*अलीराजपुर~ जिले मे कब होगी भू-माफियाओ पर कार्यवाही एंटी माफिया अभियान*~~

*मुख्यमंत्री कमलनाथ के आदेश के बाद भी जिला प्रशासन का सुस्त रवैया समझ के परे है*~~

*अलीराजपुर मे अवैध अतिक्रमण बस स्टेन्ड सहित अवेध कालोनिया भी फल फुल रही है*~~

✍🏻जुबेर निज़ामी की रिपोर्ट ✍🏻
अलीराजपुर 📲9993116518~~

मुख्यमंत्री के निर्देश बेअसर, रेत-शराब ओर भू- माफियाओं पर नहीं हो रही कार्यवाही मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ प्रदेश के अधिकारियों को भले ही एंटी माफिया अभियान चलाकर उन पर कार्यवाही के निर्देश दे चुके हैं, लेकिन इस आदिवासी अंचल जिले में यह अभियान अभी तक प्रारंभ ही नहीं हो सका है। सीएम कमलनाथ के निर्देश जिले में बेअसर साबित हो रहे है।

ज्ञात हो कि प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आला अफसरों की बैठक लेकर प्रदेशभर में एंटी माफिया पर कडी कार्यवाही के निर्देश जारी किए थे, लेकिन जिले के अधिकारियों पर ये निर्देशों का कोई असर नहीं हो रहा हे।

अलीराजपुर जिला इन दिनो भष्ट्राचार की भैंट चडता जा रहा है।
माननीय मुख्यमंत्री कमलनाथ जी की भू-माफियाओ के खिलाफ चल रही मुहिम मे अलीराजपुर जिले मे  अबतक कोई कार्यवाही नही हुई है जब की नगर मे कही कालोनिया अवेध तरीके से बनी है तो कही शासकीय भूमि को शासकीय अधिकारीयो द्वारा ही फर्जी तरीके से बेच दी गयी है या किसी के नाम करदी गयी है जिसकी सिकायत जिला प्रशासन को भी लिखित मे की गयी है। मगर अबतक कोई भी कार्यवाही नही होना ये भी नगर मे चर्चा का विषय है।

आपको बता दे कही जगह तो बेसमेंट मे पार्किंग की परमीशन लेकर लोवर फ्लोर बनाकर दुकाने निकाल दी जिसपर भी नगरीय प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही नही हो रही है। साथ ही सोरवा रोड नदी पर भी अवैध अतिक्रमण कर पुरी नदी को भू-माफियाओ द्वारा दबाने का खुला प्रयास किया जा रहा है वही शासकीय भूमि को भी अवैध तरीके से किसी के नाम कर देना ये नगर मे आम बात होती जा रही है इतना ही नगर मे तकरीबन 20 से 25 कालोनी ऐसी है जिनकी न तो परमीशन नगरपरिद से गयी है न ही वैध है साथ ही आदिवासियों की जमीन पर भी अवैध कालोनी गैर आदिवासी द्वारा बेची जा रही है जिसका नगरपालिका मे कोई परमीशन या सुचना नही है।

इसी लिये हम बार बार लिखते है की अलीराजपुर जिला बना भ्रष्टाचार मे नम्बर वन।

अब देखना ये है की शासन प्रशासन का डंडा गरीबों पर ही चलता है या  फिर भू-माफियाओ पर भी कार्यवाही होती है या नही। या फिर राज  नेताओ  या रसुकदारो के दबाव मे आकर भेदभाव होता है ये तो वक्त ही बताऐगा।


Post A Comment:

0 comments: