*मनावर ~सरदार सरोवर परियोजना के विस्थापितों का अब तक पूर्नवास नही हो पाया तथा किसानों के घर , खेत डूबने के बाद भी पूर्नवास का लाभ नही मिला डॉ हीरालाल अलावा*~~

*सरदार सरोवर परियोजना के विस्थापितो क्षेत्र के लोग बेघर होकर टीन शेड में रह रहे है* ~~                

*प्रमुख सचिव मध्यप्रदेश विधानसभा एवं विभाग के केबिनेट मंत्री को लिखा पत्र*~~                                        

*मनावर क्षेत्र की प्रमुख समस्या के निराकरण को लेकर विधायक सक्रिय*~~

निलेश जैन मनावर ~~

मनावर विधायक डॉ हीरालाल अलावा क्षेत्र की समस्यायों के शीघ्र निराकरण को लेकर सक्रिय बने हुऐ है। क्षेत्र के नर्मदा से डुब प्रभावित क्षेत्र को लेकर मामला विधानसभा सत्र में उठाया जायेगा। विधायक डॉ हीरालाल अलावा ने बताया कि सरदार सरोवर परियोजना के विस्थापितों का अब तक पूर्नवास नही हो पाया गया है किसानों के घर,खेत डूबने के   बाद भी पूर्नवास का लाभ न मिलने से डूब प्रभावितों में आक्रोश एवं असंतोष को लेकर प्रमुख सचिव तथा केबिनेट मंत्री का ध्यान आर्कषित कराया गया है। विधायम डॉ हीरालाल अलावा ने बताया कि सरदार सरोवर परियोजना के विस्थापितो का राज्य की पूनर्वास नीति, नर्मदा जल विवाद अभिकरण अवार्ड, सर्वोच्च अदालत के तीन फैसलों के बाद भी संपूर्ण पूनर्वास न होकर बिना पूनर्वास लोगो को अगस्त, सितंबर 2019 में अपने घरो को छोड़ना पडा। आज क्षेत्र के लोग बेघर होकर टीन शेड में रह रहे है। जिनका अभी खाने का भोजन, मवेशियों का चारा भी बंद कर दिया गया है। जिनका आज तक नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण ने उनका लाभ नहीं दिया हैं और मात्र एक मौका पंचनामा बना लिया है। जिसके उपर भी आज तक कोई कार्यवाही नही की गई है। लोगो को उनके पुनर्वास का लाभ डूबी हुई खेती के बदले सर्वोच्च अदालत के आदेश अनुसार मुआवजो और डूबे हुए घरों का मुआवजा भी नहीं मिला। जिन किसानो के खेत डूब गए या टापू बन गए है।वहॉ पर बिजली का ट्रांसफार्मर भी डूब गया है। अभी तक बिजली का ट्रांसफार्मर स्थानांतरित नही किया गया है। नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण पर विश्वास रखने वाले किसानों को पूनर्वास का संपूर्ण लाभ न मिलने एवं बिजली का ट्रांसफार्मर स्थानांतरित नही करने से नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के अधिकारियों द्वारा कोई ठोस जवाब ना मिलने से विस्थापितों एवं किसानों में असंतोष एवं आक्रोश व्याप्त है। जो कभी भी गंभीर रुप ले सकता है। अतः इस विषय पर मैं सदन का ध्यान आकर्षित करना चाहता हूॅं।


Post A Comment:

0 comments: