दसई~~दसई में विश्व शांति के लिए होगा शिवशक्ति महायज्ञ  महाकुंभ जिसमें आएगी कई बड़ी हस्तियां~~

जगदीश चौधरी खिलेडी 6261395702`~


दसई हरि कथा,सत्संग,यज्ञ आदि ईश्वर की कृपा के बिना संभव नहीं हो पाते।जब हरि इच्छा बलवान होती है तभी भाग्यशाली अवसर आते हैं।अवसर भी मिल जाता है तो यह महत्वपूर्ण होता है कि आयोजन कितना भव्य हो? धार्मिक आयोजनों में अव्वल साढे़ बारह हनुमानों की नगरी दसई में आगामी मई माह में इच्छापुर्ण हनुमान मंदिर के नवनिर्मित गुंबद एवं सभागृह के निमित्त बड़ा आयोजन होने जा रहा है। आयोजन की रूपरेखा के साथ ही कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत मंगलवार को हुई।

ऐतिहासिक है मंदिर- दसई के दक्षिण-पश्चिम भाग में बनी अति प्राचीन बावड़ी गंगाजलिया के नाम से जानी जाती है।कभी गर्मी के सीजन में भी छलोछल भरी रहने वाली गंगा जलिया अल्प वर्षा और अन्य जल स्त्रोतों के बन जाने से गर्मी में अपेक्षाकृत खाली रहती है।गंगाजलिया के ठीक सामने लगभग 13 फीट ऊंची दक्षिणमुखी वीर हनुमान जी की मूर्ति है जिनके एक हाथ में पर्वत तो दूसरे हाथ में विशालकाय गदा है।पैरों के नीचे राक्षसी दबी हुई है। इतनी विशालकाय मूर्ति कहते हैं कोसों दूर भी दुर्लभ है। यहां प्रति मंगलवार को दिनभर संगीतमय सुंदरकांड तो रात्रि को सादा आयोजन होता है।शनिवार को भी बड़ी संख्या में भक्त अपने कष्टों के निवारणार्थ यहां जूट कर मन्नतें मांगते हैं।प्रति मंगलवार इच्छापूर्ण धाम गंगाजलिया में आयोजित हो रहे अभिषेक,हवन पूजन कार्यक्रम के चलते हनुमान भक्तों का आयोजन के प्रति लगातार रुझान बढ़ता जा रहा है। 8 अगस्त 2008 से अनवरत चल रहे इस कार्यक्रम की तर्ज तारखेड़ी विश्व मंगल धाम की तरह तैयार की गई है।इसके अलावा यहां प्रति मंगलवार को रात्रि मे 1970 से अखंड सुंदरकांड जारी है।अन्य धार्मिक पर्वो पर भी यहां आयोजन होते हैं। हनुमान जन्मोत्सव पर चेत्र पूर्णिमा के दिन सुंदर आयोजन के साथ ही मंदिर परिसर में आठ दिवसीय मेले का भी आयोजन प्रति वर्ष होता है जिसमें आए हुए भक्तों,दुकानदारों की इच्छा हनुमान जी अवश्य पूर्ण करते हैं इसीलिए लोग इन्हें इच्छापूर्ण के नाम से जानते हैं। हाल ही के वर्षों में युवा टीम द्वारा आयोजित विशेष अभिषेक के आयोजन के बाद यहां नव निर्माण की आवश्यकता हुई जो मंदिर एवं सभा गृह निर्माण के बाद पूरी हुई है।मई माह में इसके निमित्त 10 दिवसीय विशिष्ट आयोजन होंगे।

सजेगा बाबा का दरबार-

नवनिर्मित मंदिर की प्रतिष्ठा एवं अन्य आयोजनों के निमित्त 10 मई से लेकर 20 मई तक शिवशक्ति महायज्ञ का आयोजन होगा।इस दौरान ख्यात संतों के प्रवचन,व्याख्यानमाला सहित 24 स्तरीय आयोजन होंगे।राष्ट्रीय संत मुरारी बापू,अवधेशानंद जी, कमल किशोर जी नागर, युगपुरुष परमानंद जी महाराज,साध्वी ऋतंभरा जी सहित अन्य संतों से समिति ने संपर्क किया है उन से शीघ्र ही मार्गदर्शन और आयोजन की तारीख मिलने की उम्मीद है। कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने के लिए 25 फरवरी मंगलवार को आयोजित सुंदरकांड,हवन में बखतपुरा की शिवप्रताप मंडल सुंदरकांड समिति ने संगीतमय प्रस्तुति दी जिससे भक्त भावविभोर हो गए।आयोजन में विभिन्न समाजों के अध्यक्ष,वरिष्ठ जन शामिल हुए और अपने विचार एवं सुझाव रखे।बैठक के दौरान यज्ञ पर बैठने वालों ने भी बोली में हिस्सा लेकर अपनी यजमानी तय की।आगामी 11 मार्च को शेष बचे प्रधान कुंड सहित अन्य कुंडो,स्वर्ण कलश, अभिषेक, ध्वजा आदि की बोली लगेगी।

कार्यक्रम का संचालन जीवन पाटीदार सर ने किया।इस अवसर पर आयोजन समिति के सदस्य,आमंत्रित गणमान्य  नागरिक,विभिन्न समाजों के प्रमुख,पत्रकारगण सहित विभिन्न समाजों के लोग उपस्थित थे। बैठक के बाद प्रसाद स्वरूप सहभोज का आयोजन हुआ।


Post A Comment:

0 comments: