बड़वानी~नाबार्ड द्वारा 3715.15 करोड़ रुपये की संभाव्यता युक्त ऋण योजना का विमोचन~~

बड़वानी /राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा आगामी वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बड़वानी जिले के लिए संभाव्यतायुक्त ऋण योजना तैयार की गयी है।  भारतीय रिजर्व बैंक के प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र मे ऋण वितरण के दिशा निर्देशों के अनुसार कृषि ऋण, कृषि अधोसरंचना, कृषि सहायक गतिविधियों, सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यमियों, शिक्षा, आवास नवीनीकरण, ऊर्जा आदि हेतु 3715.15 करोड़ रुपये की संभाव्यतायुक्त ऋण योजना नाबार्ड द्वारा तैयार की गयी है ।
        इस संभाव्यतायुक्त ऋण योजना की पुस्तक का विमोचन कलेक्टर श्री अमित तोमर द्वारा जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक मे किया गया ।  बैठक मे श्री एके त्रिपाठी, एलडीओ (आरबीआई) एस ए रामटेके, जिला विकास प्रबन्धक (नाबार्ड), एस के  प्रसाद, अग्रणी जिला प्रबन्धक एवं जिले मे कार्यरत सभी बैंको के प्रबन्धक सहित विभिन्न विभागो के अधिकारी उपस्थित रहे । कलेक्टर अमित तोमर द्वारा कार्य योजना तैयार करने हेतु नाबार्ड की सराहना की गई और सभी विभागो और बेंकों से कार्य योजना मे इंगित लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु आव्हान किया गया। नाबार्ड के जिला विकास प्रबन्धक ने बताया की संभव्यता युक्त ऋण योजना दस्तावेज मे ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों मे उपलब्ध भौतिक संभाव्यता का बेंक ऋण के माध्यम से दोहन की संभावना का आकलन किया जाता है। इस संभव्यता आकलन के दौरान जिले मे वर्तमान मे उपलब्ध अधोसंरचनाए संभव्यता के पूर्ण दोहन के लिए अपेक्षित अतिरिक्त अधोसंरचनाए, पिछले वर्षो के रुझान और आगामी वर्षो मे संभावित अन्य परिवर्तनों को ध्यान मे रखा जाता है।
          योजना के तहत फसल ऋण, कृषि और संबद्ध गतिविधियो के लिए सावधि ऋण तथा कृषि अधोसंरचना और अनुषंगी गतिविधियों को कुल मिलाकर कृषि के लिए संभावित ऋण 2509.92 करोड़ रुपये  है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम हेतु 1001.80 करोड़ रुपये तथा निर्यात क्रेडिट, शिक्षा, आवास, सामाजिक अधोसंरचना एवम अन्य ऋण 402.04 करोड़ रुपये की संभाव्यता का आकलन किया गया है।


Post A Comment:

0 comments: