बड़वानी~नाबालिग बालिका के साथ दुष्कर्म़ करने वाले आरोपी को़े 10 वर्ष की सजा~~

बड़वानी /जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री रामेश्वर कोठे द्वारा पारित अपने फैसले मे आरोपी द्वारा नाबालिग बालिका से दुष्कर्म के आरोप मे आरोपी दिलीप पिता मोहन निवासी पिपली सिंघाना जिला बड़वानी को धारा 363,366,376(2)(एन), 457 भादवि एवं धारा 5/6 लैगिक अपराधों से बालको सरंक्षण अधिनियम 2012 मे 10 वर्ष का कठोर कारावास एवं 14000 रूपये जुर्माने से दण्डित किया। 
  अभियोजन मीडिया प्रभारी सुश्री कीर्ति चैहान सहायक जिला अभियोजन अधिकारी बड़वानी द्वारा बताया गया कि घटना का विवरण इस प्रकार है कि दिनांक 29.05.2019 को रात 10ः00 बजे अभियोक्त्री अपने घर में सोयी हुई थी । उसी समय आरोपी दिलीप अभियोक्त्री केघर का दरवाजा तोड़ कर अभियोक्त्री का हाथ पकड़कर रात में जबरदस्ती गुजरात ले गया । और वहां पर खेत पर झोपडी बनाकर अभियोक्त्री को साथ में रखा । आरोपी दिलीप ने अभियोक्त्री के साथ जबरदस्ती गलत काम कर अभियोक्त्री को दो माह अपने साथ रखा । इस दौरान रोजाना अभियोक्त्री के साथ गलत काम करता रहा फिर दो माह बाद में आरोपी दिलीप को उसके घर वालों ने घर पर बुलाया । आरोपी अभियोक्त्री को घर लाकर बोला कि मेरी तरफ बोलना नही तो तुझे जान से मार डालुंगा और और यह भी बोला था कि तेरी शादी जहां पर भी करेंगे तुझे और तेरे घर वालो को भी मार डालुंगा। फिर अभियोक्त्री एवं उसके माता-पिता उसें थाना बड़वानी ले जाकर अभियोक्त्री सें रिपोर्ट लिखाई।  
      रिपोर्ट पर से थाना बड़वानी द्वारा धारा 363,366,376(2)(एन), 457 भादवि एवं धारा 5/6 लैगिक अपराधों से बालको सरंक्षण अधिनियम 2012 मे विवेचना उपरांत न्यायालय मे चालान पेश किया गया। अभियोजन की ओर से पैरवी दुष्यन्तसिंह रावत अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी बड़वानी द्वारा की गई।


Post A Comment:

0 comments: