दसई/जयंतीधामजयंती~~ देवी धाम पर्यावरण एवं जल संरक्षण के क्षेत्र में एक मॉडल के रूप में विकसित हुआ~~

जगदीश चौधरी खिलेडी 6261395702~~

जहां आस्था तो दिखी ही है परिश्रम भी उभरा है।युवाओं के अथक प्रयासों ने पत्थर में भी फूल खिलौने का जो अदम्य साहस दिखाया है वह अनुकरणीय है।पहाड़ियों का बंजरपन जब हरियाली के रूप में छाया तो समूचा इलाका आज किसी बड़े पर्यटन स्थल सा लग रहा है। अन्य पर्वो के अलावा महाशिवरात्रि पर ऊंडेश्वर धाम में साक्षात भगवान भोलेनाथ नटराज मनमोहक नृत्य करते नजर आते हैं ।यही वजह है कि हजारों भक्तों का सैलाब शिवरात्रि पर उमड़ता है।
दसई लाबरिया मार्ग पर सड़क से महज आधा किलोमीटर दूर ऊंडेश्वर धाम है ।यहां एक छोर पर शक्ति स्वरूपा मां जयंती का दिव्य धाम है तो शिवस्वरूप ऊंडेश्वर नाथ दूसरे छोर पर विराजमान है ।दोनों के बीच कलकल बहती उंडवा नदी के छोर प्राकृतिक दृश्यों,पहाड़ों,वृक्षों से आच्छादित है।लगातार हो रहे श्रम कार्यों से सुंदरता निखरती जा रही है ।युवाओं के तन, मन, धन और जन सहयोग से विकास कार्यों का जो सिलसिला चल पड़ा है वह अबाध गति से जारी है।
शिवरात्रि पर्व पर सुबह से दूरदराज के भक्तों का ऊंडेश्वर धाम आना आरंभ हुआ था। श्रद्धालुओं ने जल,बेलपत्र आदि अर्पण पर शिव आराधना की। लघु रुद्र का पाठ पंडितों ने कर धार्मिक आयोजनों की शुरुआत की। इसके साथ ही अभिषेक के बाद भोलेनाथ का उज्जैन महाकाल की तरह भव्य श्रंगार किया गया। सेवा समिति जयंती धाम द्वारा पर्यावरण ,गो सेवा, सामाजिक कार्यों एवं पत्रकारिता के माध्यम से जन सेवा करने वालों का सम्मान किया। श्री भगवान भाई पाटीदार (पर्यावरण क्षेत्र )श्री अशोक सिंह रघुवंशी (गोसेवा )भरत पाटीदार( समाज सेवा) एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में अमृत लाल मारू  को प्रशस्ति पत्र भेंट कर अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर अतिथियों ने पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में समिति द्वारा की गई सेवा को अमूल्य बताया ।आयोजन में समिति के पर्यावरण मित्र रामकरण पटेल द्वारा दानदाताओं द्वारा दी गई सहयोग राशि पटल पर रखी ।समिति के सुरेश भूत, दशरथ पाटीदार ,विष्णु पाटील, गोपाल भालोड़, ओमप्रकाश धराड़वाला ,संजय विश्वकर्मा, गजेंद्र पुराणिक आदि का सहयोग सराहनीय रहा।


Post A Comment:

0 comments: