*मनावर ~ वैश्य महासंघ के पदाधिकारीयों द्वारा प्रदेश सरकार के निर्णय आंगनवाड़ीयों में बच्चों को दिये जाने वाले अंडे देने के निर्णय के विरोध में दिया गया ज्ञापन* ~~              

*सरकार का यह निर्णय भारतीय सनातन परम्परा महान संस्कृति एवं धर्म के विरूध्द है मनावर तहसील अध्यक्ष नारायण सोनी*                

निलेश जैन मनावर ~~

वैश्य महासंघ मध्यप्रदेश इकाई की मनावर शाखा द्वारा आज ज्ञापन के माध्यम से प्रदेश के मुख्यमंत्री से आंगनवाड़ीयों में बच्चों को दिये जाने वाले अंडे देने के निर्णय के विरोध में दिया गया। वैश्य महासम्मेलन के जिलाध्यक्ष विठ्ठलगर्ग ने कहा कि गत दिने म:प्र: सरकार द्वारा निर्णय लिया गया है कि शासन द्वारा संचालित आंगनवाड़ियों में अण्डा वितरण का कार्य शुरू किया जाना है। सरकार के इस निर्णय से म:प्रः के शाकाहारी समाजों को बहुत ही आहत हुआ है। मनावर तहसील अध्यक्ष नारायण सोनी ने कहा कि सरकार का यह निर्णय भारतीय सनातन परम्परा महान संस्कृति एवं धर्म के विरूध्द है। पूर्व की सरकार द्वारा भी यह निर्णय लिया गया था। शाकाहारी समाज के संत मुनि धर्माचार सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों के विरोध के कारण सरकार द्वारा इस निर्णय को वापस लिया गया था। वैश्य महासंघ के संभागीय संगठन मंत्री सतीशचंद्र अग्रवाल ने कहा कि इस निर्णय से प्रदेश के शाकाहारी परिवारो के नौनिहालो को हमारी संस्कृति से दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। यह हमारी परम्परा सनातन व्यवस्था को खण्ड करने का दुर्भाग्य पूर्ण निर्णय है । वैश्य महासंघ के माध्यम से धर्माचारीयो तथा शाकाहारी प्रेमियो द्वारा भी अपना विरोध प्रदेश सरकार तक पहुंचाया जा रहा है। वैश्य महासंघ म:प्र: द्वारा सम्पूर्ण समाजों द्वारा ज्ञापन के माध्यम से इस निर्णय को तत्काल प्रभाव से वापिस लेने की मांग की गई। आज वैश्य महा सम्मेलन के पदाधिकारीयों द्वारा एसडीएम सत्यनारायण दर्रो को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन देने वालों में हेमन्त खटोड़, दामोदर खंडेलवाल,मनोज खंडेलवाल, पूनीत खंडेलवाल, सुनील अग्रवाल, श्रेतांबर जैन समाज से समीरमल जैन, पारसमल नवलखा, राहुल खटोड़, मनोज ओरा दिंगबर जैन समाज से पारसमल कासलीवाल, विपीन गंगवाल, जितेन्द्र जैन, संदीप जैन,वीरेन्द्र जैन,राजू सोनी, दिनेश सारण, सुबहु जैन, कैलाश काशमीया, आशा सालवी, सूरमा मौर्य, सहीत कई समाजजन मोजूद थे।


Post A Comment:

0 comments: