाय के श्रद्धालुओं ने व्रत रखा। आज यानी 23 नवंबर को त्रिस्पृशा महाद्वादशी व्रत वैष्णव श्रद्धालु रखेंगे।
          त्रिस्पृशा, जिसमें एकादशी, द्वादशी और त्रयोदशी तिथि भी हो, वह बड़ी शुभ मानी जाती है। कोई ऐसी तिथि का व्रत एक बार भी कोई कर ले, तो उसे एक सौ एकादशी करने का फल मिलता है। एकादशी माता श्रीहरि के शरीर से इसी दिन प्रगट हुई थीं। व्रतों में एकादशी को प्रधान और सब सिद्धियों को देने वाला माना गया है। एकादशी के दिन नदी आदि में स्नान कर, व्रत रख श्री हरि के विभिन्न अवतारों की लीलाओं का ध्यान करते हुए इनकी पूजा और दान आदि करना चाहिए।
          धर्मराज युधिष्ठिर ने जब उत्पन्ना एकादशी के बारे में भगवान श्रीकृष्ण से पूछा, तो उन्होंने कहा कि सत्ययुग में एक मुर नामक दैत्य था, जिसने इन्द्र सहित सभी देवताओं को जीत लिया। भयभीत देवता शिव से मिले तो, उन्होंने कष्ट दूर करने के लिए देवताओं को श्रीहरि के पास जाने को कहा। क्षीरसागर में शयन कर रहे श्रीहरि, इन्द्र सहित सभी देवताओं की प्रार्थना पर उठे और मुर दैत्य को मारने चन्द्रावतीपुरी गए।
          सुदर्शन चक्र के द्वारा उन्होंने अनगिनत दैत्यों का वध किया। फिर वे बद्रिका आश्रम की सिंहावती नामक 12 योजन लंबी गुफा में सो गए। मुर ने उन्हें मारने का जैसे ही विचार किया, वैसे ही श्रीहरि के शरीर से एक कन्या निकली और उसने मुर दैत्य का वध कर दिया।
          जागने पर श्रीहरि को उस कन्या, जिसका नाम एकादशी था, ने बताया कि मुर को भगवान के आशीर्वाद से उसने ही मारा है। खुश होकर श्रीहरि ने एकादशी को सभी व्रतों में प्रधान होने का वरदान दिया। सगरनंदन ककुत्स्थ, नहुष और राजा गाधि इसी व्रत को कर अपना जीवन सफल कर सके। जो लोग एकादशी व्रत नहीं कर पाते हैं, उन्हें इस दिन सात्विक रहना चाहिए। एकादशी को चावल नहीं खाना चाहिए। एकादशी का पूरा फल चाहने वालों को रात्रि में श्रीहरि हेतु जागरण जरूर करना चाहिए। जय हो

                   *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
         श्री मंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245,एम.जी.रोड (आनंद चौपाटी) धार,एम.पी.
                  मो. नं.  9425491351

                   *आज का राशि फल*

          मेष :~ आर्थिक लाभ मिलेगा। लंबे समय का वित्तीय आयोजन भी कर सकेंगे। शरीर और मन से स्वस्थ रहेंगे। मित्रों और पारिवारिक सदस्यों के साथ खूब आनंद में दिन व्यतीत होगा। अधिक लोगों के साथ सम्पर्क में रहने का अवसर मिलेगा। व्यापारिगण उनके व्यापार का विस्तार और आयोजन कर सकेंगे। लोकहित का कार्य आपके हाथ से होगा।

          वृषभ :~ विचारों की विशालता और वाणी का जादू आज अन्य को प्रभावित और मंत्रमुग्ध करेगा। लोगों के साथ सौहार्दपूर्ण सम्बंध रहेगा। बौद्धिक चर्चा या वाद-विवाद में सफलता मिलेगी। वाचन एवं लेखन में अभिरुचि बढ़ेगी। विद्यार्थियों के लिए अच्छा समय है। परिश्रम के अनुपात में कम सफलता मिलने पर भी निष्ठापूर्वक आप आगे बढ़ेंगे। 

          मिथुन :~ महत्त्वपूर्ण निर्णय लेने में आप द्विधा अनुभव करेंगे। माता और स्त्रियों के मामले में अधिक संवेदनशील बनेंगे। विचारों की भरमार से मानसिक थकान अनुभव करेंगे। अनिद्रा के कारण शारीरिक अस्वस्थता रहेगी। हो सके तो प्रवास टालें। पानी या अन्य तरल पदार्थ भयानक साबित हो सकते हैं। जमीन, मिल्कियत आदि की चर्चा से बचें।

          कर्क :~ कार्य की सफलता और नए कार्य के शुभारंभ के लिए आज का दिन अच्छा रहेगा। मित्रों तथा स्वजनों के साथ की मुलाकात से आप खुशहाल रहेंगे। लघु यात्रा का योग है। भाई- बंधुओं से मेलजोल बना रहेगा। प्रिय व्यक्ति के सानिध्य से मन रोमांचित बनेगा। आर्थिक लाभ तथा समाज में आदर सम्मान मिलेगा। विरोधियों को पराजित कर सकेंगे। 

          सिंह :~ दूर बसने वाले स्नेहीजन तथा मित्रों के साथ के संदेश व्यवहार से आपको लाभ होगा। परिवार में सुख-शांति बनी रहेगी। उत्तम भोजन की प्राप्ति होगी। अपनी वाकपटुता से किसी के मन को जीत सकते हैं। निर्धारित काम में सफलता मिलेगी। गणनापूर्वक आयोजन और अत्यधिक विचार मन में उलझन पैदा करेंगे। स्त्री मित्र आपको सहायक साबित होंगी। 

          कन्या :~ वैचारिक समृद्धि और वाणी की मोहकता से आपको लाभ होगा और आप सौहार्दपूर्ण सम्बंध विकसित कर अपना काम निकाल सकेंगे। व्यवसाय की दृष्टि से आज का दिन लाभदायक साबित होगा। आपका स्वास्थ्य बना रहेगा और मन भी स्वस्थ रहेगा। सगे- सम्बंधियों के साथ मुलाकात होगी औऱ सुख- आनंद की प्राप्ति होगी। धन लाभ तथा पर्यटन का योग है।

          तुला :~ आप वाणी और व्यवहार को संयम में रखें । अन्य व्यक्तियों या कुटुंबीजनों के साथ उग्र बोलाचाली होने की संभावना है। परोपकार का बदला उपकार से मिल सकता है। आय की अपेक्षा खर्च की मात्रा बढ़ेगी। तबीयत का ध्यान रखें । दुविधाएँ और समस्याएँ मन की शांति हर लेगी। 

          वृश्चिक :~ आप गृहस्थ जीवन में सुख और संतोष की अनुभूति करेंगे। पत्नी तथा पुत्र की तरफ से शुभ समाचार मिलेगा। मांगलिक कार्य होंगे। विवाह के लिए संयोग बनेंगे। नौकरी धंधे में अच्छे अवसर खड़े होने से आय में वृद्धि होगी। मित्रों के साथ पिकनिक का आयोजन होगा। स्त्री मित्रों से लाभ होने का योग है। बुजुर्गों के सहयोग से प्रगति की जा सकती है।

          धनु :~ आर्थिक और व्यापारिक आयोजन करने के लिए शुभ दिन है। कार्य सफलता पूर्वक संपन्न होगा। परोपकार की भावना आज बलवतर रहेगी। आमोद- प्रमोद के साथ आपका दिन व्यतीत होगा। नौकरी- व्यवसाय में पदोन्नति और मान- सम्मान प्राप्त होगा। गृहस्थजीवन में आनंद व्याप्त रहेगा।

          मकर :~ आपका आज का दिन मिश्र फलदायक साबित होगा। बौद्धिक कार्यों और व्यवसाय में नई विचारधारा अमल में लाएँगे। लेखन और साहित्य से सम्बंधित प्रवृत्तियों में आपकी सृजनात्मकता दिखाई देगी। फिर भी मन के किसी कोने में आपको अस्वस्थता अनुभव होगा। परिणामस्वरूप शारीरिक थकान और ऊबन रहेगी। 

          कुंभ :~ नकारात्मक विचारों से मन में हताशा पैदा होगी। इस समय मानसिक उद्वेग और क्रोध की भावना का अनुभव करेंगे। खर्च बढ़ेगा। वाणी पर संयम न रहने के कारण परिवार में मनमुटाव और झगड़े होने की संभावना है। स्वास्थ्य खराब होगा। दुर्घटना से बचें ईश्वर का नाम स्मरण और आध्यात्मिक पठन आपको मानसिक शांति देंगे

          मीन :~ आपका आज का दिन सुख- शांति से व्यतीत होगा। व्यापारियों को भागीदारी के लिए उत्तम समय है। पति पत्नी के बीच दांपत्य जीवन में निकटता का अनुभव होगा। मित्रों, स्वजनों के साथ मिलन मुलाकात होगा। प्रेमीजनों का रोमांस अधिक गहरा बनेगा। सार्वजनिक जीवन में प्रसिद्धि मिलेगी। ( डाँ. अशोक शास्त्री )

।।  शुभम्  भवतु  ।।  जय  सियाराम  ।।
।।  जय  श्री  कृष्ण  ।।  जय  गुरुदेव  ।।


Post A Comment:

0 comments: