बड़ी खट्टाली~ग्राम की सभी शिक्षण संस्थाओं में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया।~~

बड़ी खट्टाली;-    उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाए' का संदेश देने वाले युवाओं के प्रेरणास्त्रो‍त, समाज सुधारक युवा युग-पुरुष 'स्वामी विवेकानंद' का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता (वर्तमान में कोलकाता) में हुआ। इनके जन्मदिन को ही राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर संकुल के सभी स्कूलों में सुबह नौ बजे से सुबह साढ़े दस बजे तक सामूहिक रूप से सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। यह आयोजन स्वामी विवेकानंद की जयंती के मौके पर युवा दिवस के रूप में मनाया गया. जानकारी में बताया गया कि युवा दिवस के अवसर पर स्वामी विवेकानंद के जीवन पर आधारित प्रेरणादायक शैक्षिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गये. इसमें भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों को सुबह नौ बजे उपस्थित होने का निर्देश दिया गया था ।

प्रभारी प्राचार्य के एस धारवे
ने बताया कि छठी से बारहवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों द्वारा योग आसन किये गये जबकि पहली कक्षा से पांचवी कक्षा के विद्यार्थीयो ने सूर्य नमस्कार नहीं किया उन्होने केवल सूर्य नमस्कार आसनों को देखा. उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के रेडियो पर प्रसारण की व्यवस्था की गई । प्रभारी प्राचार्य के एस धारवे ने बताया कि सूर्य-नमस्कार के लिये एक से 12 गिनती के आधार पर योग मुद्रा  हुई। उन्होने बताया शासन की मन्शानूसार 12 जनवरी को प्रत्येक वर्ष स्वामी विवेकानंद का जन्मदिन , राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाते हैं। उनका जन्मदिन राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाए जाने का प्रमु्ख कारण उनका दर्शन, सिद्धांत, अलौकिक विचार और उनके आदर्श हैं, जिनका उन्होंने स्वयं पालन किया और भारत के साथ-साथ अन्य देशों में भी उन्हें स्थापित किया। उनके ये विचार और आदर्श युवाओं में नई शक्ति और ऊर्जा का संचार कर सकते हैं। उनके लिए प्रेरणा का एक उम्दा स्त्रोत साबित हो सकते हैं। जनशीक्षक सेकुसिह गडरिया व प्रदीप पंवार ने योग क्रियाए करवाई ।उक्त आयोजन मे संस्था के समस्त स्टाप के साथीगण व बच्चो ने सहभागिता की।


Post A Comment:

0 comments: