दसई~संझा लोकस्वामी पर प्रशासन द्वारा द्वेषतायुक्त कार्यवाही के विरोध में राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया~~

जगदीश चौधरी खिलेडी 6261395702~~

दसई~~ जांबाज पत्रकार श्री जीतू भाई सोनी एवं उनके मीडिया संस्थान सांध्य दैनिक अखबार संझा लोकस्वामी पर प्रशासन द्वारा  द्वेषतायुक्त कार्यवाही करते हुए प्रकरण दर्ज करने पर दसई क्षेत्र के पत्रकार, वरिष्ठ नागरिक एवं पाठकगण  आहात व स्तब्ध है तथा लोकस्वमी संस्थान व श्री जीतू भाई सोनी तथा परिवार पर की गई कार्रवाई को सरकार की खिसियानपत बताते हुए दसई क्षेत्र के पत्रकारों ने पुलिस चौकी दसई पर इकट्ठा हो कर, महामहिम राज्यपाल मध्यप्रदेश शासन भोपाल के नाम श्रीमान महोदय भंवर हेड साहब को एक ज्ञापन सौंपा है ज्ञापन में उल्लेख है कि  सांध्य दैनिक अखबार संझा लोकस्वामी अपनी सच्चाई को बेबाक तरीके से  लिखने के लिए जाना जाता है। इसी हिम्मत के चलते पिछले कई दिनों से लोकस्वामी अखबार हनीट्रैप मामले को जनता के सामने लाकर सफेदपोशों, दुष्चरित्रों  के काले कारनामे उजागर कर रहा था। इसी मामले के तार कई नामी-गिरामी काली अंधेरी रात में उजले वस्त्र पहनकर जाने वाले जनप्रतिनिधियों, भ्रष्ट आचरण में लिप्त प्रशासनिक कर्ता-धर्ताओं से जुड़े हुए थे। संझा लोकस्वामी के मुखिया एवं जांबाज पत्रकार श्री जीतू भाई सोनी  एवं उनके पुत्र श्री अमित भाई सोनी अपनी कलम के माध्यम से दिनों दिन खुलासे करते आ रहे हैं, प्रशासन और सफेदपोश खद्दर धारियों ने अपनी झूठी शान शौकत मिट्टी पलीत इज्जत को बचाने के लिए  प्रेस की स्वतंत्रता पर 1 दिसंबर की पूर्व रात्रि में संझा लोकस्वामी प्रेस तथा निजी संस्थानों पर पुलिस प्रशासन द्वारा छापामार कार्यवाही कर  प्रेस के मुखिया श्री जीतू भाई सोनी व उनके पुत्र श्री अमित भाई सोनी के साथ अभद्र व्यवहार कर झूठे मुकदमे बनाकर प्रकरण दर्ज किए गए हैं जो कि सरासर असत्य हैं इस घटना की दसई क्षेत्र के समस्त पत्रकार एक स्वर में निंदा करते हैं तथा  लादे गए मुकदमों को तुरंत वापस लेने की मांग मध्य प्रदेश सरकार से आपको प्रेषित ज्ञापन के माध्यम से करते हैं। अतः महामहिम ज्ञापन को स्वीकार कर कार्यवाही करने की कृपा कर अनुग्रहित करें। ज्ञापन का वाचन पत्रकार अमृतलाल मारु ने किया इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार जगदीश पटेल सुभाष मंडलेचा रामकरण पटेल जितेन्द्र जैन दिनेश पटेल जगदीश चौधरी खिलेडी प्रतीक राठौड़ मनीष चौधरी राजकुमार विश्वकर्मा नरेन्द्र जेन आदि लोगों ने प्रशासन की इस कार्यवाही की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ पर सीधे सीधे हमला बताया है।


Post A Comment:

0 comments: