*अलीराजपुर~आजाद नगर ड्रेस कांड में जिला प्रशासन की बडी कार्यवाही 26 शिक्षक एवं शाला प्रबंधन सचिव पर विभागीय जांच के आदेश*~~

*शिक्षकों ने सीधे कर दिया ठेकेदारों को चेक से भुगतान शासन के नियमो की उडाई धज्जियां*~~

*शिक्षक तो मात्र कठपुतली है कुछ बी आरसी और बी औ पर भी गिरेगी गाज बहुत जल्द बी औ बी आरसी का बडा खुलासा*~~

*जाँच भी शंका के घेरे मे शिक्षको पर हुई कार्यवाही मगर ठेकेदारो और दलालों पर कब होगी कार्यवाही*~~

✍🏻जुबेर निज़ामी की रिपोर्ट ✍🏻
अलीराजपुर 📲9993116518~~

आलीराजपुर कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी सुरभि गुप्ता के निर्देशानुसार शासकिय विद्यालयों में गणवेष वितरण में अनियमितता की शिकायतों के प्राप्त जांच प्रतिवेदन के आधार पर जिले के 26 शिक्षक एवं शाला प्रबंधन सचिव पर म.प्र. सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 14 के तहत विभागीय जांच के आदेश जारी किये गए है। उक्त मामले में संबंधित शिक्षकों द्वारा विद्यार्थियों के खाते के बजाय गणवेश की राशि सीधे फर्म को चैक के माध्यम से भुगतान किया जाना पाया गया, उक्त प्रकरण में जांच समितियों के प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर उक्त कार्रवाई की गई है।
ज्ञात हो कि जिले के चन्द्रशेखर आजाद नगर में गत माह 28 नवंबर को आजादनगर विकासखण्ड के ग्राम गिरधा की प्राथमिक विद्यालय पूजारा फलिया स्कूल में आजादनगर नायब तहसीलदार जितेन्द्र सोलंकी के द्वारा आजाद नगर के दो ठेकेदार अली मस्तान ओर ताहेर अली को बच्चों को ड्रेस की सप्लाई करते हुए रंगे हाथों पकड़ा था। कलेक्टर महोदया सुरभि गुप्ता के आदेश के बावजूद इन लोगों ने स्कूल में पहूच कर ड्रेस कि सप्लाई की थी ओर बेचते हूए पाये गये थी। इन ठेकेदारो के पास से बड़ी संख्या में स्कूल ड्रेस मिली है जिन्हें प्रशासन के द्वारा जप्त किया गया है ओर पंचनामा बनाकर कार्यवाही के लिए एसडीएम अखिल राठौर के समक्ष पेस किया गया। जिसके पश्चात 28 दिसंबर को आलीराजपुर कलेक्टर सुरभि गुप्ता के दिशा निर्देशानुसार  विद्यालयों में गणवेश वितरण में अनियमितता की शिकायतों के प्राप्त जांच प्रतिवेदन के आधार पर जिले के 26 शिक्षक एवं शाला प्रबंधन सचिव पर म.प्र. सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 14 के तहत विभागीय जांच के आदेश जारी किये गए है। उक्त मामले में संबंधित शिक्षकों द्वारा विद्यार्थियों के खाते के बजाय गणवेश की राशि सीधे फर्म को चैक के माध्यम से भुगतान किया जाना पाया गया, उक्त प्रकरण में जांच समितियों के प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर उक्त कार्रवाई की गई है।

👉यह  था मामला ।
आपको बता दें कि पिछले कई महीनों से आजाद नगर के कूछ यथा कथित ठेकेदारों के द्वारा स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब बच्चों को घटीया ड्रेस की सप्लाई जोरो पर कर रहे थे ।वो भी एक अघोषित काग्रेस के नेता की शह पर जिसको लेकर अलीराजपुर ब्रेकिंग  के द्वारा समय समय पर प्रशासन को इस घटीया ड्रेस की सप्लाई को रोकने के लिए खबरो को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया था । इस ड्रेस की सप्लाई मे स्कूलों के टीचर से लेकर सीएससी ओर बीआरसी की अहम भूमिका रही है ।जिनके सहारे ये ठेकेदार बिना किसी आदेश के स्कूलों मे ड्रेस की सप्लाई कर रहे थे ।इस पूरे घटना क्रम को जिला कलेक्टर के नालेज मे भी नही लाया गया था  ।उन्हें इसकी जानकारी भी अधिकारियों के द्वारा नही दी गयी थी । मामले को  मीडिया में उजागर होने के बाद जिला प्रशासन की ओर से आदेश जारी कर सभी अधिकारियों ओर टीचरों को निर्देशित किया गया था की स्कूलों मे किसी भी प्रकार की सप्लाई पर रोक लगा दी गई है ।अगर स्कूलों मे कोई भी यूनिफार्म की सप्लाई करते पाया गया तो सम्बंधित के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी मगर इन ठेकेदारों ने कलेक्टर के आदेश की अवहेलना करते हुए राजनैतिक लोगों की छत्र छाया मे बैठकर स्कूलों में ड्रेस की सप्लाई करना जारी रखा ओर आजाद नगर की प्राथमिक विद्यालय गिरधा मे ड्रेस की सप्लाई करते रगेहाथो पकड़े गए । वही हद तो तब हो गयी जब जिम्मेदार शिक्षकों ने इन ठेकेदारों को चेक से भुगतान भी कर दिया जबकी शासन के नियमानुसार बच्चों के खाते मे पैसा डलना था। सारे नियमों को ताक मे रखकर खूलेआम भ्रष्टाचार की गंगा बहाई गयी ओर शासन प्रशासन देखता रहा । क्या अब इन ठेकेदारों पर भी कोई बडी कार्यवाही होगी ये देखना होगा
क्योकि जाँच  भी शंका के घेरे मे है ठेकेदारो पर जाँच न होना और इतना समय लगना कही न कही इस और इशारा कर रहा है की जांच को दबाने और ठेकेदारो को बचाने का प्रयास हो रहा है। क्योकी शिक्षक तो बस एक मोहरा जिन्हे जिम्मेदार अधिकारीयो द्वारा जैसा आदेश मिला होगा वेसा ही काम किया सही मायने मे जिम्मेदार बी आरसी बीऔ है जिनके आदेश के बगेर शिक्षक कुछ नही कर पाते। नाम न बताने की शर्त पर एक शिक्षक ने बताया की हमे बी आरसी बीऔ द्वारा अधिकारीयो द्वारा ही आदेश अनुसार  जो भी हुआ है वो हुवा। हम तो मात्र अधिकारीयो के आदेश का पालन कर रहे हो।


Post A Comment:

0 comments: