*अलीराजपुर~बेटी ओर दामाद ने छिना  बूढ़ी माँ आशियाना घर पर किया कब्जा*~~

*एक माँ न्याय की गूहार लगाने पहुंची एसपी विपुल श्रीवास्तव  के पास*~~

*जैन समाज की वृद्ध महिला अपनी बेटी ओर दामाद की साजिश की हूई शिकार बहला फुसलाकर किया कब्जा*  ~~

✍🏻जुबेर निज़ामी की रिपोर्ट ✍🏻
अलीराजपुर 📲9993116518~~

आलिराजपूर ÷बेटी माँ बाप के लिए वरदान होती है ।माँ बाप बेटियों को अपने  जीवन की सबसे बडी खूशी मानते हैं ।ओर बेटों से अधिक प्यार  अपनी बेटी से करते है । ओर जब जिस घर में बेटा नही होता है उस घर मे बेटी को बेटे जैसा पाल कर उसे बडी कर उसके लिए घर जमाई भी मा बाप ले आते है जिससे की बुढ़ापे मे बेटी ओर दामाद का सहारा मिल सके ।लेकीन दामाद कभी बेटा नही बन सकता ऐसा ही कूछ हूआ एक वृद्ध महिला के साथ उसे अपनी ही बेटी ओर दामाद ने साजिश के तहत उसके मकान पर कब्जा कर लिया। हद तो तब हो गई जब उसे उसकी खुद कोख से जनमी बेटी ने ही दूतकार दिया । पूरा मामला आलिराजपूर जिले के जोबट क्षेत्र का है जहा की रहने वाली वृद्ध महिला श्रीमती फुलकुंवर बेवा गेंदालाल जैन निवासी जोबट जिसे उसके दामाद  प्रदीप उर्फ पप्पू पिता मोतीलाल जैन : दामाद बेटी लक्ष्मी पति प्रदीप उफ पप्पू जैन ओर नाती बादल पिता प्रदीप उर्फ पप्पू जैन
मनीषा पति बादल जैन बेटी की बहु निवासी तिलक मार्ग जोबट जिला आलीराजपुर : मै एक 87 वर्षीय असहाय विधवा महिला हूं तथा मेरे मालकियत का एक पक्का छतदार मकान स्थानीय तिलक मार्ग जोबट मे है जो नगर परिषद जोबट में मेरे नाम से दर्ज है व मै मालिक हूं। मेरी बेटी दामाद जोबट मे अपने पुराने पेतृक मकान में रहते थे जो जर्जर था तो मैने मेरे मकान मे मानवता के नाते बेटी व दामाद को रहने दिया । तो मेरे मकान मे आते ही दामाद ने अपना पेतृक मकान बंशी सुनार के लड़के को किराये पर दे दिया व मेरे मकान में रहने लगे । मै कभी कभार बेटी दामाद को मिलने मेरे मकान में जाती रहती थी व बेटी, दामाद, नाती व उसकी बह मेरे साथ मीठा बोल बोल कर तथा चापलूसी करते रहते थे ।मै दामाद की कुटील चाल को समझ नही पाई ओर दामाद बेटी को तिलक मार्ग स्थित मेरे मकान मे बुला लिया कुछ दिन तो बेटी लक्ष्मी व दामाद का मेरे साथ व्यवहार ठिक रहा इस बीच बेटी व दामाद ने मकान की रजिस्ट्री की मूल प्रति भी मुझसे ले ली व लेकिन दामाद, बेटी, ने अपने पुत्र बादल व बहु मनीषा को भी मेरे मकान मे रहने बुला लिया व मेरे साथ उनका व्यवहार असहज व धीरे धीरे असहाय होने लगा। दिनांक 9 दिसम्बर 2019 मै बेटी दामाद को यह कहने गई थी कि अब मेरा गुजर बसर नही हो पा रहा है इसलिए तुम मेरा मकान मुझे दे दो ताकि मै इसे किराये से देकर स्वयं के पालन पोषण की व्यवस्था कर सकू तो मेरे दामाद पप्पू जैन ने मुझे बाहर बरामदे मे धकाते हुए कहा कि यहा से निकल ओर आज के बाद मत आना कही भी भीख मांग के खा इधर मत आना नही तो जान से खत्म कर दूंगा करते हुए मुझे धक्का मारते हुए घर के बाहर ले आया । जिसे मोहल्ले के लोगो ने भी देखा व मुझ विधवा महिला को सार्वजनिक रूप से लज्जित कर घर से बेदखल कर घर पर कब्जा कर लिया । दामाद के इस दुष्कृत्य मे मेरी पुत्री लक्ष्मी, नाती बादल ने भी सहयोग किया व मुझ विधवा बूढी महिला को धमकाते हुए कहा कि तू कही भी काला मूंह कर यहा मत आना तू मर भी जावे तो हमको कोई लेना देना नही है। इसके बाद मै समाज जन के लोगो के पास भी गई लेकिन कोई भी इस पप्पू जैन के सामने मझे सहयोग नही कर रहा है तथा मेरी बेटी व उसकी बहु मनीषा भी दामाद के कहने पर कहती है कि हमारे लिए तो त मर गई तेरे को तो हमने कब का जला दिया है यहा से चली जा। उक्त आरोपीगण जोबट नगर में लोगों के मकानों व जमीनों पर कब्जा करने के मामले में बदनाम है पर्व मे भी शासन को अन्धेरे में रख कर कलेक्टर महोदय के समक्ष झूठ बोला था शासन से लाखों रूपये का फायदा उठाया जबकि जोबट में करीबन 32 लाख की बेशकिमती भूमि का मालिक है तथा इनकी इस हरकत से मूझ विधवा का जीवन अन्धकारमय हो गया है । मेरे साथ आरोपीगणों द्वारा किया गया दुर्व्यहार से मै मानसिक रूप सेआदत हूं तथा आरोपीगणों के विरूद्ध तत्काल FIR दर्ज की जाकर सख्त से सख कार्यवाही की मकान का रिक्त 'कब्जा मुझे सुपुर्द करने की कृपा करें ।मै विधवा बूढी महिला आपसे हाथ जोडकर तत्काल न्याय की गुहार करती हैं


Post A Comment:

0 comments: