*झाबुआ~जानलेवा टायर प्लांट*~~

*गुजरात में रोक लगी थी तो मध्यप्रदेश के मेघनगर में बढ़ गई टायर से ऑयल निकालने की अवैध फैक्ट्रियां*~~

*वायु प्रदूषण से मेघनगर व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में कई गंभीर बीमारियां ले रही जन्म*~~

*टायर ऑयल प्लांट के धुएं से बढ़ रहे कैंसर, दमा और एलर्जी के मरीज,*~~

झाबुआ से दशरथ सिंह कट्ठा की रिपोर्ट~~

झाबुआ - झाबुआ जिले के मेघनगर औद्योगिक क्षेत्र में ज्यादातर टायर ऑयल प्लांट नियमों को ताक पर रख कर चल रहे हैं। गुजरात में बैन हो चुके कई प्लांट समीपस्थ राज्य मध्यप्रदेश के मेघनगर औद्योगिक क्षेत्र में बस गए हैं। मेघनगर औद्योगिक क्षेत्र में वाम ऊर्जा महाकालेश्वर एवं कैलीबर टायर प्लांटों से निकलने वाले जहरीले धुएं से लोगों का दम घुट रहा है। जिससे यहां के निवासियों को एलर्जी, दमा व कैंसर जैसी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। मेघनगर के आसपास 4 टायर ऑयल प्लांट हैं, जिनमें सभी प्लांट नियमों पर खरे नहीं उतरते हैं। इन यूनिटों में आगजनी बॉयलर फटने की कई घटना हो चुकी है लेकिन शासन-प्रशासन को शिकायत के बाद भी इसकी सुध नही ली जा रही है।

*वायु प्रदूषण से मेघनगर व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में कई गंभीर बीमारियां ले रही जन्म*

टायर को जलाने से निकलने वाले धुएं आसपास शहरी क्षेत्र व गांवों में धुआं फैल जाता है। सुबह व शाम के समय जब हवा का दबाव कम होता है, उस समय दिक्कत और बढ़ जाती है फुटतलाव, गुर्जरपाड़ा राखड़ीया गांव के लोग कई बार इन प्लांट को बंद कराने के लिए प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं। ग्रामीणों का कहना है कि प्लांट से निकलने वाले धुएं से लोगों का दम घुट रहा है। इन प्लांट से निकलने वाली कार्बन मोनाआक्साइड, सल्फर आक्साइड,आक्साइड आफ नाइट्रोजन व हैवी मेटलस से गंभीर बीमारियां फैलने का खतरा बना हुआ है। कम निवेश पर ज्यादा मुनाफा होने के कारण लोग इस काम के पीछे भागते हैं। इससे मानव शरीर को होने वाले नुकसान की कोई परवाह नहीं करता। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर फिलहाल नए टायर ऑयल प्लांट लगाने पर रोक लगी हुई है। वहीं पहले से चल रहे प्लांट के लिए शर्तें लागू की हैं, जिससे प्रदूषण का असर कम हो सके। नियमों के अनुसार हवा को साफ करने के लिए यंत्र लगाना अनिवार्य होता है। लेकिन उक्त कारखाना में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के किसी भी मापदंड का ध्यान नहीं रखते हुए शासन प्रशासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जाती है। अब यह देखना बहुत महत्वपूर्ण होगा कि शासन-प्रशासन को जेब में रखने का दावा रखने वाले या टायर प्लांट पर शासन प्रशासन किस तरह की कार्रवाई करता है।

क्या कहते अधिकारी.....
वर्जन....
डॉक्टर का कहना है कि लगातार वायु प्रदूषण से मेघनगर में कैंसर अस्थमा त्वचा संबंधित रोग बढ़ रहे हैं निश्चित रूप से वायु प्रदूषण मेघनगर में दिनोंदिन फैलता जा रहा है।
*डॉ. सेलक्सी वर्मा मेघनगर*

वर्जन.......
मुझे मेघनगर 3 टायर जलाने वाली फैक्ट्रीयो की शिकायत प्राप्त हुई है जल्द ही संयुक्त टीम बनाकर कार्रवाई की जाएगी।

*मेघनगर अनुविभागीय अधिकारी पराग जैन*


Post A Comment:

0 comments: