बड़वानी ~पति-पत्नी ही दूसरे के सच्चे मित्र हैं~श्री दुर्गा शंकर जी तारे ~~

पति-पत्नी ही दूसरे के सच्चे मित्र हैं सात दिवसीय भागवत कथा के तीसरे दिवस कथा व्यास पंडित श्री दुर्गा शंकर जी तारे ने शिव पार्वती विवाह और सती चरित्र के प्रसंग का वर्णन करते हुए कही कथा 20 दिसंबर से प्रारंभ है और 26 दिसंबर को समाप्त होगी किसी व्यक्ति का चरित्र ही उसका सही पहचान है रंग रूप से गोरा होना उसकी अच्छाई को प्रतीत नहीं करता सद्गुणी होने के लिए सत्संग का होना अति आवश्यक है कथा के मुख्य यजमान श्री रमेश चंद्र भावसार और श्रीमती रेखा भावसार है कल श्री कृष्ण जन्मोत्सव का आयोजन किया जाएगा अधिक से अधिक धर्म प्रेमी जनता धर्म लाभ ले सकती है


Post A Comment:

0 comments: