बड़वानी~लोक आदालत के कारण अलग-अलग रह रहे 8 दम्पत्ति पुनः हुए एक ~~

बड़वानी /लोक अदालते, सामाजिक तानों-बानों को भ झनझनाकर, मनमुटाव के कारण अलग-अलग रह रहे दम्पत्तियों को पुनः एक करने में सफल हो रही है। न्यायाधीशों के अपनत्व भरे काउंसलिंग से वर्षो से अलग रह रहे दम्पत्ति अपने बच्चों की उपस्थिति में पुनः एक दूसरे का हाथ थाम रहे है। बड़वानी में शनिवार को लगी लोक अदालत में मन मुटाव के चलते अलग-अलग रह रहे, 8 दम्पत्ति पुनः एक दूसरे को माला पहनाकर साथ रहने की कसमे खाई है। इस अवसर पर इन दम्पत्तियों को जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री रामेश्वर कोठे, कलेक्टर श्री अमित तोमर, पुलिस अधीक्षक श्री डीआर तेनीवार ने एक-एक फल का पौधा देकर इन नये गठबंधन को स्थायित्व प्रदान करने का आव्हान इन दम्पत्तियों से किया है।
शनिवार को जिला न्यायालय में लगी नेशनल लोक अदालत में जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री रामेश्वर कोठे ने परविार परामर्श केन्द्र के काउंसलर श्रीमती रेखा यादव, श्रीमती अनिता चोयल, पैरालीगल वालियंटर श्री सरदार बघेल, सुश्री अमीना खांन, सुश्री बरखा चैबे के साथ मिलकर मनमुटाव के कारण अलग रह रहे 8 दम्पत्तियों को पुनः एक करवाने में सफलता प्राप्त की है।
शादी के 16 वर्ष पश्चात् अलग हुई मंजु पुनः हुई मनोहर की
शादी के 16 वर्ष पश्चात् अलग-अलग रह रहे पति मनोहर तथा उनकी पत्नि श्रीमती मंजू नरगांवे ने आपसी मन मुटाव दूर करते हुए पुनः एक दूसरे को हार पहनाकर साथ-साथ जीने मरने की कसमे खाई हैं इस दौरान पति श्री मनोहर नरगांवे ने सभी के सामने प्रण किया कि वे अब शराब पीकर पत्नि के साथ मारपीट नही करेंगे। वही पत्नि ने भी अपने तीन बच्चों की कसम खाकर प्रण किया कि छोटी-मोटी लड़ाई, मन मनुटाव को वे परिवार विच्छेद का कारण नही बनने देगी।
सुनिल के माला पहनाते ही पिंकी का चेहरा हुआ सूर्ख गुलाब
लोक अदालत में सुनिल ने जैसे ही समझौते के पश्चात् पत्नि को माला पहनाई वैसे ही पत्नि पिंकी का चेहरा खुशी से सूर्ख गुलाब हो उठा। उसने भी संकुचाते हुए अपने पति सुनिल को माला पहनाकर आपसी समझौते को अपनी सहमति प्रदान कर दी। इस दौरान पुनः एक हुए पति-पत्नि ने उपस्थितों को आश्वस्त किया कि समझौता रूपी प्राप्त फल के पौधों को  वे अपने घर-आंगन में लगाकर बड़ा करेंग। इस फल के पौधे के बड़े होते आकार के साथ-साथ वे अपना दिल भी बड़ा करते जायेंगे। जिससे उन दोनों के बीच फिर कभी बिछड़ने की नौबत न आये।
पिं्रस और अजमा ने पहनाई एक दूसरे को विश्वास की माला
लोक अदालत में प्रिंस खांन एवं दो माह से अलग रह रही उनकी पत्नि श्रीमी अजमा खांन ने एक दूसरे को माला पहनाने के साथ ही एक-दूसरे का मुंह भी मीठा कराया। और उपस्थितों से वादा किया कि अब परस्पर विश्वास, आत्म सम्मान से जियेंगे। पिछले 2 माह में इतना समझ चुके है कि अपना, अपना ही होता है। और पति-पत्नि के बीच में तीसरा कोई नही आ सकता।
प्रकाश लौटा बच्चे के साथ और थामा पत्नि का हाथ
आपसी मन मुटाव के चलते अपने तीन वर्षीय पुत्र के साथ गुजरात जाकर मजदूरी करने वाले प्रकाश ने भी लोक अदालत में आकर अपनी पत्नि सुनिता का हाथ पुनः थामा हैं इस दौरान उसने न्यायाधीशों के सामने प्रण किया कि वह अब शराब पीकर अपनी पत्नि को मारेगा-पीटेगा नही और ना ही उसे, उसके पुत्र से अलग करेगा। साथ ही उसने अपनी पत्नि को भी विश्वास दिलाया कि अब उसे वह हमेशा अपने साथ रखेगा। जिससे पुत्र का लालन-पालन भी अच्छी तरह से हो सके।


Post A Comment:

0 comments: