खेतिया~ 21 दिन के लाकडाउन के चलते हैं खेतिया शहर में आज सुबह बाजारों में बहुत अधिक भीड़ देखी गई, ~~

शासन के दिशानिर्देशों का पूरी तरह से उल्लंघन~~

खेतिया से प्रमोद पंड्या कि रिपोट~

खेतिया~ 21 दिन के लाकडाउन के चलते हैं खेतिया शहर में आज सुबह बाजारों में बहुत अधिक भीड़ देखी गई, जहां शासन के दिशानिर्देशों का पूरी तरह से उल्लंघन होता रहा प्रशासनिक अधिकारी नागरिकों को सलाह समझाइश देते रहे किंतु नागरिक अवहेलना ही करते रहे शहर में दवाई दुकानों के सामने भीड़ अवश्य लगी रही जिनमें दवाई खरीदने वाले कम और लाक डाउन देखने वाले  अधिक दिखाई दे रहे थे ,वहीं कुछ जगह इलेक्ट्रिकल इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानें भी खुली देखी। नागरिकों की बड़ी भीड़ देखकर प्रशासन ने समझाइश देकर उन्हें घरों की ओर रवाना किया।कुछ दुकानदार द्वारा अधिक मूल्य पर समान विक्रय किये जाने की भी सूचनाये है,परिवहन बन्द होने से भाव बढ़ने लगे है, प्रशासन के आदेशों के तहत दुकानों के खुलने का समय बढ़ा दिया गया है ताकि किसी को भी आवश्यक वस्तु की कमी महसूस ना हो किंतु इसी के चलते शहर के बहुत सारे लोग यहां वहां तफरी करते रहे वही खेतिया से लगे ग्रामीण इलाकों में ग्राम वासियों ने स्वयं ही व्यवस्थाएं संभाली उन्होंने अपने संसाधनों के माध्यम से ग्रामों की प्रवेश सीमाएं बंद कर दी है व खुद खड़े होकर लोगों को रोक रहे वहीं प्रशासन के सहयोग से विभिन्न ग्रामों में मुनादी भी की जा रही खेतिया से जुड़े ग्रामीण भाग के बंदरियाबड़ व धावड़ी से जुड़े महाराष्ट्र के मार्ग को पूरी तरह बंद कर दिया है वही धावडी, राखी बुजुर्ग ,बन्द्रीयबड़, मल्फा,मोरतलाई, आमझिरी सहित अनेक ग्रामों में अपनी सीमाएं बंद कर ग्रामीणों ने घर पर ही रहना प्रारंभ किया है।
खेतिया शहर की सीमा महाराष्ट्र से जुड़ी है अतः यहां सख्त कदम उठाए जाने की आवश्यकता अवश्य महसूस हो रही है प्रशासन पर्याप्त एहतियात बरत रहा है। जनपद पंचायत पानसेमल क्षेत्र में ग्रामीण क्षेत्रों में 540 नागरिक अन्य जगहों से ग्रामों में आए हैं जिन की प्रारंभिक जांच की गई उन्हें स्वस्थ पाया गया है, वही खेतिया शहर में विभिन्न वार्डों में पार्षदों ,नगर पंचायत कर्मचारी व आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा इस बाबत जानकारी एकत्रित करने के साथ-साथ लोगों को बचाव के लिए सुझाव भी दिए जा रहे हैं



Post A Comment:

0 comments: