पाटी~ओसाडा से सेमली रोसर मार्ग के गोई नदी में पुल निर्माण करने के लिए पुराने पुलिया को तोड़ा जिससे आवागमन रुका साथ सेमली से ओसाडा स्कूली बच्चे रोज पानी मे तैरकर कर रहे नदी पार~~

कमल खरते पाटी~~

पाटी :-ओसाडा से रोशर मार्ग का निर्माण कार्य धीमी गति से चलते राहगीरों को करना पड़ रहा परेशानी का सामना, सेमली,नेवा, पोसपुर,घुघसी,चिपाखेड़ी के लोगो को पाटी आने के लिए 20 किमी घूम कर जाना पड़ रहा पाटी। वही इन्ही गावो के बच्चों को स्कूल जाने के लिए नदी में तैरकर जाना पड़ रहा ओसाडा स्कूल, छात्रों का कहना है कि पूर्व में तेज बारिश होने नदी के पानी का बहाव तेज हैं, रोड निर्माण ठेकेदार की लापरवाही में हमे रोज इस तेज बहाव नदी के पानी मे तैरकर आना-जाना करना पड़ रहा है, बारिश के पूर्व गोई नदी में पुल के निर्माण कार्य के लिए पूर्व में बनाए हुए पुलिया को तोड़ दिया गया था, इसके बाद पुल निर्माण का कार्य धीमी गति से चलने के कारण बारिश से पूर्ण नही कर पाए, वही ओसाडा निवासी बरमा सोलंकी का कहना है कि जब बरसात के पहले पुलिया निर्माण नही कर सकते थे तो पहले बने हुए पुलिया को तोड़ना नही था, निर्माण एजेंसी की लापरवाही है जो आज आम लोगो व स्कूली बच्चे को भुगतना पड़ रहा। अतिवृष्टि के बाद 6 माह बीत गए लेकिन इसके बावजूद भी आज तक वैकल्पिक व्यवस्था नदी पार करने के लिए नही की गई। उसी मार्ग से ओसाडा हाई स्कूल में पड़ने के लिए 20 से अधिक विद्यार्थी नदी में तेज बहाव पानी मे अपनी जान जोखिम में डालकर स्कूल के लिए सेमली सहित आसपास गांव के बच्चे ओसाडा स्कूल आते है, बच्चों ने बताया कि जब अतिवृष्टि हुई थी तब हम 10 दिन तक स्कूल नही गए जिससे हमारी पढ़ाई प्रभावित हुई, इसलिए हमें आज अपनी जान जोखिम में डालकर नदी में तैरकर पार करना पड़ रहा, हमारी पढ़ाई प्रभावित नही हुए इसलिए हम अपनी जान की परवाह नहीं करते हुए स्कूल पहुचते हैं।

ठेकेदार की लापरवाही के चलते ग्रामीणों सहित स्कूल के बच्चों को परेशान होना पड़ रहा है,


  नदी पर पुलिया को ठेकेदार द्वारा तोड़ दिया गया उसके स्थान पर बड़े पुल का निर्माण चालू किया गया और इसके पहले पुल का निर्माण हो जाना था। पर सुस्त रवैया के कारण समय पर पुल का निर्माण नहीं हो पाया। जिससे 8 से 10 गांव के लोगों को बमनाली हो कर जाना पड़ रहा है। वहीं ग्राम सेमली से ओसाडा के लिए स्कूल के बच्चों को जान जोखिम में डालकर नदी पार करना पड़ रहा है।


Post A Comment:

0 comments: