खातेगांव~स्वच्छता मिशन के तहत हरित क्रांति का आगाज,~~

अनिल उपाध्याय
खातेगांव~~

स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत जैविक खेती को बढ़ावा देने हेतु कृषक वैचारिक क्रांति अपनाने वाले ग्रामीणों के साथ बैठक आयोजित की गई !जिसमें जैवक खेती से पैदावार लेने वाले किसानों एवं केमिकल युक्त खेती से पैदावार लेने वाले किसानों के तर्क वितर्क की संगत का आकलन किया गया !
    जैविक खेती को जहाँ प्राकृतिक दक्षता का सोना स्वीकार कीया गया वही केमिकल युक्त आलस्य पर निर्भर खेती को धीमे जहर के भोज्य पदार्थ का सूत्रधार माना गया !
   वास्तविक हरित क्रांति के तहत हरीओम परमार स्वच्छता सूचना संचार विशेज्ञ और हरित क्रांति प्रशिक्षणर्थी विनोद परमार संजय परमार ने किसानों को भारतीय सांस्कृतिक खेती की परम्परा का नमूना बताया और इससे जुड़े किसानों को वक्ता के रूप में बोलने हेतु उत्सुक किया ताकि अन्य किसान सांस्क्रतिक खेती को अपना सके व मानव शक्ति को हिमाकत सी खानपान पैदावार दे सके!
   कोटखेड़ा ग्राम में हुई इस बैठक का धेय प्राकृतिक शक्ति के पांचो तत्वों से खेत खलियान स्वदेशी रखना रखा गया जिससे स्वयं शक्ति का विकास खेती में आ सके!
    कार्यक्रम की रचना सूत्र में छात्रसंघ अध्यक्ष ऋषभ सत्तावन एवं सहपाठी शिक्षाविदत छात्रो ने सहयोग प्रदान किया !
   कार्यक्रम की अध्यक्षता में सरपंच श्री जसवंत मालवीय उपस्थित रहे!


Post A Comment:

0 comments: